घना है कुहासा
भोर है कि साँझ
डूब गया है
सब कुछ इस तरह
तमस के जाले से
छूटने को मारे हैं
जितने हाथ पाँव
और फंस गया हूँ
बुरी तरह…
वक्त का मकड़ा
घूरता है हर पल
अपना दंश मुझमें
धंसाने से पहले
याद है मुझे
‘'पुरू' हूँ
किन्तु 'पौरूष'
खो गया है
भटक रहा हूँ
युगों से
तलाश में …
उस शमी वृक्ष की
टांगा था मैनें
जिस पर कभी गाँडीव
अज्ञातवास की वेदना
अंधकार में अदृश्य घाव
डूबी नही है
चाह अब तक
एक नये सूरज की
उबारो …उबारो
तो मुझे
ओ ! मेरी
‘सोयी हुयी चेतना’
इस अन्धकार से
चीखता रहूँगा मैं
निस्तेज होने तक
शायद इसी आशा में
कि आओगे एक दिन
‘तुम’जो बिछड़ ग़ये थे मुझसे
अतीत के अनजाने मोड़ पर

8 comments:

  1. bahut sundar bhaav,

    poori kavita mein jindagi ki abhi lasha ji uthi hai .

    badhai

    vijay

    उत्तर देंहटाएं
  2. एक ओजस्वि कविता मन को झकझोर कर रख दिया खास कर आज के हालात मे

    उत्तर देंहटाएं
  3. चीखता रहूँगा मैं
    निस्तेज होने तक
    शायद इसी आशा में
    कि आओगे एक दिन
    ‘तुम’जो बिछड़ ग़ये थे मुझसे
    अतीत के अनजाने मोड़ पर..

    बहुत खूब श्रीकांत जी।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत अच्छी कविता है। बहुत बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत अच्छी और गहरी रचना है श्रीकांत जी। बहुत बहुत बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  6. चीखता रहूँगा मैं
    निस्तेज होने तक
    शायद इसी आशा में
    कि आओगे एक दिन
    ‘तुम’जो बिछड़ ग़ये थे मुझसे
    अतीत के अनजाने मोड़ पर

    प्रभावी कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुन्दर मनोभाव व्यक्त करती व सकारात्मक सोच लिये कविता

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget