चारों ओर अंधेरा छाया, जीव-जगत निस्पंद पड़ा था

रात्रि का अंतिम प्रहर था, रंग तारों का उड़ा था

सो रही थी सृष्टि सारी, स्वप्न में खोयी हुई सी

गति-चक्र जैसे ज़िन्दगी का, राह में ठिठका खड़ा था

दिख पड़ा सहसा क्षितिज पर, सूर्य का सच्चा दुलारा

निकला नभ में, भोर का तारा


अस्ताचल-गामी तारों ने और तेज हो कदम बढ़ाये

जाग्रत जीवन हुआ जगत में, चिड़ियों ने डैने फैलाये

स्वप्न-लोक के दर को छोड़ा, मतवाले ग्रामीण-जनों ने

पशुओं ने हर्षित हो-होकर, घंटी और घुंघरू झनकाये

पेड़ों पर कलरव ध्वनि छायी, गुंजित आसमान था सारा

निकला नभ में, भोर का तारा


शुचि-शीतल मंद समीर बही, तन-मन में उल्लास जगाती

सद्य:प्रकाशित पूर्व-क्षितिज से, फटने लगी तिमिर की छाती

खनक उठे चूड़ी और कंगन, छाछ बिलोते मृदुल करों में

बच्चों की किलकारी गूँजी, माता के मन को हरषाती

घंटा-ध्वनि छायी मंदिर में, बहने लगी भक्ति-रस धारा

निकला नभ में, भोर का तारा

11 comments:

  1. शुचि-शीतल मंद समीर बही, तन-मन में उल्लास जगाती
    सद्य:प्रकाशित पूर्व-क्षितिज से, फटने लगी तिमिर की छाती
    खनक उठे चूड़ी और कंगन, छाछ बिलोते मृदुल करों में
    बच्चों की किलकारी गूँजी, माता के मन को हरषाती
    घंटा-ध्वनि छायी मंदिर में, बहने लगी भक्ति-रस धारा
    "jvab nahee sunder abheevyktee"

    Regards

    उत्तर देंहटाएं
  2. अजय साहब .. बस भोर का तारा ही लगी ये रचना .. वैसी ही सौम्य , साफ़, निष्पाप | अपने घर का सवेरा याद हो आया | परदेस में तो ऐसा लगता हैकि भोर ही नही होती .. :-) बहुत सुंदर कविता..

    उत्तर देंहटाएं
  3. bahut hi sundar kavita...shbdon ka bahut hi sundar gathan kiya hai--bilkul subah ke suraj ugney jaisee roshani bikherti hui....badhaayee

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुन्दर शब्दों का संगम.. शहरी वातावरण से दूर गांव की और ले जाता हुआ..मन में आशा व शान्ति का संचार करता हुआ

    उत्तर देंहटाएं
  5. Good selevtion of words. Appriciable.

    Alok Kataria

    उत्तर देंहटाएं
  6. प्रकृति और उससे जुडे विषयों पर बहुत कम लिखा जाता है आज कल। इस विषय तथा सुन्दर प्रस्तुतिकरण की बधाई स्वीकारें।

    उत्तर देंहटाएं
  7. अजय जी बहुत अच्छी कविता के लिये बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  8. शुचि-शीतल मंद समीर बही, तन-मन में उल्लास जगातीसद्य:प्रकाशित पूर्व-क्षितिज से, फटने लगी तिमिर की छातीखनक उठे चूड़ी और कंगन, छाछ बिलोते मृदुल करों मेंबच्चों की किलकारी गूँजी, माता के मन को हरषातीघंटा-ध्वनि छायी मंदिर में, बहने लगी भक्ति-रस धारानिकला नभ में, भोर का तारा

    भाषा और प्रवाह आपकी इस कविता के प्राण हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  9. प्रकृति का सशक्त चित्रण। भोरऊवा गीत का आभास।
    एक सुन्दर कविता।- सुशील कुमार

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget