Photobucket

जरासंध की जंघाओं से दो फांक हो कर
जुडते हैं इस तरह टुकडे अस्तित्व के
जैसे कि छोटी नदिया गंगा में मिल गयी हो
चाहो तो जाँच कर लो
अब मिल गया है सब कुछ, एक रंग हो गया है
हर हर हुई है गंगे, हर कुछ समा गया है
फिर उठ खडा हुआ हूँ, हिम्मत बटोर ली है
मैं जानता हूँ दुनिया भी भीम हो गयी है
वो दांव-पेंच जानें कि फिर चिरा न जाऊं
लेकिन लडूंगा जब तक सागर में मिल न जाऊं

मैं जानता हूँ कान्हा तुम राज जानते हो
टुकडा उठा के तृण का
दो फांक कर के तुमने उलटा रखा है एसे
जैसे कि वक्त मेरा मुझको छला किये है

मैं मुस्कुरा रहा हूँ
मैं मिटने जा रहा हूँ
तुममें समा रहा हूँ
फिर ये सवाल होगा, क्या मुझसे वक्त जीता?
तुम सोच रखो उत्तर, तुम ठेके हो सत्य के
जब सामना करेंगे मेरे टुकडे अस्तित्व के...

*****

21 comments:

  1. पुरातन को नवीन से जोडना एक नया प्रयोग है उपमा का --
    कविता क भाव पसँद आया राजीव जी
    - लावण्या

    उत्तर देंहटाएं
  2. कविता की सबसे प्रशंसनीय बात है उसकी पृष्ठभूमि। जिस उपमा को कविता का आधार बनाया गया है वह महाभारत में नकारात्मक चरित्र है, बहुत सफाई से उसे आपने नये संदर्भ में पिरो कर ईश्वरीय सत्ता को कटघरे में खडा किया है। बहुत अच्छी कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  3. मैं मुस्कुरा रहा हूँ
    मैं मिटने जा रहा हूँ
    तुममें समा रहा हूँ
    फिर ये सवाल होगा, क्या मुझसे वक्त जीता?
    तुम सोच रखो उत्तर, तुम ठेके हो सत्य के
    जब सामना करेंगे मेरे टुकडे अस्तित्व के...

    बहुत अच्छी कविता। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  4. मैं मुस्कुरा रहा हूँ
    मैं मिटने जा रहा हूँ
    तुममें समा रहा हूँ
    फिर ये सवाल होगा, क्या मुझसे वक्त जीता?
    तुम सोच रखो उत्तर, तुम ठेके हो सत्य के
    जब सामना करेंगे मेरे टुकडे अस्तित्व के...
    बहुत अच्छी कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  5. कालान्तर को मिटा कर अतीत को वर्तमान से जोडना एक कला है और इस रचना में उसे बखूबी निभाया गया है

    उत्तर देंहटाएं
  6. हर हर हुई है गंगे, हर कुछ समा गया है
    फिर उठ खडा हुआ हूँ, हिम्मत बटोर ली है
    मैं जानता हूँ दुनिया भी भीम हो गयी है
    वो दांव-पेंच जानें कि फिर चिरा न जाऊं
    लेकिन लडूंगा जब तक सागर में मिल न जाऊं

    एक एक पंक्ति एक एक क्विंट्ल की हैं,

    बहुत अच्छी कविता।
    बधाई स्वीकारें, राजीव जी।

    उत्तर देंहटाएं
  7. rajeev ranjan ko padna achchha lagta hai. kavita vahi jo sawaal kare apne se bhi aur doosron se bhi..
    ye bechenibani rahe...
    badhai rajeev.

    उत्तर देंहटाएं
  8. very nice poem rajeev jee. like u as always.

    Alok Kataria

    उत्तर देंहटाएं
  9. अच्‍छी रचना हैृ कम से कम शब्‍दों में पूरी बात

    सूरज

    उत्तर देंहटाएं
  10. महाभारत को लेकर

    छोटी सी

    महाकविता का व्‍यापक

    फलक हलक सुखा देता है

    इसे पढ़ना एक लाजवाब

    अनुभव से गुजरना है।

    उत्तर देंहटाएं
  11. कभी पढा एक शेर याद आ गया कि
    " दुनिया वाले सब सच्चे पर जीना है उस को भी , एक गरीब अकेला पापी , किस किस से शरमाये |"
    जरासंघ के सहारे हमारी कहानियों में त्रेता द्वापर से चले आ रहे भगवानों को हाशिये पर लिया है आप ने | और साथ में समर्पण भी है कि मिलना तो वहीं है जा कर .. परमात्मा में | एक आम आदमी का संग्राम दर्शाती हुई कविता ... जो ना तो भगवन है और ना ही कोई नायक...पर उसे जीने का हक़ है और लड़ने का भी |

    उत्तर देंहटाएं
  12. फिर ये सवाल होगा, क्या मुझसे वक्त जीता?

    rajiv ji,
    bahut sundar.
    bhut dino baad aapki kalam me wahi aag dekhne ko mili

    उत्तर देंहटाएं
  13. सभ्यता के निगेटिव चरित्र को लेकर जब कोई
    कविता रची जाती है और उसमें मानव-मूल्यों का संधान किया जाता है तो यह एक ज़ोखिम भरा,किंतु महत्वपूर्ण कार्य होता है। जैसे कि,रावण और कैकेयी को लेकर लिखी गयी कई कविताएँ भी हैं जहाँ मनुष्य के उदात्त मूल्यों की सृष्टि की गयी है। राजीव रंजन प्रसाद की कविता ‘टुकड़े अस्तित्व के’ में भी हम एक ऐसी ही कल्पना से साक्षात्कार करते हैं।यहाँ कविता की अंतर्वस्तु इतिहास को अभिनव रुप में प्रस्तुत करती हुई दृष्टिगत हुई है जिसमें कविता का रुप, उसकी भाषा तदनुसार लक्ष्य करके कवि की संवेदना को अभिव्यक्त करती है। वर्तमान सदैव इतिहास का अंधानुगामी नहीं होता, अपने अनुसार भी सिरजता है,यह कविता उसका अप्रतिम उदाहरण हो सकती है। मानवीय संघर्ष उस ईश्वरता के भी विरुद्ध यहाँ क्रियाशील और सचेष्ट दीखता है जो हमें छ्ल-छ्द्म सीखाते हैं -"फिर ये सवाल होगा, क्या मुझसे वक्त जीता?/तुम सोच रखो उत्तर, तुम ठेके हो सत्य के/जब सामना करेंगे मेरे टुकडे अस्तित्व के..." कविता मानवमन में बैठी जड़ता ,उसके रुढ़ि को तोड़ती हुई, सत्य के ठेकेदारों को चुनौती देती हुई उसके युगीन संघर्ष में शामिल होने की प्रेरणा देती है, उसकी जिजीविषा को उकसाती है। इसे ध्यान से पढ़ने की जरुरत है।अच्छी और संश्लिष्ट अर्थों को उघारती इस कविता के लिये राजीव जी बधाई स्वीकारें।- सुशील कुमार (मो. )ईमेल-

    उत्तर देंहटाएं
  14. Ab mil gayaa haisab kuchh
    ek rang ho gayaa hai
    Har-har huee hai Ganga
    har kuchh samaa gayaa hai
    Phir uth khada hua hoon
    himmat bator lee hai
    Main jaanta hoon dunia
    bhee bheem ho gayee hai
    Vo daanv-pech n jaane
    ki phir chiraa n jaaoon
    lekin ladunga jab tak
    sagar mein mil n jaaoon
    Chhandmukt kavita mein bbhee
    lai hotee hai aapkee kavita iskaa
    prataksh udahran hai.Puraatan
    vishya aur seedhee-sadee aadhunik
    bhasha aapka bahut achchha prayog
    hai.Badhaaee.

    उत्तर देंहटाएं
  15. मैं मुस्कुरा रहा हूँ
    मैं मिटने जा रहा हूँ
    तुममें समा रहा हूँ
    फिर ये सवाल होगा, क्या मुझसे वक्त जीता?
    तुम सोच रखो उत्तर, तुम ठेके हो सत्य के
    जब सामना करेंगे मेरे टुकडे अस्तित्व के...
    वाह बहुत सुन्दर।

    उत्तर देंहटाएं
  16. क्या कहने हैं राजीव जी! क्या पृष्ठभूमि ।है
    अभिभूत हूं ,समय के दूरस्थ छोरों को किस कौशल के साथ बद्ध किया है आपने।
    यह महाभारत उस अकेले का महाभारत है जिसकी अपनी परिभाषाएं हैं और अपने समाधान ।
    चमत्कारी चित्रण ।
    प्रवीण पंडित

    उत्तर देंहटाएं
  17. तुममें समा रहा हूँ
    फिर ये सवाल होगा, क्या मुझसे वक्त जीता?
    तुम सोच रखो उत्तर, तुम ठेके हो सत्य के
    जब सामना करेंगे मेरे टुकडे अस्तित्व के...


    वाह .....बहुत सुन्दर।...

    बधाई स्वीकारें.... राजीव जी !

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget