Photobucket

कल रात छत पर लेटकर, मैं था गगन को देखता
अनगिनत तारों ने मिलकर, था जिसे जगमग किया
इस छोर से उस छोर तक, गुच्छों में बिखरे थे सितारे
आकाश लगता था हो जैसे, बाग इक फूलों भरा
या कोई मेला हों जिसमें, मासूम चेहरे मुस्कुराते
देखता निश्चल पड़ा मैं, दृश्य क्या इसमें नया है
सब नजारे हैं वही, बस इन्सान ही बदल गया है

इतने में देखा क्षितिज पर, चाँद का रथ आ रहा था
उस ओर के तारों ने हटकर, शायद उसे रस्ता दिया था
चाँदनी छिटकी ज़मीं पर, सब अँधेरा मिट गया
रहस्यमय था जो नजारा, फिर से मनमोहक हुआ
दिखने लगा इक बार फिर, वो पेड़ थोड़ी दूर का
जिसकी छाँव में खेलते, कितनों का बचपन गया है
सब नजारे हैं वही, बस इन्सान ही बदल गया है

सोचता था मैं हृदय में, काश हो पाता कुछ ऐसा
इन्सान भी मिलजुल के रहता, आकाश के तारों के जैसा
सर उठा पाते न दंगे, देश धर्म समाज के
सुलझते कितने ही मसले, नासूर हैं जो आज के
पर बदल पायेंगे क्या, इन्सान अपनीं आदतें
सोच वो कि स्वार्थ जिसमें, पैठ अंदर तक गया है
सब नजारे हैं वही, बस इन्सान ही बदल गया है

17 comments:

  1. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. सोचता था मैं हृदय में, काश हो पाता कुछ ऐसा
    इन्सान भी मिलजुल के रहता, आकाश के तारों के जैसा
    सर उठा पाते न दंगे, देश धर्म समाज के
    सुलझते कितने ही मसले, नासूर हैं जो आज के
    पर बदल पायेंगे क्या, इन्सान अपनीं आदतें
    सोच वो कि स्वार्थ जिसमें, पैठ अंदर तक गया है
    सब नजारे हैं वही, बस इन्सान ही बदल गया है

    बहुत अच्छी रचना अजय जी, बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  3. सोचता था मैं हृदय में, काश हो पाता कुछ ऐसा
    इन्सान भी मिलजुल के रहता, आकाश के तारों के जैसा
    सर उठा पाते न दंगे, देश धर्म समाज के
    सुलझते कितने ही मसले, नासूर हैं जो आज के
    " na jane kitne dilon ka dard hai, na jne kitne hee dil aisa chahteyn honge, behtreen'

    regards

    उत्तर देंहटाएं
  4. सोचता था मैं हृदय में, काश हो पाता कुछ ऐसा
    इन्सान भी मिलजुल के रहता, आकाश के तारों के जैसा
    सर उठा पाते न दंगे, देश धर्म समाज के
    सुलझते कितने ही मसले, नासूर हैं जो आज के
    पर बदल पायेंगे क्या, इन्सान अपनीं आदतें

    बहुत सुन्दर पंक्तियाँ हैं, बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  5. एक मासूम अभिव्यक्ति | सुद्रढ़ रूप से कही गयी|
    बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  6. सोचता था मैं हृदय में, काश हो पाता कुछ ऐसा
    इन्सान भी मिलजुल के रहता, आकाश के तारों के जैसा
    सर उठा पाते न दंगे, देश धर्म समाज के
    सुलझते कितने ही मसले, नासूर हैं जो आज के
    पर बदल पायेंगे क्या, इन्सान अपनीं आदतें
    सोच वो कि स्वार्थ जिसमें, पैठ अंदर तक गया है
    सब नजारे हैं वही, बस इन्सान ही बदल गया है
    बहुत अच्छी सोच है. मानवता की की स्थापना के लिए ऐसी सोच बहुत जरुरी है.

    उत्तर देंहटाएं
  7. अजय जी
    बहुत प्रभावी रचना है, हर पंक्ति अर्थपूर्ण और सारगर्भित। पूरी कविता ही उद्धरण के योग्य है।

    ***राजीव रंजन प्रसाद

    उत्तर देंहटाएं
  8. प्रशंसनीय कविता। बहुत सोचपूर्ण।

    उत्तर देंहटाएं
  9. अजय जी,

    काश ऐसा हो पाता जैसा आपने अपनी रचना में चाहा है..सारगर्भित भावभरी रचना के लिये बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत ही अच्छी कविता अजय जी... बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  11. lagta hai raat me taaron ki chadar odh kar aapne yeh kavita likhi hai...pasand aai...

    ---------Anupama

    उत्तर देंहटाएं
  12. सितारों की झिलमिलाती चदरिया।
    भावपूर्ण और अर्थपूर्ण।

    प्रवीण पंडित

    उत्तर देंहटाएं
  13. ajay ji apki kavita padkar bohat achha laga.
    apne kavita me insan ke bare me jo likha wo bilkul satya he aj insan, insan nahi balki kuch aur hi pratit hota he.
    apka apni rachane ke madhaym se hume jo sndesh diya he wo kafi sarahniy hai

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget