Photobucket
धूप आने दो हमारे पास
सूरज है हमारा भी

तुम हमारी ही जड़ों से
ख़ाद पानी चूस कर
इतरा रहे हो ?
दर्प की हर शाख से
हमको कुचलते जा रहे हो
और कितने झोपड़ों को
यों उजाड़ोगे.. ....?

'सत्तासुन्दरी' का साथ पाने के लिये…
महल आलीशान की हर नींव में
है दबा कोई हमारा भी
धूप आने दो हमारे पास
सूरज है हमारा भी

बाढ़ या सूखा
हमें ही उजड़ना क्यों है
मगरमच्छी आंसुओं में
हर बार हमको डूबना क्यों है
स्वर्ग वासी नियामक
हम 'स्वर्गवासी' हैं
'दूरदर्शन' महाप्रिय प्रभु
दर्शन दूर से ही दो
बन्द मुट्ठी में हवा है
अरे उसको छोड़ दो
आपके इस कुटिल सत्ता खेल में
घर उजड़ता है हमारा भी
धूप आने दो हमारे पास
सूरज है हमारा भी

आस्था के सेतु को
कौटिल्यता से छोड़ दो
युगों से ‘जाग्रत-धरा’ की
‘भावना’ को छोड़ दो
हर न्याय के उपहास को
अपने लिये अब छोड़ दो
अन्यथा…
तूफान आने दो हमारे पास
यौवन है हमारा भी
धूप आने दो हमारे पास
सूरज है हमारा भी।

20 comments:

  1. धूप आने दो हमारे पास
    सूरज है हमारा भी...


    -इतना ही पूरा है..वाह!! क्या बात है!

    उत्तर देंहटाएं
  2. कबिता के भीतर कई कवितायें हैं और सभी बेहतरीन।

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह! कविता में जो प्रतीकार्थ है वो निश्चय ही प्रभावी है. सुंदर भावः और सुंदर भाषा . कवि को बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  4. एक कविता
    जो अहसास
    कराती है
    पूरी शिद्दत
    के साथ
    गुनगुनाहट और
    गरमाहट का।

    उत्तर देंहटाएं
  5. तूफान आने दो हमारे पास

    यौवन है हमारा भी

    धूप आने दो हमारे पास

    सूरज है हमारा भी।

    bahut sunder rachana

    makrand-bhagwat.blogspot.com
    i am not as good writer i am just to blog
    need u r guidence if u visit and see my post

    उत्तर देंहटाएं
  6. श्रीकांत जी, मैं कविता के मर्म तक नही पहुँच पाया! कविता और बेहतर प्रस्तुतिकरण की माँग कर रही है शायद! आख़िरी पेरा में आपकी- कलाम की धार के दर्शन होते हैं पर अर्थ बड़ा उलझा हुआ सा लगा..!

    उत्तर देंहटाएं
  7. श्रीकांत जी की कविता की आलंकारिकता की बात ही अलग है। दृष्टिकोण तो प्रथम दो पंक्तियों में ही स्पष्ट हो जाता है किंतु साथ ही कविता अपने चरम पर आशावादिता और क्रांति का जो शंखनाद करती है वह बहुत प्रभावी पंक्तियों द्वारा प्रस्तुत हुआ है।

    ***राजीव रंजन प्रसाद

    उत्तर देंहटाएं
  8. पंकज सक्सेना5 अक्तूबर 2008 को 5:05 pm

    बहुत अच्छी कविता, आज के समय में सार्थक।

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत अच्छी कविता, बधाई श्रीकांत जी।

    उत्तर देंहटाएं
  10. धूप आने दो हमारे पास
    सूरज है हमारा भी


    बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  11. स्नेही मित्रो
    रचना के प्रति आपके स्नेह से सिक्त हूँ ..... साथ ही प्रिय विपुल जी का विशेष आभार.

    जहाँ टिप्पणी का प्रश्न है मैं सहमत हूँ कि प्रत्येक रचना का प्रस्तुतीकरण सदैव पहले से बेहतर किया जा सकता है. रही बात अर्थ को लेकर तो मेरा मंतव्य यही है कि वर्ग विशेष द्वारा शोषण और सर्वारक्षण की, अब इंतहा हो चुकी है. यदि यह वर्ग मेरे इन शब्दों की गहराई में छिपी आज के नववंचित युवा पीढ़ी की चेतावनी को शीघ्रातिशीघ्र पढ़ ले तो देश और समाज के भविष्य के लिए है अच्छा होगा.... अन्यथा सुविधाभोगी सर्वारक्षितवर्ग हमारे देश और समाज को किस चौराहे तक पहुंचा चुका है यह सर्वविदित ही है. जैसा कि राजीव जी की टिप्पणी से भी स्पष्ट है

    आप सबके स्नेह के प्रति पुनः आभार

    उत्तर देंहटाएं
  12. श्रीकांत जी! हर बार की तरह इस बार फिर आपकी एक बहुत सुंदर कविता पढ़ने को मिली. आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  13. श्रीकांत जी!
    मकरंद प्रथम दो पंक्तियों से ही झरने लगता है-सूरज है हमारा भी-।
    अलंकारिक जागरण है आपकी रचना।

    प्रवीण पंडित

    उत्तर देंहटाएं
  14. सूरज है हमारा भी।

    बहुत उम्दा | एक दम मजबूत बात कही | अधिकार , हक भीख में नही मांगे जाते .. न जताए जाते हैं.. बस छीन लिए जाते हैं | दलित तभी तक दलित है , जब तक वो ख़ुद को दलित समझता है | ह्रदय से निकली कविता ह्रदय तक पहुँची | बहुत बधाई | :-)

    उत्तर देंहटाएं
  15. श्रीकान्त जी,
    हर शब्द में एक संदेश है..
    कम से कम मूलभूत सुविधायें तो जन जन तक पहुंचाना हम सब का कर्तव्य है..
    सुन्दर रचना के लिये आभार

    उत्तर देंहटाएं
  16. धूप आने दो हमारे पास
    सूरज है हमारा भी

    वाह....सुंदर...

    श्रीकांत जी !
    बधाई...

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget