-(एक) -

प्लेटफॉर्म पर छोरों की ज़िन्दगियाँ
ट्रेनों की आहट पर चलती हैं

यात्रियों से उनींदी 'बारह डाउन'
एक नंबर पर अभी आकर लगी है
दनादन छोरे सभी घुस रहे हैं बोगियों में

कोई 'जनरल नॉलेज' की किताबें बेचेगा
कोई अँग्रेजी फर्राटेदार बोलने की
या फिर किस्म-किस्म के हीरो-हीरोईनों की

तेज कदम से कोई
खोमचे का टीन टनटनाते
झालमुढ़ी चिल्लायेगा कोई मुंगफली

स्प्रिंग के खिलौने चलाकर कोई
'इम्पोर्टेड' माल बताएगा तो
कोई 'पें-पें' बजाकर बाजा दिखलायेगा

कोई-कोई तो रख देगा कोकशास्त्र की
किताबें भी चुपके से बाबू-लोगों के पास

मुसाफिरों की नींद में खलल डालती
कठपुतलियों सी हिलती-डुलती
जोकरों के पहनावे में
अबोध मलिन बेढब
भूख से कातर

ये आकृतियाँ ट्रेन में
जमूरे की बोली बोलते
मुसाफिरों को लुभाने का
बहत्तर करतब करते नज़र आयेंगी।


-(दो)-

दो बजे की रात है --
सिहरन भरी,
सन्नाटे में डूबी

लंबी सीटी देकर ट्रेन हौले-हौले
गहरी धुंध में लिपटी रात को
चीरती हुई सरक रही है
घुप्प अँधेरे की ओर

दाँत किटकिटाते छोरे सब
अपनी दुकान कँखियाये
उतर रहे हैं डब्बों से धड़ाधड़

और छितरा रहे हैं इधर-उधर
यात्री-शेडों में ढ़ाबों में
बंद दुकानों की आड़ में
या पेड़ों की ओट में

पसर रहे हैं
गमछे बिछा
अपने बटुए टटोलते

पेट में पैर डाल कर
आधी नींद में
अगली गाड़ी की प्रतीक्षा में।

उसके सपनों में भागते सुख
का पीछा करती
रोज़ कितनी ही जोख़िम भरी रातें
यूँ ही कट रही हैं प्लेटफॉर्म पर
हमारे बच्चों की
इंजन की इन कर्कश
घर्घराहटों के बीच

सोते-जागते,खाँसते-कुहरते
बीमारियों से लड़ते
मौत के साये में
पलते-बढ़ते।

***** 

19 comments:

  1. "प्लेटफॉर्म पर ब्च्चे हमारे" कविता पढ कर ऎसा लगा मानो अभी-अभी किसी स्टेशन से हो आया हूँ.... बिल्कुल सजीव चित्रण है।
    आज तीसरी दुनियाँ के ये बच्चे अपनी अस्मिता की लडाई लड रहे हैं। सरकारें कागजों में इनके लिए न जाने कितनी योजनाएँ बनाती है, पर वे रेलगाडीयों की तरह ही आती है और चली जाती है। बच्चोँ की व्यथा की कोई सुधि लेने वाला नहीं।... कविता का विम्ब काफ़ी आकर्सक है-

    "पसर रहे हैं
    गमछे बिछा
    अपने बटुए टटोलते

    पेट में पैर डाल कर
    आधी नींद में
    अगली गाड़ी की प्रतीक्षा में।

    उसके सपनों में भागते सुख
    का पीछा करती
    रोज़ कितनी ही जोख़िम भरी रातें
    यूँ ही कट रही हैं प्लेटफॉर्म पर
    हमारे बच्चों की
    इंजन की इन कर्कश
    घर्घराहटों के बीच

    सोते-जागते,खाँसते-कुहरते
    बीमारियों से लड़ते
    मौत के साये में
    पलते-बढ़ते।"
    धन्यवाद इस सुन्दर रचना के लिए।
    :जितेन्द्र कुमार

    उत्तर देंहटाएं
  2. ऐसा लगा जैसे मानो ..मैँ खुद इनके बीच खड़ा इनको देख रहा हूँ....


    सजीव चित्रण...

    उत्तर देंहटाएं
  3. संवेदन शील कविता। दृश्य उकेरती हैँ। एक एक पंक्ति समाज की नजर नीची करने में सक्षम

    सोते-जागते,खाँसते-कुहरते
    बीमारियों से लड़ते
    मौत के साये में
    पलते-बढ़ते।

    उत्तर देंहटाएं
  4. पंकज सक्सेना16 नवंबर 2008 को 10:13 am

    जनवादी संदर्भों पर आपकी लेखनी सशक्त है। बह्त गंभीर रचना है। संवेदित भी करती है और प्रश्न भी उठाती है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत अच्छी कविता। एक आम ऑबजरवेशन को इतनी सुन्दर कविता एक अनुभवी कलम ही बना सकती है।

    उत्तर देंहटाएं
  6. उसके सपनों में भागते सुख
    का पीछा करती
    रोज़ कितनी ही जोख़िम भरी रातें
    यूँ ही कट रही हैं प्लेटफॉर्म पर
    हमारे बच्चों की
    इंजन की इन कर्कश
    घर्घराहटों के
    बहुत ही संवेदशील सच्ची कविता लगी ..

    उत्तर देंहटाएं
  7. हकीकत से आँखें मिलाती यह रचना संवेदित करती है। कुमार विनोद कहते हैं कि-

    जग से जीत भले न पाये, खुद से कब है हारा बच्चा।
    जग का बोझ लिए काँधों पर, फिरता है बंजारा बच्चा।।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    मुश्किलों से भागने की अपनी फितरत है नहीं।
    कोशिशें गर दिल से हो तो जल उठेगी खुद शमां।।
    www.manoramsuman.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत अच्ची अभिव्यक्ति है। इस विषय पर बहुत कम लिखा गया है।

    उत्तर देंहटाएं
  9. ये आकृतियाँ ट्रेन में
    जमूरे की बोली बोलते
    मुसाफिरों को लुभाने का
    बहत्तर करतब करते नज़र आयेंगी।

    ये आकृतियाँ संवेदना को खरोंचती हैं। प्रश्न अक्रती हैं कि विकास की दौड में हम कहाँ हैं।

    सोते-जागते,खाँसते-कुहरते
    बीमारियों से लड़ते
    मौत के साये में
    पलते-बढ़ते।

    ....वो सुबह कब आयेगी पता नहीं।

    उत्तर देंहटाएं
  10. ब्ळोग्गर पर तकनीकी दिक्कत के कारण टिप्पणी विलंब से कर रहा हूँ।

    इस संदर्भ पर एसी कविता मैने पहले नहीं पढी। आपका ऑब्जरवेशन पैना है। गहराई से केवल परिस्थिति ही आपने नहीं देखी अपितु उसका प्रस्तुतिकरण कविता को उँचाई प्रदन करता है।

    ***राजीव रंजन प्रसाद

    उत्तर देंहटाएं
  11. ये आकृतियाँ ट्रेन में
    जमूरे की बोली बोलते
    मुसाफिरों को लुभाने का
    बहत्तर करतब करते नज़र आयेंगी।"

    बेहतरीन दृश्य प्रस्तुत किया सुशील जी ....जीवन में बहुत सी ऐसी बातें होती हैं जिनका हमारे जीवन में कुछ सीधा प्रभाव नही होता या हम उसे समझ नही पाते ... जिस जिंदगियों का वर्णन आप ने किया है , ये बच्चे और उनका जीवन उन्हीं में से एक हैं .... सम्हाल कर रखने वाली कविता लिख बैठे हैं आप... बधाई .....

    उत्तर देंहटाएं
  12. सजीव चित्रण ....

    संवेदन शील गंभीर रचना...

    बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  13. संवेदनों का संचार करने में सक्षम रचना के लिये बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  14. plateform par jeevan bitane wale bachcho ki jindagi ka aisa marmsparshi chitran maine aajtak nahi dekha, shabd jaise khud bol parte hain aur hamari aankhon k saamne sabkuchh ek chhan ke liye jivant ho uthta hai.

    jaise.........

    उसके सपनों में भागते सुख
    का पीछा करती
    रोज़ कितनी ही जोख़िम भरी रातें
    यूँ ही कट रही हैं प्लेटफॉर्म पर

    उत्तर देंहटाएं
  15. यह सुशील कुमार की विशुद्ध जनवादी कविता है। बाल-श्रमिक रेलवे में भी पेट पालने के खातिर कितनी जोख़िम भरे काम करते हैं!सच्चे अनुभव से लिखी इस कविता के लिये उन्हें बधाई।-अंशु।

    उत्तर देंहटाएं
  16. kafi sambedanshil kavita hai aapki. sachmuch samaaj ko aaina dikhaati hai ye kavita

    उत्तर देंहटाएं
  17. सुशील जी की यह कविता बहुत मर्मस्पर्शी है। बाल-श्रमिकों के रूप प्लेटफार्म पर बच्चे का सच्चा चित्र यहां मिलता है। जनवाद की शिखर को छूती यह कविता अपने उद्देश्य में पूर्णत: सफल हुई है।

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget