हमारे लिये यह अत्यंत हर्ष का विषय है कि साहित्य शिल्पी पर प्रकाशित माननीय आकांक्षा यादव जी के आलेख (खूब लड़ी मरदानी, अरे झाँसी वारी रानी) को लोकप्रिय दैनिक समाचार-पत्र अमर-उजाला ने प्रकाशित कर हमारा मान बढ़ाया है। इसके लिये हम उनका शुक्रिया अदा करते हैं।
साथ ही आकांक्षा जी और उन जैसे अन्य सभी साहित्य-शिल्पियों के भी हम शुक्रगुज़ार हैं जो अपनी उच्चस्तरीय रचनायें हमें भेजकर साहित्य शिल्पी के स्तर को उत्तरोत्तर ऊँचा उठाने में हमारी मदद करते हैं।

अमर-उजाला में प्रकाशित आलेख की स्कैन की गई एक प्रति:

[स्पष्ट न होने की स्थिति में कृपया चित्र पर चटका लगायें]

16 comments:

  1. अभी तो अंगडाई है , आगे और लड़ाई है ..:-)

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाकई आलेख बहुत बढिया है - आकाँक्षाजी को बधाई -
    साहित्य शिल्पी प्रगति करता रहे यही शुभकामना है
    - लावण्या

    उत्तर देंहटाएं
  3. ब्लॉगर'स के लिए आपने बड़ा काम किया
    बधाई और शुक्रिया ही कहूंगा

    उत्तर देंहटाएं
  4. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  5. साहित्य शिल्पी की पूरी team को मेरी बहुत बधाई और मेरी दिल से शुभकामनाएं है की ,ये पत्रिका , हिन्दी जगत में नए कीर्तिमान स्थापित करें...

    और हाँ , मैं इस पत्रिका से जुड़ा हुआ हूँ ,इस बात का गर्व है ..

    विजय

    उत्तर देंहटाएं
  6. आकांक्षा जी और सहित्यशिल्पी को बधाई कि रानी लक्ष्मीबाई पर लिखे इस लेख को लीडिंग हिंदी समाचार पत्र अमर उजाला में ब्लॉग कोना में प्रस्तुत किया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  7. अमर उजाला में सम्पादकीय पृष्ठ पर ब्लॉग कोना में यह अदभुत लेख पढना रोचक लगा. वाकई आकांक्षा यादव जी का यह लेख अलग हटकर है, बधाई स्वीकारें.

    उत्तर देंहटाएं
  8. Amar Ujala akhbar men blog ke kone men Akanksha ji ke is lekh ko padhkar achha laga.

    उत्तर देंहटाएं
  9. आकांक्षा जी की सुन्दर लेखनी से एक और अतिसुन्दर एवं सारगर्भित प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  10. Adbhut...Sahitya Shilpi aur Akanksha ji ko badhai.Bas yun hi kadam badhate rahen, karvan judta jayega !!

    उत्तर देंहटाएं
  11. साहित्य शिल्पी की चर्चा चारों तरफ है, कम समय में अच्छा नाम कमाया इस पत्रिका ने. फिर अमर उजाला और अन्य अख़बार क्यों न इसकी चर्चा करें....हार्दिक बधाई!!

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget