Photobucket

रिश्ते भी आजकल "यूज एंड थ्रो" की तरह हो गए हैं
और लोग " थ्रस्टी क्रो " की तरह हो गए हैं
हमें जब प्यास लगती है
तो हम, रिश्तों के कुओं में
स्वार्थ के पत्थर डालते हैं
और जब पेट भरा हो
तो दूसरों पर कीचड उछालते हैं
सोचता हूँ आज के हालात्
कितने बदतर हो गए हैं
संवेदनाएं मर चुकी
और आदमी पत्थर हो गए हैं

हालांकि पत्थरों में भी जान होती है
उनकी भी पहचान होती है
एक पत्थर होता है - मील का
जो दिखाता है रास्ता
एक पत्थर होता है - बुत नुमा
जिसके प्रति होती है आस्था
एक पत्थर वो ,
जिसे मजदूर अपना तकिया बनाता है
और एक पत्थर वो
जो अमीरों के पैरों के नीचे पड़ा - पड़ा
किस्मत पर आंसू बहाता है
कुछ पत्थर होते हैं चट्टान
जो लहरों के वेग को झेलते हैं
और कुछ पत्थर वो
जिनसे छोटे-छोटे बच्चे खेलते हैं
एक पत्थर होता है - नींव का
जिस पर आदमी
अपने सपनों के महल खड़े करता है
और एक पत्थर वो - जिस पर कलाकार
अपनी कला को गड़ता है

सुना है , पुराने ज़माने में आदमी
आग जलाने के लिए
पत्थर का उपयोग करता था
और अब, आग भड़काने के लिए
पत्थर का प्रयोग करता है

तो आओ
पत्थरों की इस दुनिया में
हम भी एक पत्थर बनें
पर हमें जब भी कोई रगडे
तो हम आग बन कर जलें
मगर बुझे हुए चूल्हों में
और इंसानियत की बुझी हुई मशालों में
और इतिहास में एक मील पत्थर बन कर गडें
हे प्रभु, वर दे
कभी भी किसी की अक्ल पर पत्थर न पडें .......

12 comments:

  1. बहुत सुंदर भाव। अच्‍छी कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  2. रिश्ते भी आजकल "यूज एंड थ्रो" की तरह हो गए हैं
    और लोग " थ्रस्टी क्रो " की तरह हो गए हैं
    हमें जब प्यास लगती है
    तो हम, रिश्तों के कुओं में
    स्वार्थ के पत्थर डालते हैं
    और जब पेट भरा हो
    तो दूसरों पर कीचड उछालते हैं
    सोचता हूँ आज के हालात्
    कितने बदतर हो गए हैं
    संवेदनाएं मर चुकी
    और आदमी पत्थर हो गए हैं
    वाह! बहुत बढ़िया तुलना की है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. विशुद्ध मंचीय कविता है

    उत्तर देंहटाएं
  4. आजकल के रिश्तों का बहुत खूब खाका खीन्हा है आपने मंच पर सस्वर सुनने में और आनंद आता.

    उत्तर देंहटाएं
  5. तो आओ
    पत्थरों की इस दुनिया में
    हम भी एक पत्थर बनें
    पर हमें जब भी कोई रगडे
    तो हम आग बन कर जलें
    मगर बुझे हुए चूल्हों में
    और इंसानियत की बुझी हुई मशालों में
    और इतिहास में एक मील पत्थर बन कर गडें
    हे प्रभु, वर दे
    कभी भी किसी की अक्ल पर पत्थर न पडें .......

    सरल शब्दों में बडी बात। बहुत खूब।

    उत्तर देंहटाएं
  6. हे प्रभु, वर दे
    कभी भी किसी की अक्ल पर पत्थर न पडें .......

    आपको यह वरदान प्राप्त हो, शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  7. Nice poem. Keep writing.

    Alok Kataria

    उत्तर देंहटाएं
  8. हमेशा की तरह बेहतरीन। अंग्रेजी शब्दों का सुन्दर प्रयोग किया है आपनें।

    उत्तर देंहटाएं
  9. दीपक जी,
    पत्थरों की एक नये भाषा.... बहुत ही अच्छी कविता बधाई स्वीकारें

    उत्तर देंहटाएं
  10. पत्‍‍थर को दिए पत्‍थरी आयाम

    पथरी भी इसीलिए पड़ा है नाम

    पर इम्‍प्रेस कर दिया है आपने

    अंग्रेजी झाड़कर हिन्‍दी श्रीमान।

    उत्तर देंहटाएं
  11. vaah kya pathar maare hain in kalyugi rishto or insaano par
    maan gaye sahab
    bahut-bahut dhanyavaad is takatvar rachna k liye

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget