Photobucket

पीपल, बरगद, महुआ, नीम,
धीमर, छिप्पी, टौंक, हकीम,
पंडित, ठाकुर, राम, रहीम,
कैसे सबकी बदल गई है देखो तो तकदीर,
गांव गांव में छांव ढूंढता फिरता एक फकीर.

रामू पंडित, भोला धोबी,
दल्लू धीमर, कालू छिप्पी
बलबीरे ठाकुर की खोली
वो बदलू कुम्हार की बोली
जात बताते नाम नहीं ये
व्यक्ति की पहचान बने थे
अब से पहले कभी नही यूं
जात के नाम पे लोग तने थे
कुछ पढे लिखे पैसे वालों ने रची नई तहरीर
गांव गांव में छांव ढूंढता फिरता एक फकीर.

अपनी किस्मत, अपना हिस्सा,
सबका अपना अपना किस्सा,
कोई बडी जमीं का मालिक
कोई बोये बिस्सा बिस्सा,
खेत किसी के किसी की मेहनत
फसलें सब साझी होती थीं
सारे गांव की जनता मिलकर
खेतों में फसलें बोती थीं
ऊंच नीच, बडके छोटे की खिंच गई एक लकीर
गांव गांव में छांव ढूंढता फिरता एक फकीर.

पाठशालाओं के रस्ते अब,
कालेज पहुंच रहे हैं गांव.
सभ्य होने की इस कोशिश में
सभ्यता की डूबी नांव
अफसर, मालिक और अमीर,
बनते देखें गांव के लोग.
धीरे धीरे से हमने अब,
छंटते देखे गांव के लोग
आपसदारी और प्रेम की टूट गई तस्वीर
गांव गांव में छांव ढूंढता फिरता एक फकीर. 

19 comments:

  1. आपसदारी और प्रेम की टूट गई तस्वीर
    गांव गांव में छांव ढूंढता फिरता एक फकीर.

    चित्र प्रस्तुत कर दिया आपनें। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  2. योगेश जी मिट्टी के कवि हैं। जमीन से जुडा रहना और उसे शब्द देना केवल कविता ही नहीं है बल्कि आह्वाहन भी है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. पंकज सक्सेना14 अक्तूबर 2008 को 7:02 am

    गाँव पर ही योगेश जी की पिछली कविता थी, यह कविता भी उसी कडी में एक और बेहतरीन प्रस्तुति है। बहुत सी बाते और समस्यायें भी उकेरी हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत खूब। ठेंठ गँवई शब्दों के प्रयोग ने इस रचना को और सुन्दर बना दिया है।

    कुछ पढे लिखे पैसे वालों ने रची नई तहरीर
    गांव गांव में छांव ढूंढता फिरता एक फकीर.

    वाह। चलिए मैं भी तुक मिला दूँ-

    स्वार्थ घिनौना ऐसा है कि बेची गयी जमीर।
    अलख जगाने आएगा ही फिर से एक फकीर।।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    मुश्किलों से भागने की अपनी फितरत है नहीं।
    कोशिशें गर दिल से हो तो जल उठेगी खुद शमां।।
    www.manoramsuman.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  5. rआपने बखूबी स्थापित किया है कि भारत गाँवों मे ही बसता है। बहुत अच्छी कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुंदर । पर भेद भाव तो तब भी था । जमीदार किसानं की मेहनत खा जाते थे . साहूकार झूटे कागज पर दस्तखत लेकर जमीने हडप लेते थे । जाति के नाम पर कूएँ का पानी नही लेने दिया जाता था और न जाने क्या क्या ।।

    उत्तर देंहटाएं
  7. सत्य का चित्र उकेरती देशीय शब्दों से सजी एक भावपूर्ण रचना

    उत्तर देंहटाएं
  8. गाँव का बहुत ही मर्मिक चित्रण किया है आपने..... आज की वास्तुस्थिति भी यही है.. बधाई स्वीकारें

    उत्तर देंहटाएं
  9. वाह समदर्शी साहब | आज से मुरीद हुए हम आप के | ग़ज़ब की चित्रात्मक शैली है आप की | मन में चित्र उमड़ आता है , गाँव की गलियों में घूमता फिरता एक फकीर गाता चला जा रहा है | इस पर धुन भी बनाई जा सकती है | काफी जमेगी | गाँव से जुड़ी रचनाओं में अक्सर एक खोखली रूमानियत महसूस होती है मुझे | ये एक ओरिजनल प्रयास था और आप निसंदेह सफल हुए उस में | बधाई | :-)

    उत्तर देंहटाएं
  10. A poem that is reality of today. Very nice composition. Thanks.

    Alok Kataria

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत खूब। ....।एक भावपूर्ण रचना बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  12. फकीर के माध्यम से आपने बड़ी हीं गहरी बात कही है। दिमाग कहता है कि सच्चाई यही है लेकिन दिल कहता है कि काश ऎसा न हो।

    बधाई स्वीकारेम।

    उत्तर देंहटाएं
  13. तमाम तरह के चरित्र और तैय्यार सैट , बस शूट करना बाक़ी है ।
    लग रहा है कि किसी ठेठ गांव मे खड़ा हूं ।

    प्रवीण पंडित

    उत्तर देंहटाएं
  14. वाह,बहुत ही सुंदर शब्द संरचना.यथार्थ को चित्रित करती अति सुंदर मनमोहक भावपूर्ण कविता के लिए आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  15. पीपल, बरगद, महुआ, नीम,
    धीमर, छिप्पी, टौंक, हकीम,
    पंडित, ठाकुर, राम, रहीम,
    कैसे सबकी बदल गई है देखो तो तकदीर,
    गांव गांव में छांव ढूंढता फिरता एक फकीर.



    सुन्दर
    प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  16. योगेश जी की कविताओं में मिट्टी की सोंधी खुशबू है। उनकी यह कविता एक घोषणा है कि माटी कलम का विषय अब भी है, और वास्तव में लेखन यही तो है। अपने कवि धर्म का निर्वाह करते हुए योगेश जी गंभीर सवाल भी खडे करते हैं वह भी बिना लाग-लपेट...

    ***राजीव रंजन प्रसाद

    उत्तर देंहटाएं
  17. कविता में इतना धरातल का तल
    ये मेरा मन मिट्टी मिट्टी हो गया
    बेसुध हो मैं सिट्टी पिट्टी खो गया।

    उत्तर देंहटाएं
  18. "सभ्य होने की इस कोशिश में
    सभ्यता की डूबी नांव"

    बहुत बढ़िया कविता योगेश जी. मन को छू गयी. काश हर झुलसे फकीर तो उसकी छाँव जल्द ही नसीब हो और हम सभ्य होने के साथ साथ सभ्यता की नाव को भी डूबने से बचा सकें.

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget