Photobucket

बीती रात का सपना, छिपा ही रह जाये,
तो वो, सपना, सपना नहीँ रहता है!
पायलिया के घूँघरू, ना बाजेँ तो,
फिर,पायल पायल कहाँ रहती है?
बिन पँखोँ की उडान आखिरी हद तक,
साँस रोक कर देखे वो दिवा- स्वप्न भी,
पल भर मेँ लगाये पाँख, पँखेरु से उड,
ना जाने कब, हो जाते हैँ !
मन का क्या है? सारा आकाश कम है
भावोँ का उठना, हर लहर लहर पर,
शशि की तम पर पडती, आभा है!

रुपहली रातोँ मेँ खिलतीँ कलियाँ जो,
भाव विभोर, स्निग्धता लिये उर मेँ,
कोमल किसलय के आलिँगन को,
रोक सहज निज प्रणयन उन्मन से
वीत राग उषा का लिये सजाती,
पल पल मेँ, खिलतीँ उपवन में!
मैँ, मन के नयनोँ से उन्हेँ देखती,
राग अहीरों के सुनती, मधुवन में,
वन ज्योत्सना, मनोकामिनी बनी,
गहराते सँवेदन, उर, प्रतिक्षण में!

सुर राग ताल लय के बँधन जो,
फैल रहे हैँ, चार याम,ज्योति कण से,
फिर उठा सुराही पात्र, पिलाये हाला,
कोई आकर, सूने जीवन पथ में!

यह अमृत धार बहे, रसधार, यूँ ही,
कहती में, यह जग जादू घर है !
रात दिवा के द्युती मण्डल की,
यह अक्षुण्ण अमित सीमा रेखा है

29 comments:

  1. मोहक कविता....कहीं कहीं भाव एकदम सहज रूप से लिखे गये हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बीती रात का सपना, छिपा ही रह जाये,
    तो वो, सपना, सपना नहीँ रहता है!

    मन का क्या है? सारा आकाश कम है
    भावोँ का उठना, हर लहर लहर पर,
    शशि की तम पर पडती, आभा है!

    यह अमृत धार बहे, रसधार, यूँ ही,
    कहती में, यह जग जादू घर है !
    रात दिवा के द्युती मण्डल की,
    यह अक्षुण्ण अमित सीमा रेखा है

    बहुत सुन्दर रचना है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. लावण्या जी,

    मन का क्या है? सारा आकाश कम है
    भावोँ का उठना, हर लहर लहर पर,
    शशि की तम पर पडती, आभा है!

    सुन्दर भावाभिव्यक्ति। बहुत अच्छा।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    मुश्किलों से भागने की अपनी फितरत है नहीं।
    कोशिशें गर दिल से हो तो जल उठेगी खुद शमां।।
    www.manoramsuman.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  4. आदरणीया लावण्या जी,

    कविता मन को हरा कर देती है। आपके उपमान और साधारण से लगने वाले शब्दों में कही गयी असाधारण बात कविता को प्रभावी बना रही है

    उत्तर देंहटाएं
  5. Beautiful composition, Nice poster on poem.

    Alok Kataria

    उत्तर देंहटाएं
  6. पंकज सक्सेना13 अक्तूबर 2008 को 8:24 am

    यह अमृत धार बहे, रसधार, यूँ ही,
    कहती में, यह जग जादू घर है !
    रात दिवा के द्युती मण्डल की,
    यह अक्षुण्ण अमित सीमा रेखा है

    अध्भुत।

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुन्दर कविता, मन को छू लेने वाली।

    उत्तर देंहटाएं
  8. इतनी सुंदर कविता कि कहने को शब्द कम पड़ रहे हैं।
    घुघूती बासूती

    उत्तर देंहटाएं
  9. मन का क्या है? सारा आकाश कम है
    भावोँ का उठना, हर लहर लहर पर,
    शशि की तम पर पडती, आभा है!
    "so touching and loving"

    Regards

    उत्तर देंहटाएं
  10. फिर उठा सुराही पात्र, पिलाये हाला,
    कोई आकर, सूने जीवन पथ में...
    सुंदर गीत, जीवन की महत्वपूर्ण आकांक्षा की अभिव्यक्ति।

    उत्तर देंहटाएं
  11. लावण्या जी आपको साहित्य शिल्पी पर देख बहुत ही अच्छा लगा। आपकी रचनाये वैसे ही बहुत ही उतम है बधाई स्वीकारे

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत सुंदर कविता है आपकी लावण्या जी।
    "मन का क्या है? सारा आकाश कम है"

    अति सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  13. सुर राग ताल लय के बँधन जो,
    फैल रहे हैँ, चार याम,ज्योति कण से,
    फिर उठा सुराही पात्र, पिलाये हाला,
    कोई आकर, सूने जीवन पथ में!

    बहुत सुंदर भाव है इस रचना के ..

    उत्तर देंहटाएं
  14. यह अमृत धार बहे, रसधार, यूँ ही

    बहुत बहुत धन्‍यवाद .........

    उत्तर देंहटाएं
  15. bahut sundar bhaav hain DI, saath hi uper likhi BAAUJI ki panktiyaan baar baar padh rahi huun

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत सुन्दर कविता....अच्छा लगा padhkar !

    उत्तर देंहटाएं
  17. मन का क्या है? सारा आकाश कम है
    भावोँ का उठना, हर लहर लहर पर,
    शशि की तम पर पडती, आभा है!

    या फिर
    मैँ, मन के नयनोँ से उन्हेँ देखती,
    राग अहीरों के सुनती, मधुवन में,
    वन ज्योत्सना, मनोकामिनी बनी,
    गहराते सँवेदन, उर, प्रतिक्षण में!

    भावपूर्ण भी और रागपूर्ण भी-सुंदर रचना।

    प्रवीण पंडित

    उत्तर देंहटाएं
  18. रुपहली रातोँ मेँ खिलतीँ कलियाँ जो,

    भाव विभोर, स्निग्धता लिये उर मेँ,

    कोमल किसलय के आलिँगन को,

    रोक सहज निज प्रणयन उन्मन से

    वीत राग उषा का लिये सजाती,

    पल पल मेँ, खिलतीँ उपवन में!

    मैँ, मन के नयनोँ से उन्हेँ देखती,

    राग अहीरों के सुनती, मधुवन में,

    वन ज्योत्सना, मनोकामिनी बनी,

    गहराते सँवेदन, उर, प्रतिक्षण में!.........

    सुंदर शब्दों में गुंथी भावप्रवण मनमोहक रचना है.बहुत ही सुंदर.

    उत्तर देंहटाएं
  19. Yadi main yeh kahun ki Lavnya jee
    kee kavita kathya aur shilp kee
    drishti se anupam hai to koee
    atishyokti nahin.Lavanya jee kee
    kavita padhkar mujhe inke pitashree
    kavivar Pt.Narendra Sharma jee kee
    kavityen yaad aa jaatee hain.

    उत्तर देंहटाएं
  20. यह अमृत धार बहे, रसधार, यूँ ही,

    कहती में, यह जग जादू घर है !

    रात दिवा के द्युती मण्डल की,

    यह अक्षुण्ण अमित सीमा रेखा
    अति सुंदर.

    उत्तर देंहटाएं
  21. आदरणीया लावण्या जी की रचना में न केवल आदरणीय नरेन्द्र शर्मा जी का आभास भी मिलता है अपितु उनके शब्दचयन का कायल हुआ जा सकता है। एसे एसे शब्द जो रचना के स्तर को न केवल उठाते हैं अपितु भावों को भी एक आकाश प्रदान करते हैं। पहली दो पंक्तियाँ तो बस याद रह गयीं:-
    बीती रात का सपना, छिपा ही रह जाये,
    तो वो, सपना, सपना नहीँ रहता है!

    ***राजीव रंजन प्रसाद

    उत्तर देंहटाएं
  22. मनमोहक रचना .... मेरे ब्लॉग पर पधारने हेतु सादर आमंत्रण है

    उत्तर देंहटाएं
  23. गहन अनुभूति, सौंदर्य की व्यापक कल्पना और शब्दों का जादू..... लावण्या जी की कविता
    ने मर्म को छू लिया। वैसे भी बहुमुखी प्रतिभा का विकास लावण्या जी की अनेक दिशाओं में हुआ है। उनकी रचनाएं पढ़ कर अपने उदगारों को व्यक्त करने के लिए उचित शब्दों को ढूंढना कठिन हो जाता है।
    प. नरेन्द्र शर्मा जी और लावण्या जी के चित्र यहां देख कर हृदय और आंखों को बहुत ही अच्छा लग रहा है।

    उत्तर देंहटाएं
  24. आप सभी ने मेरी कविता को पसँद किया उसका सच्चे ह्र्दय से आभार !

    कविता अव्यक्त का प्रसाद है जो रची नहीँ जाती बस खुदबखुद अवतरित होती है ऐसा मेरा अनुभव है ~

    आप सभी से इतना ही विनम्र अनुरोध है कि स्नेह बनाये रखियेगा -

    भाई श्री राजीव रँजन जी का खास धन्यवाद जो उन्होँने चित्रोँ को स्थान दिया है और मेरे स्व. पापा की पँक्तियाँ देखकर ह्र्दय प्रसन्न और भावविभोर है

    ये श्वेत / श्याम फोटोग्राफ्ज़ स्वर कोकिला लता मँगेशकर जी ने खीँचे हैँ और उन्हीँने ये कोलाज बनाकर भेजा भी है !

    स स्नेह,
    -लावण्या

    उत्तर देंहटाएं
  25. बहुत सुंदर रचना लावण्या जी... मन मोह लिया !

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget