बस्तर की वादियों में
यमदूत उतर आए हैं
गाँव खाली हैं, लोग बेघर
खेत बंजर, जंगल सुन्न है
हवा में घुल गई है, बारूदी गंध

अब बच्चे नही खेलते हैं
पेडों के नीचे/ पेडों पर नही चढते हैं
नही करते हैं /नदी पहाडों जंगलों की सैर
धमाकों से सहमे हुए बच्चे
स्कूल जाने भी डरते हैं
पनिया गया है/ ताडी शल्फी का स्वाद
तीखुर मडिया की मिठास पर
भयानक कडुवाहट भरी है
गायब होती जा रही है/ हाट-बाज़ार की रौनक
‘भागा’ और ‘पुरौनी’ की आदिम प्रथा
युवक-युवतियों की हँसी-ठठ्ठा

अब गाँवों में नही लगती है पंचायतें
नही होता कोई आपसी फैसला
फ़रमान जारी होते हैं
मौत! मौत!! मौत!!!
बाजे-गाजे खामोश हो चुके हैं
अब नही बजता है ‘मृत्यु-संगीत’
परिजनो की मौत पर भी
रोने की सक्त मनाही है
यहाँ के नदी पहाड जंगल गाँव
सब पर यमराज का कडा पहरा है

सदियों से सताए हुए लोग
आज भी विवश हैं
भूख दुख और शोषण के
पिराते पलों में जीने के लिए
लेकिन राजनीति का रंग गहरा है

*****

19 comments:

  1. सदियों से सताए हुए लोग
    आज भी विवश हैं
    भूख दुख और शोषण के
    पिराते पलों में जीने के लिए
    लेकिन राजनीति का रंग गहरा है

    हाल ही में बस्तर से घूम कर लौटा हूँ, आपकी कविता को और दर्द को समझ सकता हूँ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. सदियों से सताए हुए लोग
    आज भी विवश हैं
    भूख दुख और शोषण के
    पिराते पलों में जीने के लिए
    लेकिन राजनीति का रंग गहरा

    अच्छी प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  3. Naxalism is terrorism. Nice poem.

    Alok Kataria

    उत्तर देंहटाएं
  4. I wonder when these words can touch the soul of heartless people.I feel Terrorist/Naxals are the people who could't stand the harshness of life.So i consider them very week people.
    Poem is good enough

    उत्तर देंहटाएं
  5. अब बच्चे नही खेलते हैं
    पेडों के नीचे/ पेडों पर नही चढते हैं
    नही करते हैं /नदी पहाडों जंगलों की सैर
    धमाकों से सहमे हुए बच्चे
    स्कूल जाने भी डरते हैं
    " kya khun ek sach hai or marmsparshee.."

    Regards

    उत्तर देंहटाएं
  6. पंकज सक्सेना15 नवंबर 2008 को 9:58 am

    बस्तर की वादियों में
    यमदूत उतर आए हैं
    गाँव खाली हैं, लोग बेघर
    खेत बंजर, जंगल सुन्न है
    हवा में घुल गई है, बारूदी गंध

    एक स्वर्ग के नर्क बन जाने की दास्ता का चित्रण।

    उत्तर देंहटाएं
  7. भोगा हुआ सा अहसास ।
    दूसरे की पीड़ा जब अपनी हो जाती है तब ऐसी मार्मिक रचना का जन्म होता है।
    प्रवीण पंडित

    उत्तर देंहटाएं
  8. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  9. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  10. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  11. नक्सलवाद की जड़ें दिन पर दिन गहरी होती जा रही हैँ.....

    उत्तर देंहटाएं
  12. नक्सल का बढता आतंक और बस्तर की बदलती फिज़ा आहत करती है। कविता मर्मस्पर्शी लगी।

    उत्तर देंहटाएं
  13. नक्सलवाद जैसे नासूर पर अभिव्यक्त यह कविता बडी सच्चाई है। सच्ची अभिव्यक्ति है।

    उत्तर देंहटाएं
  14. खूबसूरत कविता, सराहनीय प्रयास। बस्तर की अनुभूत पीड़ा को शब्दों की लड़ियों में पिरोकर लिखी गयी एक सच्ची कविता। धन्यवाद डॉ. नंद जी।- सुशील कुमार।

    उत्तर देंहटाएं
  15. आतंकवाद की त्रासदी से झूझते प्रदेश की व्यथा का सुन्दर चित्रण

    उत्तर देंहटाएं
  16. अब गाँवों में नही लगती है पंचायतें
    नही होता कोई आपसी फैसला
    फ़रमान जारी होते हैं
    मौत! मौत!! मौत!!!
    बाजे-गाजे खामोश हो चुके हैं
    अब नही बजता है ‘मृत्यु-संगीत’
    परिजनो की मौत पर भी
    रोने की सक्त मनाही है
    यहाँ के नदी पहाड जंगल गाँव
    सब पर यमराज का कडा पहरा है

    संवेदनशील व सशक्त अभिव्यक्ति। हार्दिक बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  17. आदरणीय डॉ. नंदन,

    बस्तर की आबोहवा अब खामोशी, डर व बारूद के साये में जीने को बाध्य है, आपने अपने अनुभवों से जो चित्र खींचा है वह सोचने पर मजबूर करता है कि आतंकवाद कितना भयावह होता है व इसकी कितनी बडी कीमत निरीह बस्तर अंचल को चुकानी पड रही है।

    आपने एक कवि की जिम्मेदारी का निर्वहन किया है।

    ***राजीव रंजन प्रसाद

    उत्तर देंहटाएं
  18. सदियों से सताए हुए लोग
    आज भी विवश हैं
    भूख दुख और शोषण के
    पिराते पलों में जीने के लिए
    लेकिन राजनीति का रंग गहरा है
    एक विशेष अंचल की अवस्था का बहुत सुन्दर चित्रण किया है। कविता सच्चाई का आइना सी लगी। कवि को बहुत-बहुत बधाई।

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget