दरख़्त था सदियों पुराना, और छांह भी।
दरख़्त था घना, छांह उससे भी घनी।
दरख़्त था हवादार, छांह कहीं अधिक शीतल ।
दरख़्त सब का, छांह भी सबकी अपनी।

--

एक शाम
राम चलते चलते थक गया। घनी छाया मे पेड़ से सटकर सुखासन मे बैठ गया।
किसी पल थका थकाया मुहम्मद भी आया,उसी दरख़्त के नीचे ठंडी ठंडी छांह मे सिरहाना लगा लिया।
याद नहीं पड़ता ठीक से कि राम ने सुखासन पहले लगाया कि मुहम्मद ने सिरहाना?
ठीक है , क्या फ़र्क़ पड़ता है छांह को ?

--

दूसरी सुबह
दिन निकला तो रौला मच गया।
धर्मसेवकों , समाजसेवकों और पंथ सेवकों का जमघट लग गया।
राम के सुखासन पर मुहम्मद का क़ब्ज़ा--!
मुहम्मद के सिरहाने पर राम का अतिक्रमण --!
छांह को क्या?

--

दमदार बाहुबलियों की बिसात।
अपने अपने तर्क ... अपनी अपनी दलीलें।
दरख़्त की हवा बांट दो... बंटी नहीं।
ठंडक बांट दो ...  बंटी नहीं।
छांह बांट दो बंटी नहीं।
बंदर-बांट करते करते ख़्याल कोंधा...
दरख़्त काट दो...  कट गया।
हवा खो गयी, ठंडक खो गयी, छांह खो गयी।

मुझे क्या... ??

*****

25 comments:

  1. प्रवीण जी !

    अति सुंदर
    बहुत ही थोड़े शब्दों में इससे बड़ी बोध कथा नहीं हो सकती ... हार्दिक शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  2. दो की लडाई में तीसरे ने दरख्त काट के आग ताप ली ........ मुझे क्या?

    उत्तर देंहटाएं
  3. पंकज सक्सेना12 नवंबर 2008 को 7:12 am

    काव्यात्मक है आपकी लघुकथा, बहुत ही संदेशप्रद, सोचने को बाध्य करने में सक्षम।

    उत्तर देंहटाएं
  4. तगड़ा कटाक्ष....

    बढिया कहानी...

    तालियाँ..

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपकी कहानी में कविता तत्व एसे हैं कि उपसंहार तक पहुँचते पहुँचते शब्दों की भावुकता के प्रवाह में भी पाठक बह जाता है।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बंदर-बांट करते करते ख़्याल कोंधा...
    दरख़्त काट दो... कट गया।
    हवा खो गयी, ठंडक खो गयी, छांह खो गयी।

    मुझे क्या... ??

    Regards

    उत्तर देंहटाएं
  7. एक अलग हीं अंदाज की लघुकथा। कथ्य एवं शिल्प दोनों हीं प्रशंसनीय हैं।
    बधाई स्वीकारें।

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुन्दर प्रस्तुति एक अलग अन्दज में...
    धर्मान्धों को तो कोई बिन्दू चाहिये अलगाव के लिये..धर्म से उनका क्या लेना देना..

    उत्तर देंहटाएं
  9. दमदार बाहुबलियों की बिसात।
    अपने अपने तर्क ... अपनी अपनी दलीलें।
    दरख़्त की हवा बांट दो... बंटी नहीं।
    ठंडक बांट दो ... बंटी नहीं।
    छांह बांट दो बंटी नहीं।
    बंदर-बांट करते करते ख़्याल कोंधा...
    दरख़्त काट दो... कट गया।
    हवा खो गयी, ठंडक खो गयी, छांह खो गयी।

    मुझे क्या... ??

    बहुत अच्छी लघुकथा। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  10. अनोखी शैली, याद नहीं पडता कि कभी इस तरह का कुछ पढा भी है। बहुत बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत अच्छी लघुकथा के लिये बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  12. यह केवल एक लघुकाव्य कविता ही नहीं है बल्कि एक एसी मारक विधा है कि हर कोई प्रभावित हुए बिना नहीं रह सकता। तीनों ही पैराग्राफ दृश्य खींचते हुए से बन पडे हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  13. प्रवीण जी,

    आपकी शैली की जितनी प्रशंसा की जाये कम है। पहली ही चार पंक्तियों की काव्यात्मकता को ले लीजिये:

    "दरख़्त था सदियों पुराना, और छांह भी।
    दरख़्त था घना, छांह उससे भी घनी।
    दरख़्त था हवादार, छांह कहीं अधिक शीतल ।
    दरख़्त सब का, छांह भी सबकी अपनी।"

    आपके लेखन में गहरायी है, शब्दों में प्रभाव है, शैली में अनूठापन है। परिणाम भी कितनी सहजता से आपने दर्शा दिये:

    "दरख़्त की हवा बांट दो... बंटी नहीं।
    ठंडक बांट दो ... बंटी नहीं।
    छांह बांट दो बंटी नहीं।
    बंदर-बांट करते करते ख़्याल कोंधा...
    दरख़्त काट दो... कट गया।
    हवा खो गयी, ठंडक खो गयी, छांह खो गयी।"

    सबसे गंभीर अंत वह भी केवल दो शब्द "मुझे क्या?"
    .....

    ***राजीव रंजन प्रसाद

    उत्तर देंहटाएं
  14. बड़ा ही खूबसूरत प्रयोग | इस से साफ़ समझ आता है की आप काफ़ी सोचते हैं कुछ लिखने से पहले | बहुत उम्दा | जमे रहे | बहुत पहले पढा एक शेर याद आ गया "बैठ जाते हैं जहाँ छाँव घनी होती है , हाय क्या चीज़ , गरीब - उल -वतनी होती है !"..:-)

    उत्तर देंहटाएं
  15. Ek damdaar aur prabhavshaalee
    kavyatmak laghukatha.Jitni taareef
    kee jaaye utnee kam hai.

    उत्तर देंहटाएं
  16. काव्यात्मक लघु-कथा

    चित्रात्मक शैली....

    गागर में सागर भरने ली अनुपम कला....

    वाह्....मन मोह गयी.....

    बधाई आपको..

    उत्तर देंहटाएं
  17. इसे लघु कथा कहना ग़लत होगा... विचारो की दृष्टि से बहुत बड़ी कथा है ये..

    आभार प्रवीण जी

    उत्तर देंहटाएं
  18. बंदर-बांट करते करते ख़्याल कोंधा...
    दरख़्त काट दो... कट गया।
    हवा खो गयी, ठंडक खो गयी, छांह खो गयी।

    मुझे क्या... ??
    बहुत सुंदर।

    उत्तर देंहटाएं
  19. आभार आप सभी गुणी मित्रों का।

    एक विचार कसक बना,
    कसक ही कथा के रूप मे आपके सम्मुख थी।
    सराहना का श्रेय आपको,वरना किसी भी दोष का उत्तरदायित्व निश्चय ही मेरा है ।

    सस्नेह

    प्रवीण पंडित

    उत्तर देंहटाएं
  20. गद्यकाव्य की शैली में कोई रचना लंबे अरसे बाद पढ़ने को मिली. कथानक तो सुंदर और प्रभावी है ही!
    आभार पढ़वाने का!

    उत्तर देंहटाएं
  21. चन्द लफ़्ज़ों में आपने सारी कहानी बुन दी कहे बिना नही रहेंगे...वाह क्या बात है!!!

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget