15 comments:

  1. पंकज सक्सेना30 नवंबर 2008 को 6:04 pm

    कार्टून भी इतना संवेदनशील हो सकता है पता नहीं था।

    उत्तर देंहटाएं
  2. मुम्बई में जो कुछ हुआ इससे सारा देश स्तब्ध है, आपका कार्टून इसका बयान है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत बहुत बहुत गहरी संवेदनापूर्ण अभिव्यक्ति। इस कार्टून के लिए बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  4. मुम्बई का सही चित्रण किया आपने.. कार्टून के माध्यम से.

    उत्तर देंहटाएं
  5. अभिषेक जी,

    आपकी दार्शनिकता और गहरी सोच के साथ वेदना भी कार्टून में दिखती है। असाधारण कार्टून है।

    ***राजीव रंजन प्रसाद

    उत्तर देंहटाएं
  6. abhishek ji
    bahut acche kartoon aur creative soch ke liye badhai

    kavideepakgupta.com

    उत्तर देंहटाएं
  7. कार्टून से वेदना का अहसास ।
    वाह ! क्या कार्टून है।
    प्रवीण पंडित

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget