रेल की पटरियाँ
और पटरियों पर पड़ी दो लाशें
कैसे हटवांए, किसे तलाशें

एक आदमी और एक जानवर
गाड़ी से कट गये थे
इत्तेफाकन....

एक दूसरे से सट गये थे
भीड़ आती, देखती
और खड़ी हो जाती

पीछे से कुछ
उचक उचक कर झांक रहे थे
आदमी को कम
जानवर को ज्यादा ताक रहे थे

मौका तलाश रहे थे
देखिये समय का परिवर्तन
और भूख का नर्तन
समय ने स्थिति को बदला

जानवर की लाश को
उठाने के लिये भीड़ बढ़ती रही
लड़ती रही
और आदमी की लाश पड़ी सड़्ती रही

भीड़ ने आदमी
की लाश का क्या करना था
भला उससे
किस का पेट भरना था....?

20 comments:

  1. और आदमी की लाश पड़ी सड़्ती रही
    भीड़ ने आदमी
    की लाश का क्या करना था
    भला उससे
    किस का पेट भरना था....?
    उफ़! कितनी मार्मिक और दर्द भरी अभीव्यक्ति है, दिल दहल गया है पढ़ कर, लानत है ऐसे इंसानियत पर,'
    Regards

    उत्तर देंहटाएं
  2. चंदन की महकती
    कविता के गहरे
    भावों और यथार्थ
    अभिव्‍यक्ति को
    वंदन।

    उत्तर देंहटाएं
  3. पवन जी,
    साहित्य शिल्पी मे आपको देखकर काफी अच्छा लगा... बहुत ही मर्मस्पर्शी कविता... बहुत बहुत बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  4. किसी पीड़ित का साथ , सामजिक डर या अपने स्वार्थ हेतु ना देना अपने आप में चिंता जनक है | और निंदनीय भी | स्थिति को अच्छे से हाशिये पर लिया है आप ने | एक तल्ख़ कटाक्ष भी किया है |

    एक गुजारिश है कि उन लोगो के बारे में भी एक कविता लिखें जो मदद के लिए आगे आते हैं | आप ने उन्हें एक सिरे से नकार दिया है | समाज इतना बुरा भी नही है , जितना आप की इस कविता में दिखाई पड़ रहा है | भविष्य में और आशावादी लेखन प्रयास करें |
    फिलहाल कविता के लिए बधाई स्वीकारें | :-)

    उत्तर देंहटाएं
  5. पंकज सक्सेना6 अक्तूबर 2008 को 4:39 pm

    भीड़ ने आदमी
    की लाश का क्या करना था
    भला उससे
    किस का पेट भरना था....?

    बहुत खूब।

    उत्तर देंहटाएं
  6. संवेदन -शील मन की
    संवेदन - शील रचना....

    बहुत सुंदर...

    आभार...चंदन जी....

    उत्तर देंहटाएं
  7. एक संवेदनशील और मार्मिक कविता जिसमें घटना, घटना-स्थल और मर्म-भेदी शब्दों का समन्वित भावुक चित्रण है। पढ़ने के बाद पाठक कुछ देर तक मानसिक रूप से घटना-स्थल पर ही सिहरता हुआ ठहर जाता है।
    पवन जी को इस सुंदर रचना के लिए बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  8. Very nice poem. I am touched. Thanks.

    Alok Kataria

    उत्तर देंहटाएं
  9. चंदन जी,

    सर्वप्रथम तो साहित्य शिल्पी पर आपका स्वागत।
    आपकी रचना नें सिहरा देने वाला दृश्य उपस्थित कर दिया। भूख के आगे मानवता कितनी बौनी है..

    उत्तर देंहटाएं
  10. आलोक कटारिया जी
    आप कब तक
    एनोनिमस बनकर
    टिप्‍पणी करते रहेंगे
    मुझे अपनी ई मेल से
    एक मेल भेजिए
    मैं आपको जी मेल
    का आमंत्रण भेजता हूं
    जिसमें मेल क्रिएट
    करके आप अपने
    नाम से टिप्‍पणी कर सकते हैं
    और पा सकते हैं
    छुटकारा
    इस एनोनिमस की जो है
    कारा।
    avinashvachaspati@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत ही मर्मस्पर्शी कविता है .बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  12. मार्मिक....संवेदनशील और तीखी व्यंग्यात्मक कविता लिए पवन जी को चंदन लगा के बधाई......

    तालियाँ.....

    उत्तर देंहटाएं
  13. पवन जी,

    आपकी कविता संवेदनाओं के उस पहलू को खुरचती है जहाँ आदमी के लिये भूख का सवाल सर्वोपरी है और सब गौण..जो चित्र आपने उकेरा है वह आपकी कलम के जनवादी संदर्भो को प्रस्तुत करता है। आपसे द्वारा प्रस्तुत चित्र सिहराता भी है..

    ***राजीव रंजन प्रसाद

    उत्तर देंहटाएं
  14. आपकी कविता वास्तव में बहुत अच्छी है


    वीनस केसरी

    उत्तर देंहटाएं
  15. जिस कविता में मर्म हो संवेदना हो वह खूबसूरत क्यों न बन पड़ेगी .. मरने के बाद आदमी की कीमत जानवर से कम ही है तो क्यों न जीते जी कुछ ऐसा किया जाए की लोग मरने के बाद भी याद रखें.

    उत्तर देंहटाएं
  16. आइने से झांकता विद्रूप चेहरा। सत्य चिंतित करता हैकिंतु मुंह छिपाया नहीं जा सकता।
    जागृति लाई जा सके इस भीड़् मे,कुछ ऐसा कहना और करना होगा।

    प्रवीण पंडित

    उत्तर देंहटाएं
  17. 'उपयोगिता' की सराहना के लिए मैं हर लेखक पाठक का आभारी हूं। आपकी प्रतिक्रियाएं ही तो मेरे लेखन को जीवंत करेंगी।
    यह एक सच्‍ची घटना पर आधारित है। रेलवे में इस तरह की मौत की घटनाएं होती ही रहती हैं। ये घटना अपने आप में विचित्र थी। इसकी विचित्रता ने ही मुझे लेखन के लिए विचलित किया । ये घटना दस वर्षों तक तो मेरे ज़हन में ही घूमती रही थी। श्री दिव्‍यांशु शर्मा जी को विशेष रूप से कहना चाहूंगा कि अच्‍छाइयों को नकारने का इरादा नहीं था और न होगा। ये सब परिस्थितिजन्‍य था। एक बार फिर आपके विचारों के लिए धन्‍यवाद।

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget