Photobucket

उस दफ्तर में ज्वाइन करते ही मुझे वहाँ के सब तौर तरीके बता दिए गये थे। मसलन एक हजार से पाँच हजार रूपये तक के मामलों में कितना लेना होता है और उससे बड़े मामलों मे कितना लेना है। यह रकम किस-किसके बीच किस अनुपात में बाँटी जानी है, ये सारी बातें समझा दी गई थीं। किस पार्टी से सावधान रहना है और किन पार्टीयों की फाइलें दबाकर बैठना है, ये सारे सूत्र मुझे रटा दिये गए। मै डर रहा था, ये सब मै कैसे कर पाऊँगा। अगर कहीं पकड़ा गया या परिचितों, यार दोस्तों ने यह बात कहीं सरेआम कह दी तो! लेकिन भीतर ही कहीं खुश भी था कि उपर की आमदनी वाली नौकरी है। खूब गुलछर्रे उड़ाएँगे।

इधर पिताजी अलग खुश थे कि लड़का सेल्स टैक्स में लग गया है, हर साल इस महकमे को जो चढ़ावा चढ़ाना पड़ता है, उससे तो बचेंगे। 

सब कुछ ठीक ठाक चलने लगा था। मै वहाँ के सारे दाँव पेच सीख गया था। बेशर्मी से मैं भी उस तलाब में नंगा हो गया था और पूरी मुस्तैदी से अपना और अपने उपर वालों का घर भरने लगा था। तभी पिताजी ने अपनी दुकान की सेल्स टैक्स की फाइल मुझे दी ताकि केस क्लियर किया जा सके। हालाँकि उनका केस मुझे ही डील करना था, लेकिन मेरे साथी और अफसर कहीं इसका गलत अर्थ न ले लें, मैने वह फाइल अपने साथी को थमा दी और सारी बात बता दी। जब उसने केस अन्दर भेजा तो उसे बुलावा आया। वह जब केबिन से निकला तो उसका चेहरा तमतमाया हुआ था। बहुत पूछने पर उसने सिर्फ इतना कहा कि बॉस ने केस क्लीयर तो कर दिया है पर यह पूछ रहे थे कि क्या यह केस सचमुच तुम्हारे पिताजी का है। या यूँ ही पूरा कमीशन अकेले खाने के लिये उसे बाप बना लिया है।

19 comments:

  1. बहुत गजब!!! ऐसे बाजार में कैसा विश्वास!!!

    आनन्द आ गया.

    आपको एवं आपके परिवार को दीपावली की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाऐं.

    उत्तर देंहटाएं
  2. sales tax or income tax aise vibhag hain janha maya kast adhik hota hai, bas aapke pass maya ke tukde hone chahiye

    narayan narayan

    उत्तर देंहटाएं
  3. कमीशन हर हाल में चाहिए। चाहे बाप ही क्यों न हो।
    दीपावली पर हार्दिक शुभ कामनाएँ।
    यह दीपावली आप के परिवार के लिए सर्वांग समृद्धि लाए।

    उत्तर देंहटाएं
  4. दीप मल्लिका दीपावली - आपके परिवारजनों, मित्रों, स्नेहीजनों व शुभ चिंतकों के लिये सुख, समृद्धि, शांति व धन-वैभव दायक हो॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰ इसी कामना के साथ॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰ दीपावली एवं नव वर्ष की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  5. आज के समय के हिसाब से बहुत ही सटीक कथा।
    वैसे भी इनकम टैक्स एवं सेल्स टैक्स विभाग तो कमिशन खोरी के लिए सबसे अधिक प्रसिद्ध तो हैं ही।
    आपको एवं आपके परिवार को दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  6. कम शब्दों में अधिक संदेश... नंगेपन की कीमत तो कभी न कभी.. कहीं न कहीं चुकानी ही पडती है.

    उत्तर देंहटाएं
  7. सब माया का खेल है।
    बहुत अच्छी कथा।

    अनुराधा

    उत्तर देंहटाएं
  8. वाह! बहुत सुंदर चित्र खिंचा है बाज़ार का . कथा पढ़कर आनंद आ गया.

    उत्तर देंहटाएं
  9. आदरणीय सूरज प्रकाश जी कथाजगत से सूरज ही हैं, उन्हेँ हर बार पढना एक नये दृष्टिकोण को पाना ही होता है। बिलकुल आम सी लगने वाली यह घटना इतनी बेहतरीन लघुकथा भी हो सकती है...बहुत बेहतरीन प्रस्तुति।

    ***राजीव रंजन प्रसाद

    उत्तर देंहटाएं
  10. रिश्वत न मिलने की तल्खी को अच्छा बयाँ किया है आपने। वैसे भी बाप बडा न मैया..

    उत्तर देंहटाएं
  11. कहानी का अंत बहुत प्रभावित करता है। अच्छी कहानी की बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  12. यह निराशा तो स्वाभाविक है। पैसे के लिये बाप बनाये जाने का ही आज चलन है।

    उत्तर देंहटाएं
  13. एक और अच्छी लघुकथा के लिये बधाई। दीवाली की शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  14. वाह.... बहुत सुंदर ..

    आनन्द आया.....

    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाऐं.

    उत्तर देंहटाएं
  15. सूरज जी! सुंदर और प्रभावी लघुकथा पढ़ाने के लिये आभार स्वीकारें!

    उत्तर देंहटाएं
  16. आज के ज़माने के हिसाब से सटीक कहानी...

    उत्तर देंहटाएं
  17. पंकज सक्सेना28 अक्तूबर 2008 को 11:35 am

    सत्य दर्शन। बहुत अच्छी कहानी।

    उत्तर देंहटाएं
  18. बेहतरीन एवं सटीक , सब कमीशन की माया है ।

    प्रवीण पंडित

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget