Photobucket

था जुदा होना ही हमको हाथ को मलते कभी
काश कि फुरक़त के लम्हे वक़्त से टलते कभी

आजकल रिश्तों में क्या है, लेने-देने के सिवा
खाली हाथों को यहाँ, दो हाथ न मिलते कभी

थक गये थे तुम जहाँ, वो आख़िरी था इम्तिहाँ
दो कदम मंज़िल थी तेरी, काश तुम चलते कभी

कुरबतें ज़ंज़ीर सी, लगती उसे अब प्यार में
चाहतें रहती जवाँ, गर हिज्र में जलते कभी

कल सिसक के हिन्दी बोली, ए मेरे बेटे कहो
क्यूँ शरम आती है तुमको, जो मुझे लिखते कभी

आजकल मिट्टी वतन की, रोज कहती है मुझे
लौट आओ ए परिंदों, शाम के ढलते कभी

36 comments:

  1. बहुत उम्दा,,, श्रृद्धा जी!! बेहतरीन रचना!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. "कल सिसक के हिन्दी बोली, ए मेरे बेटे कहो
    क्यूँ शरम आती है तुमको, जो मुझे लिखते कभी

    आजकल मिट्टी वतन की, रोज कहती है मुझे
    लौट आओ ए परिंदों, शाम के ढलते कभी"...

    बहुत खूब....उम्दा रचना के लिए धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  3. थक गये थे तुम जहाँ, वो आख़िरी था इम्तिहाँ
    दो कदम मंज़िल थी तेरी, काश तुम चलते कभी

    कल सिसक के हिन्दी बोली, ए मेरे बेटे कहो
    क्यूँ शरम आती है तुमको, जो मुझे लिखते कभी

    बहुत अच्छी रचना। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  4. सभी शेर अच्छे हैं खास कर हिन्दी प्रेम प्रदर्शित करता आपका यह शेर-

    कल सिसक के हिन्दी बोली, ए मेरे बेटे कहो
    क्यूँ शरम आती है तुमको, जो मुझे लिखते कभी

    उत्तर देंहटाएं
  5. पंकज सक्सेना17 अक्तूबर 2008 को 8:32 am

    हर शेर पर वाह वाह कर उठा, बह्त बहुत बधाई इस रचना की।

    उत्तर देंहटाएं
  6. थक गये थे तुम जहाँ, वो आख़िरी था इम्तिहाँ
    दो कदम मंज़िल थी तेरी, काश तुम चलते कभी

    कुरबतें ज़ंज़ीर सी, लगती उसे अब प्यार में
    चाहतें रहती जवाँ, गर हिज्र में जलते कभी

    बहुत अच्छा लिखा है.

    उत्तर देंहटाएं
  7. श्रद्धा जी,
    प्रत्येक शेर अपने आप में एक दर्द की कहानी है. बहुत अच्छी गजल.
    बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  8. श्रद्धा जी,
    बहुत ही अच्छी गज़ल....

    उत्तर देंहटाएं
  9. आजकल रिश्तों में क्या है , लेने देने के सिवा
    खाली हाथों को यहाँ, दो हाथ न मिलते कभी

    रिश्तों की बे-रौनक़ी पर क्या बा-रौनक़ बात कही आपने।

    थक गये थे तुम जहाँ वो आख़िरी था इम्तिहाँ
    दो कदम मंज़िल थी तेरी काश तुम चलते कभी

    एक नाज़ुक़ सा दर्द भरा शेर - छू गया ।
    बहुत खूबसूरत ग़ज़ल कही आपने

    उत्तर देंहटाएं
  10. था जुदा होना ही हमको हाथ को मलते कभी
    काश कि फुरक़त के लम्हे वक़्त से टलते कभी


    थक गये थे तुम जहाँ, वो आख़िरी था इम्तिहाँ
    दो कदम मंज़िल थी तेरी, काश तुम चलते कभी

    कुरबतें ज़ंज़ीर सी, लगती उसे अब प्यार में
    चाहतें रहती जवाँ, गर हिज्र में जलते कभी

    बहुत अच्छी गजल.

    श्रद्धा जी,

    बधाई..

    उत्तर देंहटाएं
  11. आजकल मिट्टी वतन की, रोज कहती है मुझे
    लौट आओ ए परिंदों, शाम के ढलते कभी

    'bhut jaberdast abheevyktee, mind blowing"

    regards

    उत्तर देंहटाएं
  12. कल सिसक के हिन्दी बोली, ए मेरे बेटे कहो
    क्यूँ शरम आती है तुमको, जो मुझे लिखते कभी

    बहुत बढ़िया कहा आपने

    उत्तर देंहटाएं
  13. आजकल मिट्टी वतन की, रोज कहती है मुझे
    लौट आओ ए परिंदों, शाम के ढलते कभी

    बेहतरीन रचना। अंग्रेजी में जैसे हम कहते हैं कि बिल्कुल क्रिस्प रचना। बहुत अच्छे।

    उत्तर देंहटाएं
  14. कल सिसक के हिन्दी बोली, ए मेरे बेटे कहो
    क्यूँ शरम आती है तुमको, जो मुझे लिखते कभी

    बहुत अच्छी गज़ल।

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत अच्छी रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  16. आजकल मिट्टी वतन की, रोज कहती है मुझे
    लौट आओ ए परिंदों, शाम के ढलते कभी
    श्रद्धाजी
    . मैं भी यही कहती हूँ. लौट आओ .

    उत्तर देंहटाएं
  17. हर शब्‍द एक नगीना है
    लगता बहाया पसीना है

    सोचा इतनी गहराई तक
    गहराई तक शमाई अब।

    उत्तर देंहटाएं
  18. Shradha jain kee gazal achchhe
    lagee.kaee ashaar lage ki dil se
    nikle hon.Kuchh khamian hai jinkee
    aur main gazalkara ka dhyaan dilaana chata hoon.Chunki gazalkara
    ne matla yani prarambhik do pankian
    mein "malte"aur "talte"qaafion yani
    tukon kaa elaan kar diya hai isliye
    har sher mein qaafia "Dhalta",
    "Chalta"aur"Khalta"hee aayegaa.
    "Milta"aur"Likhta"nahin.
    Misre mein "Tum"ke liye
    "Teri"kaa prayog anuchit hai.
    Isliye ye misra khariz ho jaataa
    hai----
    Do kadam manzil teree,kash tum
    chalte kabhee
    Sher mein pahle "tera"
    aur phir"tum"likhna Urdu shairee
    mein "Shutar gurbaa"dosh kahlaataa
    hai.

    उत्तर देंहटाएं
  19. श्रद्धा जी,
    मुझे आपकी गजल बहुत अच्छी लगी खास कर यह शेर
    आजकल रिश्तों में क्या है, लेने-देने के सिवा
    खाली हाथों को यहाँ, दो हाथ न मिलते कभी

    आजकल मिट्टी वतन की, रोज कहती है मुझे
    लौट आओ ए परिंदों, शाम के ढलते कभी

    लिखते रहिये

    उत्तर देंहटाएं
  20. श्रद्धा जी,

    आपकी गज़लों के भाव पक्ष का कोई भी कायल हो सकता है। बहुत अच्छी गज़ल है और भावों को संप्रेषित करने में आप पूर्णत: सफल

    थक गये थे तुम जहाँ, वो आख़िरी था इम्तिहाँ
    दो कदम मंज़िल थी तेरी, काश तुम चलते कभी

    कल सिसक के हिन्दी बोली, ए मेरे बेटे कहो
    क्यूँ शरम आती है तुमको, जो मुझे लिखते कभी

    आजकल मिट्टी वतन की, रोज कहती है मुझे
    लौट आओ ए परिंदों, शाम के ढलते कभी

    बहुत आभार इस प्रस्तुतिकरण का।

    ***राजीव रंजन प्रसाद

    उत्तर देंहटाएं
  21. Namskaar pran ji,
    aaj aapka meri gazal tak aana aur use pad kar galtiyan batana jaise main dhany ho gayi ki aapko gazal is layak lagi ki aapne usmain galtiyan batayi

    main aapko mahavir sir ke blog se aur abhivayakti se pad rahi hoon aur aapki gazal aur soch ki kayal rahi hoon

    aapne jo baaten batayi hai wo dosh main door karne ki koshish karungi aur umeed hai aapke margdarshan se main behatar kar paaungi

    ek baar phir se shukriya

    उत्तर देंहटाएं
  22. sameer ji bahut bahut dhanyvaad aapka aana ab zarurat ban gaya hai meri soch ki rawani ke liye, utsaah ke liye
    aate rahe

    उत्तर देंहटाएं
  23. Rajiv ji aapka saath mere saye jaise saath raha hai mere pahle kadam se hi aap saath hai aur aapke bina to main apni koi bhi post ki kalpana hi nahi kar paati

    mere itne busy hone ke baad bhi aap aas pass hi hai ye dekh kar bhaut khushi hui

    apna saath banaye rakhe

    उत्तर देंहटाएं
  24. Nanadan ji aapka gazal ko padna aur sarahana bahut achha laga

    aage bhi aapka saath aur pyar milta rahega umeed hai

    उत्तर देंहटाएं
  25. Shraddha jee,Rajiv Ranjan prasad ji
    ne sahee kahaa hai ki aapkee gazal
    ke bhavpaksh kaa koee bhee kaayal
    ho sakta hai.Aap bahut aage jayengee.Abhyaas mat chhodna.ye
    chotee-motee galtian apne aap door
    hotee jayengee.Aap mein bharpoor
    pratibha hai.Bahar gazal kee reedh
    kee haddi hotee hai.Aapne apnee
    gazal mein ise bahut achchhee tarah
    nibhaya hai.Shubh kamnayen.

    उत्तर देंहटाएं
  26. आजकल रिश्तों में क्या है, लेने-देने के सिवा
    खाली हाथों को यहाँ, दो हाथ न मिलते कभी

    थक गये थे तुम जहाँ, वो आख़िरी था इम्तिहाँ
    दो कदम मंज़िल थी तेरी, काश तुम चलते कभी

    श्रद्धा जी बेहतरीन रचना। बहुत ही अर्थपूर्ण। बधाई। देवी नागरानी जी की पंक्तियाँ याद आ रही है-

    बाजार बन गए हैं चाहत, वफा, मुहब्बत।
    रिश्ते तमाम आखिर सिक्कों में ढल रहे हैं।।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    मुश्किलों से भागने की अपनी फितरत है नहीं।
    कोशिशें गर दिल से हो तो जल उठेगी खुद शमां।।
    www.manoramsuman.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  27. आजकल रिश्तों में क्या है, लेने-देने के सिवा
    खाली हाथों को यहाँ, दो हाथ न मिलते कभी

    थक गये थे तुम जहाँ, वो आख़िरी था इम्तिहाँ
    दो कदम मंज़िल थी तेरी, काश तुम चलते कभी

    श्रद्धा जी बेहतरीन रचना। बहुत ही अर्थपूर्ण। बधाई। देवी नागरानी जी की पंक्तियाँ याद आ रही है-

    बाजार बन गए हैं चाहत, वफा, मुहब्बत।
    रिश्ते तमाम आखिर सिक्कों में ढल रहे हैं।।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    मुश्किलों से भागने की अपनी फितरत है नहीं।
    कोशिशें गर दिल से हो तो जल उठेगी खुद शमां।।
    www.manoramsuman.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  28. आजकल रिश्तों में क्या है, लेने-देने के सिवा
    खाली हाथों को यहाँ, दो हाथ न मिलते कभी

    हर बार की तरह उम्दा।

    उत्तर देंहटाएं
  29. श्रद्धा जैन की गज़ल में गज़ल-विधा की दुष्यंत कुमार परम्परा का हमें प्रसन्न विकास मिलता है। भविष्य के अत्यंत संभावनाशील उत्स यहाँ मौज़ूद हैं। तृप्ति मिली।-सुशील कुमार।

    उत्तर देंहटाएं
  30. आजकल मिट्टी वतन की, रोज कहती है मुझे
    लौट आओ ए परिंदों, शाम के ढलते कभी
    शाएरा के ख्याल खुबसूरत हैं
    ज़बान मैं चाशनी की सी मिठास है
    कुछ कर गुजरने का पुख्ता इरादा है
    अल्लाह करे जोरे कलम और ज़यादा---
    चाँद शुक्ला हदियाबादी
    डेनमार्क

    उत्तर देंहटाएं
  31. थक गये थे तुम जहाँ, वो आख़िरी था इम्तिहाँ
    दो कदम मंज़िल थी तेरी, काश तुम चलते कभी agar sabhi aisa vichar rakhe to jine ki rah aasan ho jaye

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget