Photobucket
चलो चाँद नापते हैं
तुम ज़रा सूरज वाली चलना
मैं ज़मीन की तरफ का सिरा पकड़ती हूँ
देखो आँखें ना भींच लेना रास्ते में
बहुत रोशनी है आगे
ज़रा सा रास्ता भूले तो किसी उल्का में फँस जाओगे
फिर मुझे सिरा पकड़ के उल्टा चलना पड़ेगा
कितना अच्छा हो ना कि उस वक़्त
तुम पीछे से आके मुझे चौंका दो!मैं सैय्यार की ज़मीन पे गिरते गिरते बचूँ
और तुम मुझे थाम के
चाँद कि ज़मीन पे बिठा दो
और फिर धुआँ हो जाए हर नाप--सिरा
कोई डोर ना बचे दरमियाँ……और फिर चाँद नापे
दूरियाँ हमारे बीच की
मगर सिरा ना ढूँढ पाए
कुछ ऐसे भी एक बार मोहब्बत करते हैं
चलो चाँद नापते हैं

19 comments:

  1. पंकज सक्सेना23 सितंबर 2008 को 1:10 pm

    बहुत सुन्दर सोच है। इस परिकल्पना में खो ही गया। भई खूब!

    उत्तर देंहटाएं
  2. और फिर चाँद नापे
    दूरियाँ हमारे बीच की
    मगर सिरा ना ढूँढ पाए
    कुछ ऐसे भी एक बार मोहब्बत करते हैं
    चलो चाँद नापते हैं
    "ytharth se bhut dur ek anokhee kalpna, jo semmohet kertee hai, bhut he sunder, "

    Regards

    उत्तर देंहटाएं
  3. धुआँ हो जाए हर नाप-ओ-सिरा
    कोई डोर ना बचे दरमियाँ……
    और फिर चाँद नापे
    दूरियाँ हमारे बीच की
    मगर सिरा ना ढूँढ पाए


    एक हसीन सपने से.....
    साक्षात्कार कराने के लियें ..

    आपका आभारी है मन.......

    बहुत सुंदर..

    बधाई..

    गीता पंडित

    उत्तर देंहटाएं
  4. और फिर धुआँ हो जाए हर नाप-ओ-सिरा
    कोई डोर ना बचे दरमियाँ……
    और फिर चाँद नापे
    दूरियाँ हमारे बीच की
    मगर सिरा ना ढूँढ पाए
    कुछ ऐसे भी एक बार मोहब्बत करते हैं
    चलो चाँद नापते हैं

    जबरदस्त कल्पनाशक्ति है आपमें। रचना खूबसूरत बिम्बों से सजी है किंतु कोमल अनुभूति को पाठक तक संप्रेषित करने में पूर्णत: सक्षम:


    ***राजीव रंजन प्रसाद

    उत्तर देंहटाएं
  5. उपासना जी,

    यहां तो नापते नापते नपने वाली बात हो गई..प्यार में तो अकसर यही होता है..ढूंदने निकलते हैं और खुद खो जाते हैं.
    बढिया भाव भरी रचना

    उत्तर देंहटाएं
  6. चलो चाँद नापते हैं
    तुम ज़रा सूरज वाली ओर चलना
    मैं ज़मीन की तरफ का सिरा पकड़ती हूँ
    देखो आँखें ना भींच लेना रास्ते में
    बहुत रोशनी है आगे
    बहुत सुन्दर और प्यारी सी कल्पना है। सुन्दर शब्द योजना और सुन्दर भावाभिव्यक्ति।

    उत्तर देंहटाएं
  7. चलो चांद नापते है....
    पढी...
    एक बार .....
    दो बार्.....
    तीन बार.....
    ढूंढा..... सार
    विचार......
    व्यवहार....
    चांद ढूंढा....
    और तो और चांद नापने वालों को भी ढूंढा
    पर मुझे इस कविता में यह सब कुछ नहीं मिला...
    मुझे मिला... प्यार...
    प्यार की पुकार और और कल्पन अपार
    वास्तव में कविता हुई साकार...
    आपका ढेर सारा आभार....
    नमस्कार...
    सतकार....

    उत्तर देंहटाएं
  8. वास्‍तव में सब
    कविता की उपासना
    में खो गए
    जैसे खोते हैं प्रेम में।

    यह भी न सोचा
    कि नापने चले थे चांद
    नापने लगे दूरी
    धरती से चांद की।

    चांद नापना
    आसान है क्‍या
    पहले उसका
    केन्‍द्र बिन्‍दु
    करना होगा ज्ञात
    फिर बनाना होगा
    व्‍यास एक खास
    नापी जाएगी दूरी
    हर दिल से कि
    चांद दिल के
    कितना पास है
    कितनी दूर है
    गणितीय होती हुई भी
    अगणितीय है यह प्रक्रिया
    देखना है कि
    कितने नापते हैं और
    नपते हैं कितने
    या नपता है चांद
    या धरती से चांद
    की दूरी
    पहले तलाश लो
    धुरी
    यह है बहुत
    जरूरी।

    उत्तर देंहटाएं
  9. और तुम मुझे थाम के
    चाँद कि ज़मीन पे बिठा दो
    और फिर धुआँ हो जाए हर नाप-ओ-सिरा
    कोई डोर ना बचे दरमियाँ……
    और फिर चाँद नापे
    दूरियाँ हमारे बीच की
    मगर सिरा ना ढूँढ पाए
    कुछ ऐसे भी एक बार मोहब्बत करते हैं
    चलो चाँद नापते हैं




    बहुत खूब .गुल्ज़रिश अंदाज की ये नज़्म बहुत कुछ कह जाती है ओर बहुत कुछ अनकहा छोड़ जाती है.....

    उत्तर देंहटाएं
  10. कुछ ऐसे भी एक बार मोहब्बत करते हैं
    चलो चाँद नापते हैं

    दिल की बात बखूबी कही है आपनें...

    उत्तर देंहटाएं
  11. सुंदर कल्पना है! वैसे चाँद भी दूरियाँ कहाँ खोज पायेगा - पिय मेरे, मैं पीउ की, दोऊ भये एकरंग !
    बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  12. कुछ ऐसे भी एक बार मोहब्बत करते हैं
    चलो चाँद नापते हैं

    बहुत अच्छी कविता है।

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत ही सुंदर कविता... बहुत बहुत बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  14. इस रचना के बारे में क्या कहूँ।

    मूक हूँ , साथ हीं साथ मंत्रमुग्ध भी।

    ऎसा प्रयोग बिरले हीं देखने को मिलता है।

    बधाई स्वीकारें।

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget