वे एक वरिष्ठ कवि हैं। शहर में उनका नाम है। कई फिल्मों और भजनों के एल्बमों के लिये गीत लिख चुके हैं। उनकी अल्मारी कई तरह के सम्मान प्रतीकों से भरी पड़ी है। यहां तक पहुंचने के लिये उन्हें लम्बा संघर्ष करना पड़ा है।

पिछले साल एक पारिवारिक किस्म की संस्था ने उन्हें साहित्य - सेवा के लिये पुरस्कार दिया। यह संस्था उस किस्म की थी जिसके लिये इस तरह के पुरस्कार देना एक शगल की तरह था और उनके लिये पुरस्कार पाने वाले की कोई अहमियत नहीं थी। अहमियत थी उनकी जो इन पुरस्कारों को देने के बहाने मंच पर सवार होते थे। लेखक तो बेचारे सामने श्रोताओं में से उठ कर पुरस्कार लेने आते थे।

अब संकट यह हुआ कि इन कवि जी को दूसरा पुरस्कार दिया गया था जो कि सिर्फ पांच हजार का था। ग्यारह हजार का पहला पुरस्कार किसी गुमनाम शहर के गुमनाम किस्म के लेखक के हिस्से में आया था और संस्था के नियमों के अनुसार मंच से अपनी बात भी पहले पुरस्कार विजेता के रूप में उसी लेखक को कहनी थी।

कवि महोदय कसमसा रहे थे। यह साफ - साफ उनका और उनकी दीर्घ साहित्य - साधना का अपमान था। उन्हें अज्ञात शहर के अज्ञात लेखक से भी एक सीढ़ी नीचे मान लिया गया था।पुरस्कार तो वे खैर ले आये लेकिन दुखी मन से। अपनी व्यथा मित्रों के बीच अलग - अलग तरीके से व्यक्त कर ही चुके थे लेकिन मन पर रखा बोझ किसी तरह कम नहीं हो रहा था। यह पहली बार हो रहा था कि वे पुरस्कृत भी हुए, दुखी भी।

तभी गुजरात में भयंकर भूकंप आ गया जिस में हजारों लोगों की जान गयी। पूरी की पूरी बस्तियां तबाह हो गयीं। पूरे देश ने खुले हाथों से पीडित व्यक्तियों की मदद करनी शुरु कर दी।

कवि जी ने आव देखा न ताव, पुरस्कार में मिले पांच हजार रूपए भूकंप सहायता कोष में जमा करा दिये और शहर के सभी समाचार पत्रों में प्रमुखता से छपवा दिया - कवि जी ने फलां संस्था से मिले दूसरे पुरस्कार की पांच हजार की राशि भूकंप सहायता कोष में दान कर दी।

सभी समाचार पत्रों में अपनी तस्वीर के साथ छपी आशय की खबर पढ क़र उनके सीने पर इतने दिनों से रखा पत्थर अब हट चुका था।

17 comments:

  1. सूरज प्रकाश की रचनाएं अक्सर रोचकता लिये रहती हैं, फिर एक अच्छी रचना पढने मिली।

    उत्तर देंहटाएं
  2. ऐसा ही कुछ अंदाज शोभा का है, यहाँ रिश्तेदारों से बहुत से वस्तुएं भेंट में मिलती है। जो रुचिकर न हों उन्हें वह दान कर देती है, अपने आस पास काम करने वालों को।

    उत्तर देंहटाएं
  3. आदरणीय सूरज प्रकाश जी की कहानी हमेशा उस 'दूसरे दृष्टिकोण' पर ही होती है। साधारण सी लगने वाली घटना कैसे असाधारण कहानी बन सकती है यह सूरज प्रकाश जी की लेखनी से बेहतर कौन जानता है...

    ***राजीव रंजन प्रसाद

    उत्तर देंहटाएं
  4. खाली इनाम से कुछ नहीं होता...नाम भी तो होंना चाहिए....

    रोचकता से भरपूर बढिया कहानी..

    उत्तर देंहटाएं
  5. पंकज सक्सेना3 अक्तूबर 2008 को 8:34 am

    रोचक अऔर सच्चाई को प्रस्तुत करती हुई कहानी।

    उत्तर देंहटाएं
  6. सूरज जी,

    कभी कभी नाम..ईनाम से बडा होता है.. और वो भी जब ईनाम पैसे की शक्ल में हो..और खीज या इर्श्या में आदमी क्या कर सकता है इसका एक बढिया उदाहरण है आपकी यह रचना... आभार

    उत्तर देंहटाएं
  7. अलग सोच के साथ प्रस्तुत सुन्दर कहानी।

    उत्तर देंहटाएं
  8. nice story, it is a truth.

    Alok Kataria

    उत्तर देंहटाएं
  9. साहित्यकार-समाज भी सोच के सीमित दायरे के भीतर ही है। अच्छी कहानी..

    उत्तर देंहटाएं
  10. नाम,पहचान और प्रशंशा के लोभ से ऊपर उठ पाना विरले ही किसी के लिए सम्भव होता है.बहुत सुंदर ढंग से कहानी में यह दर्शाया गया है.बहुत ही सुंदर कथा है.

    उत्तर देंहटाएं
  11. अहं-तुष्टि के अपने अपने तरीक़े हैं।

    क्या वाक़ई, इस बनावटी तरीक़े से संतुष्ट हो जाते हैं लोग।
    कम शब्दों मे भी भरपूर रोचकता बनी रही कथा में।
    प्रवीण पंडित

    उत्तर देंहटाएं
  12. कहानी उन लोगों का सही प्रतिनिधित्व करती है जो नाम पाने ,अखबारों में छपने की मानसिकता लिये हुए हैं और वो उसके लिये कुछ भी करने को तत्पर रहते हैं। सार्थक..........

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत अच्छे से एक साधारण घटना को
    कहानी का रूप दे देना, सच में ,एक कला है....

    बधाई....

    उत्तर देंहटाएं
  14. प्राण शर्मा3 अक्तूबर 2008 को 11:11 pm

    Priy Raajiv jee, Prasidh kathakar Suraj Prakash ne laghu kahani "Andaz apna-apna" kuchh is saadhgee se bunee hai ki unhen dheron badhaaeean dene ko jee chaahtaa hai.Kahne ko to kahani chhotee hai lekin kathaanak kee drishti se bahut badee hai

    उत्तर देंहटाएं
  15. सचमुच अंदाज़ तो हर एक का अपना-अपना ही होता है. सूरजप्रकाश जी का ये अंदाज़ भी बहुत अच्छा लगा!

    उत्तर देंहटाएं
  16. हा हा हा बहुत बढ़िया. समाचार पत्र में फोटो देखने के लिए न जाने कितने साहित्यकार क्या क्या करते हैं. यह तो ज्यादा महंगा सौदा नहीं रहा. अच्छी कथा.

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget