मैं एक

आम आदमी हूँ

अज़र-अमर

और शाश्वत!


हर बार मुझे

कुचला, जलाया

सताया जाता है

फिर भी

हर बार ज़िन्दा

हो जाता हूँ --

एक संजीवनी है

जो हर बार

जिला जाती है


नेता,अभिनेता

पुलिस अधिकारी

सभी कर्मचारी

मेरी ही फिक्र में

घुलते रहते हैं

मुझे नष्ट करने के

स्वप्न बुनते रहते हैं

किन्तु मेरा कुछ

नहीं बिगाड़ पाते

मेरी जिजीविषा

कभी नहीं मरती


मेरे अन्तर में

विश्वास की लौ

जगमगाती है

और मुझे

विश्वास दिलाती है

कि मैं विशिष्ट हूँ

अति विशिष्ट!


इसीलिए मुझे

मिटाने वाले मिट गए

और मैं आज भी

जिए जा रहा हूँ

संकटों में भी

मुसकुरा रहा हूँ।


मैं इसी तरह आगे भी

यूँ ही जीता जाऊँगा

और अपने अहसानों से

तुम्हें लज्जित करता जाऊँगा।

18 comments:

  1. हर बार मुझेकुचला, जलाया सताया जाता हैफिर भी—हर बार ज़िन्दाहो जाता हूँ --एक संजीवनी हैजो हर बारजिला जाती है।

    सुंदर पंक्तियाँ और अच्छी कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  2. मेरे अन्तर में
    विश्वास की लौ
    जगमगाती है।
    और मुझे
    विश्वास दिलाती है
    कि मैं विशिष्ट हूँ
    अति विशिष्ट!

    bahut sundar....

    shobha ji,
    badhaee

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह जी शोभा जी!! बहुत बढ़िया!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. मैं इसी तरह आगे भी
    यूँ ही जीता जाऊँगा
    और अपने अहसानों से
    तुम्हें लज्जित करता जाऊँगा।

    बहुत सुन्दरता से आप आदमी को अपनी कविता में आपने अभिव्यक्त किया है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. अच्छा लिखा है आपने।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत उम्दा बात कही | पहली बार देखा और पढा की उलाहना के साथ आशावादिता भी पिरोई जा सकती है | आम आदमी की आवाज़ है जो सिर्फ़ दर्द और तड़प नही कुछ और भी कहती है |

    उत्तर देंहटाएं
  7. आम आदमी को शब्द देना सच्चा काव्यकर्म है। बहुत अच्छी कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  8. सरल शब्द लिए एक अच्छी व्यंग्यात्मक कविता....

    उत्तर देंहटाएं
  9. शोभा जी,

    आपकी कविता बेहद प्रभावी है और बहुत सशक्तता से अपनी बात कह जाती है।

    और अपने अहसानों से
    तुम्हें लज्जित करता जाऊँगा।

    बहुत बडा कथ्य सहजता से प्रस्तुत हुआ है आपके शब्दों में।

    ***राजीव रंजन प्रसाद

    उत्तर देंहटाएं
  10. एक आम आदमी की पीडा और अहसासो का सुन्दर चित्रण किया है आपने अपने रचना में

    उत्तर देंहटाएं
  11. अच्छी व्यग्यात्मक शैली।
    और सुहागा भी, आपने उस का विश्वास खंडित नहीं होने दिया।


    प्रवीण पंडित

    उत्तर देंहटाएं
  12. क्या आम आदमी को दर्शाया है... मजा आ गया.. बधाई

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget