Photobucket

टूटा है दिल
फेविकोल से चिपका लो
चाहो तो रफू करवा लो
चादर से उसे ढक दो
पर दिखने मत दो..

दरारो में दीमक लग जाते हैं
फिर कोई सुई काम ना आएगी
न ही गोंद कोई
बाहर तेज रोशनी हैं
आँखे रोशनी मे भी हो जाती हैं अंधी
खो जाएगा रिश्ता
या फिर बेमानी हो जाएगा तब
कटघरे में खडे तुम और हम
गुमशुदा रिश्ते पर केवल कीचड उछालेंगे
पीठ के पीछे लोगों की हँसी
और हासिल कुछ भी नहीं

और फिर शून्य में तनहाईयाँ बोते रहेंगे
अपनी लाश ढोते रहेंगे।

*****

24 comments:

  1. Toota hai dil
    ------------
    chaho to rafu karva lo
    chaadar se use dhak lo
    par dikhne mat do
    Komal man kee komal
    bhavabhivkti hai.Badhaaee.

    उत्तर देंहटाएं
  2. कटघरे में खडे तुम और हम
    गुमशुदा रिश्ते पर केवल कीचड उछालेंगे
    पीठ के पीछे लोगों की हँसी
    और हासिल कुछ भी नहीं

    और फिर शून्य में तनहाईयाँ बोते रहेंगे
    अपनी लाश ढोते रहेंगे।

    हृदय स्पर्शी कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  3. दरारो में दीमक लग जाते हैं
    फिर कोई सुई काम ना आएगी
    न ही गोंद कोई
    बाहर तेज रोशनी हैं
    आँखे रोशनी मे भी हो जाती हैं अंधी
    खो जाएगा रिश्ता
    या फिर बेमानी हो जाएगा तब
    कटघरे में खडे तुम और हम
    हृदय स्पर्शी कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  4. पंकज सक्सेना18 अक्तूबर 2008 को 3:44 pm

    और फिर शून्य में तनहाईयाँ बोते रहेंगे
    अपनी लाश ढोते रहेंगे।

    बात जो दिल को छूती है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपके उपमान बहुत अच्छे बन पडे हैं, बधाई एक अच्छी कविता के लिये।

    उत्तर देंहटाएं
  6. टूटा है दिल
    फेविकोल से चिपका लो
    चाहो तो रफू करवा लो
    चादर से उसे ढक दो
    पर दिखने मत दो..

    फिर भी क्या दिल जुड सकता है? अच्छी कविता की बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  7. जैसे कोई दर्पण किसी झूठ को छुपा नहीं पा रहा ऐसा लगा पढ़कर।

    उत्तर देंहटाएं
  8. हृदय स्पर्शी कविता।बधाई एक अच्छी कविता के लिये।

    उत्तर देंहटाएं
  9. खो जाएगा रिश्ता
    या फिर बेमानी हो जाएगा तब
    कटघरे में खडे तुम और हम
    गुमशुदा रिश्ते पर केवल कीचड उछालेंगे
    पीठ के पीछे लोगों की हँसी
    और हासिल कुछ भी नहीं

    और फिर शून्य में तनहाईयाँ बोते रहेंगे
    अपनी लाश ढोते रहेंगे।
    ऋतू जी,
    रिश्तों को बहुत गहरायी से देखा है आपने. बहुत खूब.

    उत्तर देंहटाएं
  10. सच्चाई को ब्याँ करती एक खूबसूरत कविता

    उत्तर देंहटाएं
  11. टूटा है दिल
    फेविकोल से चिपका लो
    चाहो तो रफू करवा लो
    चादर से उसे ढक दो
    पर दिखने मत दो..


    लेकिन लेखनी से नहीं छिपता...मन तो एकाकी हो ही जाता है और यही एकाकीपन शब्दों से नाता जोड़ बैठता है,


    बहुत खूब...

    बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  12. रितु रंजन की कविता ’और फिर शून्य में’ कवयित्री के सुखद कविता-कर्म के भविष्य की आश्वस्ति देती बधाई। रितु,लिखती रहो ऐसे ही। आस-पास की चीज़ों को ध्यान से देखना और उसे अपनी कविता में उतारना । साथ ही काव्य के अंतर्वस्तु और रुप पर काव्यालोचना भी पढना। बहुत लाभ होगा। मैं तुम्हारे काव्योत्कर्ष की कामना करता हूँ। तुम्हारा भाई ही,सुशील कुमार,दुमका,झारखंड।

    उत्तर देंहटाएं
  13. रितु जी!
    कविता की शुरुआत ज़रूर कुछ कमज़ोर लगी पर इसका अंत बहुत सुंदर किया है आपने. बाहरी चमक कई बार रिश्तों को अंधेरा कर देती है, ये बात आज के दौर में बहुत तेजी से सामने आ रही है.
    सुंदर और भावपूर्ण कविता के लिये बधाई स्वीकारें! इस कविता के बाद आगे के लिये आपसे उम्मीदें बढ़ गईं हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  14. और फिर शून्य में तनहाईयाँ बोते रहेंगे
    अपनी लाश ढोते रहेंगे।

    अच्छी प्रस्तुति। हयात जी कहते हैं कि-

    तन्हाईयों से दिल्लगी अपने मकान में।
    हम हो गए हैं अजनबी अपने मकान में।।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    मुश्किलों से भागने की अपनी फितरत है नहीं।
    कोशिशें गर दिल से हो तो जल उठेगी खुद शमां।।
    www.manoramsuman.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  15. भई वाह
    बेहतर और सीधे सादे ढंग से मन की बात कह डाली
    सहज कविता
    आपको बधाई और राजीव जी को शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत अच्छे उपमानों में कही गयी सिन्दर कविता। बधाई।

    ***राजीव रंजन प्रसाद

    उत्तर देंहटाएं
  17. और फिर शून्य में तनहाईयाँ बोते रहेंगे
    अपनी लाश ढोते रहेंगे।

    सहज ,गंभीर एवं भावोद्वेलित कर देने वाली रचना के लिये मेरी शुभकामना।

    प्रवीण पंडित

    उत्तर देंहटाएं
  18. लोग सामने भी हंसेंगे अगर
    तो हम क्‍या कर लेंगे।

    सुंदर व्‍यंग्‍यात्‍मक लहजे
    में लिखी गई अद्भुत रचना।

    सच कहूं बहुत पसंद आई
    मेरे मन को खूब भाई।

    उत्तर देंहटाएं
  19. अरे वाह !
    फेविकोल भी आ गया कविता मेँ -
    कविता अच्छी बनी है
    - लावण्या

    उत्तर देंहटाएं
  20. सुन्दर भाव भरी रचना..
    काश ऐसा हो पाता..टूटे दिल फ़ेविकोल से चिपकाये जा सकते या सूई से सिले जा सकते.

    उत्तर देंहटाएं
  21. वाकई कवयित्री ने ठीक पेह्चाना है एक आम इंसान के दृष्टिकोण को. जगहँसाई के भय से बचने के लिये अपनी ही जिंदगी को नरक बनने देने की मध्यमवर्गीय मानसिकता को चित्रित करती एक खूबसूरत कविता.
    बधाई.

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget