Photobucket

उम्र भर तड़पे सहर के वास्ते
बिक गये जो एक घर के वास्ते।

वो परिंदा कब तलक लड़ता भला
था कफ़स में उम्र भर के वास्ते।

घिस गया माथा दुआ करते हुए
उम्र भर तड़पे असर के वास्ते।

मेरे मौला रात लंबी खत्म कर
अब उजाला कर सफ़र के वास्ते।

कितने बदले हैं किराए के मकान
छ्त्त बना पाये न सर के वास्ते।

हम तो हैं बस मील के पत्थर ख्याल
जिंदगी है रहगुजर के वास्ते।

22 comments:

  1. सतपाल जी बहुत अच्छी गज़ल है, विशेषकर ये शेर:

    उम्र भर तड़पे सहर के वास्ते
    बिक गये जो एक घर के वास्ते।

    कितने बदले हैं किराए के मकान
    छ्त्त बना पाये न सर के वास्ते।

    हम तो हैं बस मील के पत्थर ख्याल
    जिंदगी है रहगुजर के वास्ते।

    बधाई स्वीकारें।

    ***राजीव रंजन प्रसाद

    उत्तर देंहटाएं
  2. मेरे मौला रात लंबी खत्म कर
    अब उजाला कर सफ़र के वास्ते।

    कितने बदले हैं किराए के मकान
    छ्त्त बना पाये न सर के वास्ते।
    bahut sunder

    उत्तर देंहटाएं
  3. हम तो हैं बस मील के पत्थर ख्याल
    जिंदगी है रहगुजर के वास्ते।

    बहुत बढ़िया गजल.

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ही बढिया गजल है।बधाई स्वीकारें।

    उत्तर देंहटाएं
  5. हम तो हैं बस मील के पत्थर ख्याल
    जिंदगी है रहगुजर के वास्ते...
    bhavapoorn gagal ke dhanyawad. badhai.

    उत्तर देंहटाएं
  6. वाह! वाह! क्या शेर कहे हैं जनाब

    उम्र भर तड़पे सहर के वास्ते
    बिक गये जो एक घर के वास्ते।

    बहुत खूब...

    घिस गया माथा दुआ करते हुए
    उम्र भर तड़पे असर के वास्ते।

    वाह! वाह! गजब का शेर है जनाब

    कितने बदले हैं किराए के मकान
    छ्त्त बना पाये न सर के वास्ते।

    वास्तविकत से रूबरू कराता हुआ हर शेर आप बधाई के पात्र हैं

    उत्तर देंहटाएं
  7. कितने बदले हैं किराए के मकान
    छ्त्त बना पाये न सर के वास्ते।
    टोपी खरीद ली होती ?

    यह कम नहीं है कि रह रहे हैं किराए के घर में

    कम नहीं हैं जो रह रहे हैं फुटपाथ पर शहर में

    उत्तर देंहटाएं
  8. 'घिस गया माथा दुआ करते हुए
    उम्र भर तड़पे असर के वास्ते।'
    बहुत ख़ूब सतपाल जी। बहुत ही ख़ूब!
    इतनी अच्छी ग़ज़ल पढ़वाने के लिये राजीव जी को भी हार्दिक धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  9. घिस गया माथा दुआ करते हुए
    उम्र भर तड़पे असर के वास्ते।

    मेरे मौला रात लंबी खत्म कर
    अब उजाला कर सफ़र के वास्ते।


    हम तो हैं बस मील के पत्थर ख्याल
    जिंदगी है रहगुजर के वास्ते।


    सतपाल जी ! बहुत अच्छी गज़ल...
    बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. घिस गया माथा दुआ करते हुए
    उम्र भर तड़पे असर के वास्ते।

    badhiyaa baat kahi satpal saahab...ek halki fulki magar goodh artho wali ghazal... shukriya..:-)

    उत्तर देंहटाएं
  11. पंकज सक्सेना28 सितंबर 2008 को 9:03 pm

    वाह सतपाल जी कमाल की गज़ल है। बस तींस शेरों में उम्र का रिपीट होना खटकता है। गजल बहुत अच्छी है।

    उत्तर देंहटाएं
  12. सतपाल जी! ज़िंदगी से जुड़ी बातों को बहुत सादगी से मुख्तलिफ़ अशआर में पिरोया है आपने. हाँ, एक ही गज़ल में ’उम्र भर तड़पे’ का दोबारा प्रयोग, गज़ल की खूबसूरती को कम करता लगा.

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत ही उम्दा गजल प्रस्तुत की है, वाह!!!

    उम्र भर तड़पे सहर के वास्ते
    बिक गये जो एक घर के वास्ते।

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत अच्छी प्रस्तुति है। गज़ल पर आपकी पकड बहुत अच्छी प्रतीत होती है, आपके निजी ब्ळॉग पर भी आपकी रचनायें पढ कर यह तो कहा ही जा सकता है। इस गज़ल के कई शेर बहुत अच्छे बन पडे हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  15. सतपाल जी,

    छोटे बहर की खूबसूरत गजल के लिये बधाई. गहरी बातें साफ़ सहज लफ़्जों में कह देना एक बहुत बडी खासियत है इस गजल की

    उत्तर देंहटाएं
  16. कितने बदले हैं किराए के मकान
    छ्त्त बना पाये न सर के वास्ते।
    टोपी खरीद ली होती ?

    यह कम नहीं है कि रह रहे हैं किराए के घर में

    कम नहीं हैं जो रह रहे हैं फुटपाथ पर शहर में

    itne khoobsurat comment ke liye aabhaari hooN. aane wale samay me ho sakta hai topian hi khariidnee paRe.Kaho to ek aapke liye bhi khreed ke rakh looN.

    Thanks again.

    उत्तर देंहटाएं
  17. उम्दा गज़ल है। रदीफ़, काफ़िया दुरूस्त है। बहर के बारे में बता नहीं सकता(अभी सीख रहा हूँ)

    पंकज सक्सेना जी की बात पर ध्यान दीजियेगा।

    बधाईयाँ।

    उत्तर देंहटाएं
  18. बेहद ख़ूबसूरत ग़ज़ल--हर शेर नायाब ।
    सतपाल जी ! मील का पत्थर कोई यूं ही नहीं बन जाता

    प्रवीण पंडित

    उत्तर देंहटाएं
  19. घिस गया माथा दुआ करते हुए
    उम्र भर तड़पे असर के वास्ते।

    satpal ji aapki gazal ko padhne ka to hamesha hi intezaar rahta hai

    kisi ek sher ko achha kahana mushkil hai magar jaise ye sher yaad hi ho gaya ho nazren tik gayi ho

    dua main asar bhi hota hai suna to tha
    jane kyu meri dua puri nahi hoti

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget