Photobucket

आग नफ़रत की लगा कर तिलियाँ ख़ुश हो गईं
आशियाने को जला कर बिजलियाँ ख़ुश हो गईं

नाँव में रक्खे उन्होंने जाल देखे ही नहीं
बस मछेरे देखते ही मछलियाँ ख़ुश हो गईं

छीनकर पल में सहारा एक अबला का यहाँ
दानवों के तन पे जैसे वर्दियाँ ख़ुश हो गईं

ये ही क्या कम है कि एसे भी कोई खुश तो हुआ
मुझसे ख़ुशियाँ छीनकर के आँधियाँ ख़ुश हो गईं

एक दिन उपवास रख कर और माथा टेक कर
शायद उनको ये भरम है देवियाँ ख़ुश हो गईं

19 comments:

  1. दिनेश रघुवंशी जी को पढना सु:खद रहा। बहुत अच्छी गज़ल।

    उत्तर देंहटाएं
  2. आग नफ़रत की लगा कर तिलियाँ ख़ुश हो गईं
    आशियाने को जला कर बिजलियाँ ख़ुश हो गईं

    बहुत अच्छी गज़ल। दिनेश रघुवंशी जी को सुना तो बहुत है, पढने का सौभाग्य पहली बार मिला।

    उत्तर देंहटाएं
  3. vere nice gazal. Dinesh ji is not only a good presenter but a good shair too.

    Alok Kataria

    उत्तर देंहटाएं
  4. एक एक शेर शायर का परिचय दे रहा है।

    आग नफ़रत की लगा कर तिलियाँ ख़ुश हो गईं
    आशियाने को जला कर बिजलियाँ ख़ुश हो गईं

    ये ही क्या कम है कि एसे भी कोई खुश तो हुआ
    मुझसे ख़ुशियाँ छीनकर के आँधियाँ ख़ुश हो गईं

    बहुत खूब। दिनेश रघुवंशी जी को निरंतर पढने का अवसर प्राप्त होगा, यह अपेक्षा है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. पंकज सक्सेना10 अक्तूबर 2008 को 7:19 am

    एक दिन उपवास रख कर और माथा टेक कर
    शायद उनको ये भरम है देवियाँ ख़ुश हो गईं

    वाह, क्या बात है। दिनेश जी की आवाज में भी गज़ल लगाईये, आनंद चार गुना हो जायेगा।

    उत्तर देंहटाएं
  6. छीनकर पल में सहारा एक अबला का यहाँ
    दानवों के तन पे जैसे वर्दियाँ ख़ुश हो गईं

    एक दिन उपवास रख कर और माथा टेक कर
    शायद उनको ये भरम है देवियाँ ख़ुश हो गईं

    बहुत अच्छी गज़ल। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  7. आदरणीय दिनेश रघुवंशी जी,


    आप वैसे भी हर दिल अजीज़ हैं। आपकी प्रस्तुत गज़ल से इसके कारण का भी पता चल जाता है। बहुत साधारण शब्द, आम से लगने वाले बिम्ब और इतनी गहरी गहरी बातों का प्रस्तुतिकरण आपकी कलम की विशेषता बयां कर रहा है।

    नाँव में रक्खे उन्होंने जाल देखे ही नहीं
    बस मछेरे देखते ही मछलियाँ ख़ुश हो गईं

    छीनकर पल में सहारा एक अबला का यहाँ
    दानवों के तन पे जैसे वर्दियाँ ख़ुश हो गईं

    एक दिन उपवास रख कर और माथा टेक कर
    शायद उनको ये भरम है देवियाँ ख़ुश हो गईं

    बधाई स्वीकारें।

    ***राजीव रंजन प्रसाद

    उत्तर देंहटाएं
  8. आग नफ़रत की लगा कर तिलियाँ ख़ुश हो गईं
    आशियाने को जला कर बिजलियाँ ख़ुश हो गईं
    बहुत सुंदर...

    उत्तर देंहटाएं
  9. ghazal achhi hai.. bhaav bhi achhe hain..
    bas kuch jagah kuchh alfaaz beher mein bithaane ke liye zabran lagaay huye se lage...

    jis wajah se padhne ki lay mein rukavat si mehsoos hui...

    उत्तर देंहटाएं
  10. नाँव में रक्खे उन्होंने जाल देखे ही नहीं
    बस मछेरे देखते ही मछलियाँ ख़ुश हो गईं

    यह शेर ज़रा उलझा हुआ सा लगा.. मछेरे को देखकर मछलियाँ खुश क्यों होंगी भला ?
    आख़िरी शेर दमदार था.. मज़ा आया दिनेश जी..

    उत्तर देंहटाएं
  11. दिनेश जी,

    सभी शेर दमदार हैं.. बहुत से भ्रम पाल कर बहुत से लोग खुश हैं मगर हकीकत क्या है आप ने बयां कर दी.....

    उत्तर देंहटाएं
  12. लाजवाब।
    खुश हो लेने दीजिये, मछलियों से भी हक़ीक़त अब ज़्यादा दूर नहीं है।

    प्रवीण पंडित

    उत्तर देंहटाएं
  13. एक दिन उपवास रख कर और माथा टेक कर
    शायद उनको ये भरम है देवियाँ ख़ुश हो गईं
    वाह! दिनेश जी. एक ही शेर सौ के बराबर है. बहुत बढ़िया. बधाई स्वीकारें. सस्नेह.

    उत्तर देंहटाएं
  14. सुंदर गजल
    लेकिन अंतिम शेर का जवाब नहीं

    उत्तर देंहटाएं
  15. वाह एक एक शेर का जबाब नही फ़िर भी विशेष उल्लेख के लिए

    एक दिन उपवास रख कर और माथा टेक कर
    शायद उनको ये भरम है देवियाँ ख़ुश हो गईं

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत खूब रचना है जनाब बधाई स्वीकार कारें खास कर
    एक दिन उपवास रख कर और माथा टेक कर
    शायद उनको ये भरम है देवियाँ ख़ुश हो गईं
    वाह वाह
    मजा आ गया...

    उत्तर देंहटाएं
  17. एक दिन उपवास रख कर और माथा टेक कर
    शायद उनको ये भरम है देवियाँ ख़ुश हो गईं
    ati sundar..

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत अच्छी रचना sir...बधाई
    आपको 16 जनवरी को लाल किले पर सुनने का सुअवसर प्राप्त हुआ...बहुत- हुत आभार....

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget