दीपक खुशी से झूम उठा जब उसने सुबह के अखबार में पढा कि उसकी चहेती कवयित्री सुधा दीक्षित भी उसके शहर में शाम को होने वाले कवि-सम्मलेन में हिस्सा ले रही है| पत्रिका "सुरभि" में उसके प्रेमगीत पढ़ -पढ़ कर वह उसका फैन यानि दीवाना हो गया था| हर बार उसके प्रेमगीत के साथ उसका मनमोहक चित्र अभिनेत्री ऐश्वर्य राय से कतई कम नहीं लगता था| "शाम को जब मैं उस साक्षात यौवना को देखूंगा तो राम जाने मेरी दशा क्या होगी! उसके अनुपम सौन्दर्य को देख कर मैं तो पागल ही हो जाऊंगा" धड़कते दिल से उसने सोचा।

बड़ी मुश्किल से शाम हुई. कवि-सम्मलेन शुरू होने में अभी एक घंटा रहता था, लेकिन दीपक हाल में पहुँच चुका था। सबसे पहले पहुँचने वाला वह ही था। मंच के पास उसने सीट संभाल ली थी। इंतज़ार की घड़ियाँ ख़त्म हुईं। कवि-सम्मलेन शुरू हुआ। कवि-कवयित्रियाँ सभी मंच पर विराजमान हो गए थे. दीपक की प्यासी नज़रों ने कवयित्री सुधा दीक्षित को ढूँढना शुरू कर दिया था। वह कहीं दिखाई नहीं दे रही थी। कुछ कवि और कवयित्रिओं के काव्य-पाठ करने के पश्चात जब संचालक ने सुधा दीक्षित को प्रेमगीत पढ़ने के लिए अनुरोध किया तो वह रोमांचित हो उठा, लेकिन ये क्या, सुधा दीक्षित तो अधेड़ उम्र की महिला थी। दीपक अपना माथा पीट कर रह गया।

17 comments:

  1. अब ऊम्र तो हरेक मनुष्य के जीवन का अटल सत्य है !
    जो जिस जगह है, वही उसका सच !
    पर, कहानी मेँ मानसिकता का सही रुपाँकन हुआ है
    - लावण्या

    उत्तर देंहटाएं
  2. हम भी एक बार ऐसे ही माथा पीट चुके हैं...हा हा!! कैसा तुषारापात!!! कि तुषाराघात!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. दीपक के बेचारेपन को बहुत खूबसूरती से आपने प्रस्तुत किया है। लघुकथा बहुत कुछ कह गयी।

    उत्तर देंहटाएं
  4. कल्पना और वास्तविकता दोनों को बहुत अच्छी तरह से कहानी स्पष्ट करती है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. आदरणीय प्राण शर्मा जी,

    साहित्य शिल्पी पर आपकी उपस्थिति उत्साहित करने वाली है। बहुत सीखने को मिलेगा आपसे। कितने साधारण शब्दों में एक आम स्वप्न/सोच/घटना को आपने लघुकथा का स्वरूप दिया...पढ कर पाठक जिस सोच के साथ छूटता है वह इस लघुकथा को विशेष बनाता है।

    ***राजीव रंजन प्रसाद

    उत्तर देंहटाएं
  6. यह आम है, हाथी के दिखाने वाले दाँत से उत्साहित होने के बाद खाने वाले दाँत देखे जाने का सुन्दर प्रस्तुतिकरण।

    उत्तर देंहटाएं
  7. "OH! imagination always doesnt relate with the reality, good example'

    regards

    उत्तर देंहटाएं
  8. लघुकथा में ऐसी प्राण प्रतिष्‍ठा करी
    कि दीपक तो शर्मा कर बुझ ही गया।

    उत्तर देंहटाएं
  9. प्राण जी,

    सपने सुहाने लडकपन के ..और सपने हमेशा वास्तविकता से बेहतर होते हैं.. जब तक उन्हें मनवांछित वास्तविकता में बदल नहीं दिया जाता.

    उत्तर देंहटाएं
  10. भाव बढिया है।
    रोचकता पर थोड़ा और काम किया जा सकता था। पहला पैराग्राफ़ खत्म होते हीं क्लाईमेक्स का आईडिया लग जाता है, इसलिए लघुकथा उतनी रोचक नहीं रह पाती,जितनी होनी चाहिए।

    उत्तर देंहटाएं
  11. कला कोई भी हो,संबंधित व्यक्तित्व की पृष्ठभूमि मे न झांका जाए ,तो अच्छा।
    कल्पना जाने कितना झकझोर दे?

    प्रवीण पंडित

    उत्तर देंहटाएं
  12. "साहित्य शिल्पी" पर श्री प्राण शर्मा जी की लघु कथा
    पढ़ी बेहद पसन्द आयी कई बार भूले भटके आदमी को
    अपना माथा पीटना पड़ता है
    इस पर दो शेयर पेश करता हूँ
    फ़ोन पर तो दिल्लगी उनसे हुआ करती रही
    सामने आये जो फिर तकरार ही जाती रही
    "चाँद" थे बेताब जिनसे हमकलामी के लिए
    जब मिले वोह कुव्वते गुफ्तार ही जाती रही
    चाँद शुक्ला हदियाबादी
    डेनमार्क

    उत्तर देंहटाएं
  13. सुंदर प्रस्तुति है। लघु-कथा लिखने का मनोरंजक एवं विशिष्ट ढ़ंग है जिसमें गहन विषयों को थोड़े शब्दों में समझाने का प्रयत्न किया जाता है। प्राण शर्मा जी की इस लघु-कथा में कथावस्तु, उद्देश्य और शैली का सफल और सुंदर संयोजन है।

    उत्तर देंहटाएं
  14. सहज-सरल भाषा में
    एक अच्छी अभिव्यक्ति
    लघु-कथा के माध्यम से....

    दीपक जी !
    बधाई....

    उत्तर देंहटाएं
  15. वास्तविकता और कल्पना दोनों को बहुत अच्छी तरह से लघु कथा स्पष्ट करती है। बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  16. दिल का खिलौना... हाय टूट गया....

    "सपने तो सपने होते है....
    वो भला कहाँ अपने होत हैँ?"...

    इस बात सत्यापित करती हुई प्राण शर्मा जी की लघु कथा पसन्द आई....

    तालियाँ

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget