Photobucket

उजालों की जानिब कहाँ जिन्दगी है
दहकती सुबह ,खौलता आसमाँ है
चलो ढूँढ़ते हैं गमों का बहाना
बहुत देर से रोशनी का समाँ है ।

बहुत चाँदनी जी चुकी हैं निगाहें
कि आँखों में सीलन है,कोहरा घना है
न अब ख्वाब डालो हमारी नसों में
उनींदे समय को जरा जागना है ।

कहीं और ढूँढ़ें चलो आशियाने
फ़लक पर बहुत रंज बिखरे पड़े हैं
कहाँ तक सितारे बुझाते रहोगे
तुम्हारे शहर में हज़ारों पड़े हैं

खड़े आईनों में कई अजनबी थे
हमें होश आया संभलते-संभलते
बड़ा प्यार था आदमी से खुदा को
फ़रिश्ता हुआ वो बदलते-बदलते

19 comments:

  1. आलोक जी,
    बहुत ही अच्छी कविता... बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत अच्छा लिखा है आलोक शंकर जी आपने।मन भा गया।

    उत्तर देंहटाएं
  3. खड़े आईनों में कई अजनबी थे
    हमें होश आया संभलते-संभलते
    बड़ा प्यार था आदमी से खुदा को
    फ़रिश्ता हुआ वो बदलते-बदलते

    सुन्दर प्रस्तुति। कहते हैं कि-

    मुझे भी उस खुदा की तलाश है।
    जो खुदा हो के भी आदमी सा लगे।।

    आपको दीपावली की शुभकामनाएँ।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    मुश्किलों से भागने की अपनी फितरत है नहीं।
    कोशिशें गर दिल से हो तो जल उठेगी खुद शमां।।
    www.manoramsuman.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  4. कविता स्वयं कह रही है कि वह आलोक शंकर की कलम से उत्पन्न हुई है, एसी कसी हुई रचना, उत्कृष्ट बिम्बों के साथ..

    बड़ा प्यार था आदमी से खुदा को
    फ़रिश्ता हुआ वो बदलते-बदलते

    ***राजीव रंजन प्रसाद

    उत्तर देंहटाएं
  5. खड़े आईनों में कई अजनबी थे
    हमें होश आया संभलते-संभलते
    बड़ा प्यार था आदमी से खुदा को
    फ़रिश्ता हुआ वो बदलते-बदलते
    bahut sundar likha hai. deepawali ki shubh kamnayen.

    उत्तर देंहटाएं
  6. पंकज सक्सेना26 अक्तूबर 2008 को 10:23 pm

    आलोक जी आपका का अंदाज पसंद आया।
    खड़े आईनों में कई अजनबी थे
    हमें होश आया संभलते-संभलते
    बड़ा प्यार था आदमी से खुदा को
    फ़रिश्ता हुआ वो बदलते-बदलते

    बहुत खूब।

    उत्तर देंहटाएं
  7. keep it up, you have capabilities.

    Alok Kataria

    उत्तर देंहटाएं
  8. आलोक जी! बहुत खूबसूरत कविता है!
    न अब ख्वाब डालो हमारी नसों में
    उनींदे समय को जरा जागना है।
    सचमुच अब ख्वाब देखने से काम नहीं चलेगा. हमें जागना ही होगा तभी हम वक़्त के हमकदम चल सकेंगे.
    बधाई, इस सुंदर रचना के लिये!

    उत्तर देंहटाएं
  9. बड़ा प्यार था आदमी से खुदा को
    फ़रिश्ता हुआ वो बदलते-बदलते

    दम है भाई।
    सुन्दर रचना।
    आपको दीपावली की शुभकामनाएँ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. अनूठे बिम्ब लिये सुन्दर रचना..बहुत पसन्द आई...बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  11. जितना कहा जाय , कम रहेगा।
    दूर और देरी तक प्रभाव छोड़ने वाली रचना।

    प्रवीण पंडित

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत चाँदनी जी चुकी हैं निगाहें
    कि आँखों में सीलन है,कोहरा घना है

    कहाँ तक सितारे बुझाते रहोगे
    तुम्हारे शहर में हज़ारों पड़े हैं

    बड़ा प्यार था आदमी से खुदा को
    फ़रिश्ता हुआ वो बदलते-बदलते

    वाह!!

    उत्तर देंहटाएं
  13. हमेशा की तरह एक और बेहतरीन कविता।

    बड़ा प्यार था आदमी से खुदा को
    फ़रिश्ता हुआ वो बदलते-बदलते

    बधाई आलोक जी। दीपावली की शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  14. बड़ा प्यार था आदमी से खुदा को
    फ़रिश्ता हुआ वो बदलते-बदलते

    अच्छी कविता

    आलोक जी,
    बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  15. आलोक जी का एक अपना भाव -शिल्प है , पढ़ते ही उनका परिचय दे जाता है।

    प्रवीण पंडित

    उत्तर देंहटाएं
  16. आलोक जी का एक अपना भाव -शिल्प है , पढ़ते ही उनका परिचय दे जाता है।

    प्रवीण पंडित

    उत्तर देंहटाएं
  17. उजालों की जानिब कहाँ जिन्दगी है
    दहकती सुबह ,खौलता आसमाँ है
    चलो ढूँढ़ते हैं गमों का बहाना
    बहुत देर से रोशनी का समाँ है ।

    बहुत चाँदनी जी चुकी हैं निगाहें
    कि आँखों में सीलन है,कोहरा घना है
    न अब ख्वाब डालो हमारी नसों में
    उनींदे समय को जरा जागना है ।

    कहीं और ढूँढ़ें चलो आशियाने
    फ़लक पर बहुत रंज बिखरे पड़े हैं
    कहाँ तक सितारे बुझाते रहोगे
    तुम्हारे शहर में हज़ारों पड़े हैं

    खड़े आईनों में कई अजनबी थे
    हमें होश आया संभलते-संभलते
    बड़ा प्यार था आदमी से खुदा को
    फ़रिश्ता हुआ वो बदलते-बदलते


    soch raha th akuchh panktiya likhu par sach bahut achi or pakiza rachna

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget