Photobucket
बेटी व्याही, तो समझो गंगा नहाये
सुनकर लगा था कभी
जैसे कोई पाप पानी मे बहा आये

बचपन से क्षीण परिभाष्य
हर दर, हर ठौर, भारित आश्रय
एक कोमल बेल सी मान
हर पल एक मोंढ़ा* गढते
थक गई थी
अनदेखे
अनबूझे
अनचाहे
सहायक अवरोधों पर चढते चढते

फ़िर हुआ कन्या दान
एक पक्ष
अपने दायित्व से मुक्त
दूसरा पक्ष
धन और दो अतिरिक्त हाथों से युक्त

परन्तु क्या बदला है
घर
गांव
अडोस-पडोस
अवलम्बन
बाकी सब वही है
एक बेल को उखाड कर
दूसरी जगह रोपा
एक भार दूसरे को सोंपा
बेल पनपेगी,
पल्लवित होगी
पर कौन जाने
कितनी सबल बनेगी ?
क्या जनेगी ?
कोमल बेल
या
मोंढ़ा

उसी से उसका आंकलन होगा
देखें आज का दुल्हा कल क्या कहाता है
मुक्त रहता है, या गंगा नहाता है

(*मोढा = लकडी का सम्बल जो कोमल बेल को चढने के लिये लगाया जाता है)

18 comments:

  1. बहुत अच्छी कविता। एक बेटी के दर्द को अच्छा पकड़ा है आपने

    उत्तर देंहटाएं
  2. पंकज तिवारी27 सितंबर 2008 को 7:46 am

    परिपूर्ण कविता है।
    उसी से उसका आंकलन होगा
    देखें आज का दुल्हा कल क्या कहाता है
    मुक्त रहता है, या गंगा नहाता है

    उत्तर देंहटाएं
  3. "bhut dil se likhe gye bhav hain, pr sach hai aaj ka dulha kya kehta hai ye ek sval hai"

    Regards

    उत्तर देंहटाएं
  4. जब दिल से कोई बात निकलती है तो एसी ही कविता में परिणित हो जाती है..

    उत्तर देंहटाएं
  5. इस कविता महसूस कर सका।

    उत्तर देंहटाएं
  6. परन्तु क्या बदला है? इस सवाल का उत्तर पता नहीं कब मिलेगा।
    देखें आज का दुल्हा कल क्या कहाता है
    मुक्त रहता है, या गंगा नहाता है
    बहुत अच्छी कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  7. मोहिन्दर जी,

    आप वैसे भी कोमल भावनाओं के कुशल चितेरे हैं।
    इस कविता की कई पंक्तियाँ सीधे प्रहार करती हैं:

    "बेटी व्याही, तो समझो गंगा नहाये
    सुनकर लगा था कभी
    जैसे कोई पाप पानी मे बहा आये"

    "एक पक्ष
    अपने दायित्व से मुक्त
    दूसरा पक्ष
    धन और दो अतिरिक्त हाथों से युक्त"


    "बेल पनपेगी,
    पल्लवित होगी
    पर कौन जाने
    कितनी सबल बनेगी"

    "उसी से उसका आंकलन होगा
    देखें आज का दुल्हा कल क्या कहाता है
    मुक्त रहता है, या गंगा नहाता है"

    बेहद सशक्त रचना के लिये बधाई स्वीकारें।

    ***राजीव रंजन प्रसाद

    उत्तर देंहटाएं
  8. उसी से उसका आंकलन होगा
    देखें आज का दुल्हा कल क्या कहाता है
    मुक्त रहता है, या गंगा नहाता है

    बहुत अच्छी कविता। बधाई मोहिन्दर जी...

    उत्तर देंहटाएं
  9. मोहिंदर जी ,
    कविता ने दिल को छू लिया. यह प्रसंग ही ऐसा है भावुक कर देने वाला. सुंदर प्रस्तुति के लिए बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  10. कविता एक माध्यम है, मन की भावनाओं और सामाजिक विद्रूपताओं को व्यक्त करने का। आपकी यह कविता इस लिहाज से लाजवाब है। यह पंक्तियाँ तो बहुत ही सुन्दर हैं-

    उसी से उसका आंकलन होगा
    देखें आज का दुल्हा कल क्या कहाता है
    मुक्त रहता है, या गंगा नहाता है।

    बहुत-बहुत बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  11. देखें आज का दुल्हा कल क्या कहाता है
    मुक्त रहता है, या गंगा नहाता है



    मोहिंदर जी

    सुंदर प्रस्तुति..

    बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  12. हमेशा के तरह.. रंग में हैं मोहिंदर जी... कितनी सरलता से कह गये आप अपनी बात..
    सशक्त और सार्थक कविता...

    उत्तर देंहटाएं
  13. सुनकर लगा था कभी
    जैसे कोई पाप पानी मे बहा आये

    bahut hi sundar kavita.. waqai choo liya aap ne dil..khaas taur se ant jis tarah se kiya hai. us mein ek baap ki majbori, saamajik vyavastha par prashn, beti ki peeda..sab kuch hai...badi shaktishaali kavita...
    badhai se zyada main dhanyavaad dena chahungaa

    उत्तर देंहटाएं
  14. काश !मोढ़ों की फ़सल को घुन लग जाए।
    मोहिंदर जी की कविता बेल- लताओं के लिये फूल सी और मोढ़ों के लिये शूल सिद्ध हो।
    इसी बलवती आशा के साथ ,

    प्रवीण पंडित

    उत्तर देंहटाएं
  15. नमस्ते मोहिन्दर जी,
    आपकी कविता बहुत सुन्दर है। आपने एक बहुत ही नाज़ुक विषय को उठाया है। ये weblink भेजने के लिये धन्यवाद।

    सन्ध्या भगत
    अटलाँटा

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget