Photobucket

हैं चकित सारे सितारे, हो गया कवि बावला है
आसमाँ पर इन्कलाबों की फ़सल बोने चला है
ऐ खुदा सूरज़ छुपा ले अपने दामन के तले ,
आँख पर उसकी चमकने आज़ एक दीपक ज़ला है।"

*****

चाहतों को कोई आशियां न मिला
मदीने में भी गये, खुदा न मिला
ढूँढ़ते हम रह गये सारे जहान में
एक भी सुकून का दुकाँ न मिला

*****

थी बड़ी ही देर चुप्पी, अब ज़रा आवाज़ हो
अँधेरों के इस शहर में सुबह का आगाज़ हो
कौन कहता है हवा पर पाँव रख सकते नहीं
आसमाँ छूने का ये शायद कोई अंदाज़ हो।

*****

राम नही बसते धरती के मंदिर और शिवालो में
या चन्दन टीका करके बस भोग लगाने वालो में
वे मर्यादा की प्रधानता का प्रतीक हैं , संबल है
उन हृदयों में राम बसें ,जो प्रेम भाव से विह्वल हैं

15 comments:

  1. i liked all of them but the 3rd one is the best.

    Alok Kataria

    उत्तर देंहटाएं
  2. सभी बहुत बढिया मुक्तक है।बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  3. पंकज सक्सेना12 अक्तूबर 2008 को 5:26 pm

    राम नही बसते धरती के मंदिर और शिवालो में
    या चन्दन टीका करके बस भोग लगाने वालो में
    वे मर्यादा की प्रधानता का प्रतीक हैं , संबल है
    उन हृदयों में राम बसें ,जो प्रेम भाव से विह्वल

    सभी एक से बढ कर एक।

    उत्तर देंहटाएं
  4. हैं चकित सारे सितारे, हो गया कवि बावला है
    आसमाँ पर इन्कलाबों की फ़सल बोने चला है

    कौन कहता है हवा पर पाँव रख सकते नहीं
    आसमाँ छूने का ये शायद कोई अंदाज़ हो।

    अच्छे मुक्तक हैं। दूसरा अपेक्षाकृत कमजोर है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. आलोक जी

    हैं चकित सारे सितारे, हो गया कवि बावला है
    आसमाँ पर इन्कलाबों की फ़सल बोने चला है
    ऐ खुदा सूरज़ छुपा ले अपने दामन के तले ,
    आँख पर उसकी चमकने आज़ एक दीपक ज़ला है।"

    यह आत्मविश्वास से भरपूर युवा को उसकी उर्जा से तादात्म्य स्थापित कराने वाला उत्प्रेरक है

    बहुत बढ़िया..... बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  6. आलोक जी के आलोक से परिचित कराते हुए मुक्तक हैं, सभी श्रेष्ठ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. अच्छे मुक्तक हैं आलोक जी। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  8. हैं चकित सारे सितारे, हो गया कवि बावला है
    आसमाँ पर इन्कलाबों की फ़सल बोने चला है
    ऐ खुदा सूरज़ छुपा ले अपने दामन के तले ,
    आँख पर उसकी चमकने आज़ एक दीपक ज़ला है।"


    थी बड़ी ही देर चुप्पी, अब ज़रा आवाज़ हो
    अँधेरों के इस शहर में सुबह का आगाज़ हो
    कौन कहता है हवा पर पाँव रख सकते नहीं
    आसमाँ छूने का ये शायद कोई अंदाज़ हो।

    प्रभावी मुक्तक हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  9. अच्छे मुक्तक हैं।
    भाव अति-उत्तम!!!

    बस एक जगह लिंग-दोष है-
    सुकून का दुकाँ न मिला

    दुकाँ स्त्रीलिंग है.......ध्यान देंगे।

    उत्तर देंहटाएं
  10. सशक्त भाव पक्ष लिये मुक्तक.. बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  11. कवि के बावलेपन की अनुभूति हुई।
    संभवतः चरम पर पहुंचने के लिये बावला हो जाना ही पड़ेगा।
    कौन कहता है हवा पर पाँव रख सकते नहीं
    आसमाँ छूने का ये शायद कोई अंदाज़ हो।
    वाह वाह -क्या कहने।

    प्रवीण पंडित

    उत्तर देंहटाएं
  12. आलोक शंकर अद्वतिय प्रतिभा के कवि हैं, ये सारे मुक्तक इस सत्य के गवाह हैं।

    ***राजीव रंजन प्रसाद

    उत्तर देंहटाएं
  13. मुक्‍तक नहीं
    सूक्तियां कहिये
    जीवन की
    युक्तियां कहिये
    पानी की
    तरह बहिये
    दिमाग से
    लगाये रहिये।

    उत्तर देंहटाएं
  14. आलोक जी भाव पक्ष तो सशक्त है पर काला पक्ष पर निस्संदेह और काम हो सकता था...

    उत्तर देंहटाएं
  15. हैं चकित सारे सितारे, हो गया कवि बावला है
    आसमाँ पर इन्कलाबों की फ़सल बोने चला है
    ऐ खुदा सूरज़ छुपा ले अपने दामन के तले ,
    आँख पर उसकी चमकने आज़ एक दीपक ज़ला है।"

    *****

    चाहतों को कोई आशियां न मिला
    मदीने में भी गये, खुदा न मिला
    ढूँढ़ते हम रह गये सारे जहान में
    एक भी सुकून का दुकाँ न मिला

    *****

    थी बड़ी ही देर चुप्पी, अब ज़रा आवाज़ हो
    अँधेरों के इस शहर में सुबह का आगाज़ हो
    कौन कहता है हवा पर पाँव रख सकते नहीं
    आसमाँ छूने का ये शायद कोई अंदाज़ हो।

    *****

    राम नही बसते धरती के मंदिर और शिवालो में
    या चन्दन टीका करके बस भोग लगाने वालो में
    वे मर्यादा की प्रधानता का प्रतीक हैं , संबल है
    उन हृदयों में राम बसें ,जो प्रेम भाव से विह्वल हैं



    kya jinda lekhani hain
    sir apki manna padega
    dil se salam
    sahiya ki garima barkarar rakhti hain apki rachna sach
    ahbdo ki karistani lajawab

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget