मैं शायर हूँ ज़बाँ मेरी कभी उर्दू कभी हिंदी
कि मैंने शौक़ से बोली कभी उर्दू कभी हिंदी

न अपनों ने कभी चाहा यही तकलीफ़ दोनों की
हैं बेबस एक ही जैसी कभी उर्दू कभी हिंदी

अदब को तो अदब रखते ज़बानों पर सियासत क्यों
सियासत ने मगर बाँटी कभी उर्दू कभी हिंदी

न लफ़्जों का वतन कोई न है मज़हब कोई इनका
ये कहते हैं फ़कत दिल की कभी उर्दू कभी हिंदी

महब्बत है वतन उसका, ज़बाँ उसकी महब्बत है
ख़्याल उसने ग़ज़ल कह दी कभी उर्दू कभी हिंदी

16 comments:

  1. अँग्रेज़ी के राज में हिन्दी और उर्दू दोनों बेबस है...

    अच्छी गज़ल..उम्दा विचार

    उत्तर देंहटाएं
  2. न लफ़्जों का वतन कोई न है मज़हब कोई इनका
    ये कहते हैं फ़कत दिल की कभी उर्दू कभी हिंदी

    बिलकुल सही कहा आपने।

    उत्तर देंहटाएं
  3. न लफ़्जों का वतन कोई न है मज़हब कोई इनका
    ये कहते हैं फ़कत दिल की कभी उर्दू कभी हिंदी
    " लफ्ज भी बेचारे बिना वतन के .... भावुक सी कहानी , लफ्जों की जुबानी ..."
    regards

    उत्तर देंहटाएं
  4. महब्बत है वतन उसका, ज़बाँ उसकी महब्बत है
    ख़्याल उसने ग़ज़ल कह दी कभी उर्दू कभी हिंदी

    नजरिया अच्छा लगा। गज़ल प्रभावी है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. गज़ल को जुबानों के झगडे से निकालने की अच्छी कोशिश है।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत बेहतरीन गजल है।बधाई स्वीकारें।

    न लफ़्जों का वतन कोई न है मज़हब कोई इनका
    ये कहते हैं फ़कत दिल की कभी उर्दू कभी हिंदी

    महब्बत है वतन उसका, ज़बाँ उसकी महब्बत है
    ख़्याल उसने ग़ज़ल कह दी कभी उर्दू कभी हिंदी

    उत्तर देंहटाएं
  7. न लफ़्जों का वतन कोई न है मज़हब कोई इनका
    ये कहते हैं फ़कत दिल की कभी उर्दू कभी हिंदी

    bahot khub kaha aapne dhero badhai ,umda lekhan hai wah,,,

    उत्तर देंहटाएं
  8. हर बार की तरह एक और खूबसूरत और संपूर्ण ग़ज़ल!

    अदब को तो अदब रखते ज़बानों पर सियासत क्यों
    सियासत ने मगर बाँटी कभी उर्दू कभी हिंदी

    काश हमारी ज़ुबानें इस शियासत से आज़ाद होतीं!

    उत्तर देंहटाएं
  9. खयाल साहब, बहुत ही उम्दा गज़ल है! हर एक शेर सधा हुआ और अत्यंत प्रभावी है.

    न अपनों ने कभी चाहा यही तकलीफ़ दोनों की
    हैं बेबस एक ही जैसी कभी उर्दू कभी हिंदी

    ऐसे खूबसूरत अशआर पढ़कर ’वाह’ करने को तो मन करता है पर कहीं एक टीस भी उठती है. पढ़ाने का आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  10. गज़ल अच्छी है। हर शेर रदीफ, काफिया और बहर(इसका मुझे ज्ञान नहीं, लेकिन चूँकि आपने लिखी है तो होगी हीं,यह मान रहा हूँ) में है।

    भाव भी अच्छे हैं,लेकिन मैं कुछ नयापन देखना चाहता था,जिसमें मुझे कमी लगी। जो लिखा है आपने,उसको पहले भी कई लोग कह चुके हैं। मैं चाहूँगा कि गज़ल में शिल्प के साथ-साथ भाव पर भी काम किये जाएँ।

    -"तन्हा"

    उत्तर देंहटाएं
  11. bahut acchi gazal ban padi hai , aur specially ye lines bahut umda hai .

    न लफ़्जों का वतन कोई न है मज़हब कोई इनका
    ये कहते हैं फ़कत दिल की कभी उर्दू कभी हिंदी

    bahut bahut badhai

    vijay

    उत्तर देंहटाएं
  12. Aap sab ne saraha sab ka aabharii hooN,
    Dear Vishavdeepak tanha ji,jiasa ki aapne kaha
    >>मैं कुछ नयापन देखना चाहता था,जिसमें मुझे कमी लगी। जो लिखा है आपने,उसको पहले भी कई लोग कह चुके हैं। <<
    khayal aur bhav kabhi naye nahi hote,aap agar sab shayaron ko paRen to lagega ki baateN to sab puranee hi haiN, lekin aapka kahne ka andaaz juda hota hai.
    Everything till now in poetry has been written, but yet we are writing, bcs our feelings are common.Anyway..
    thanks all and Rajeev ji.

    उत्तर देंहटाएं
  13. ...achhi, maanakhez ghazal hai, badhaaee. purani zameen mei apne naye lehje mei baat kehna bhi nayapan hi hota hai. muaashre ko bedaar rakhne ke liye kuchh baateiN kehte rahna paRhta hai.

    "kabhi alfaaz mei dastak,
    kabhi shabdoN mei aahat hai ,
    tsalli hai sukhanvar ki,
    kabhi urdu kabhi haindi."
    ---MUFLIS---

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget