विजयघोष के सन्नारों की चर्चा जारी रहने दो
अपने-अपने अधिकारों की चर्चा जारी रहने दो

वरना तुमको खा जायेंगे ये दहशत के सौदागर
बात-बात में अंगारों की चर्चा जारी रहने दो

जिन कूचों में खेल खेलते, बचपन छूट गया हमसे
उन कूचों की, गलियारों की चर्चा जारी रहने दो

चैनल युग की आपाधापी, घर का हिस्सा बन बैठी
विज्ञापित साहूकारों की चर्चा जारी रहने दो

समता व सद्भाव-एकता और समन्वय की खातिर
कंगूरों से मीनारों की चर्चा जारी रहने दो

सुबह लान में बैठ चाय की प्याली में तूफान लिये
पुन: ’मौदगिल’ अखबारों की चर्चा जारी रहने दो

22 comments:

  1. वैसे भी योगेन्द्र जी के गज़लो का जबाब नहीं.. एक और खुबसूरत गज़ल के लिये बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत बढिया योगेँद्र जी.

    उत्तर देंहटाएं
  3. वरना तुमको खा जायेंगे ये दहशत के सौदागर
    बात-बात में अंगारों की चर्चा जारी रहने दो

    समता व सद्भाव-एकता और समन्वय की खातिर
    कंगूरों से मीनारों की चर्चा जारी रहने दो

    सुबह लान में बैठ चाय की प्याली में तूफान लिये
    पुन: ’मौदगिल’ अखबारों की चर्चा जारी रहने दो

    बहुत खूब।

    उत्तर देंहटाएं
  4. वरना तुमको खा जायेंगे ये दहशत के सौदागर
    बात-बात में अंगारों की चर्चा जारी रहने दो

    बहुत अच्छी गज़ल। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  5. वरना तुमको खा जायेंगे ये दहशत के सौदागर
    बात-बात में अंगारों की चर्चा जारी रहने दो.
    बहुत खूब भाई साहब ,आनन्द आ गया .

    उत्तर देंहटाएं
  6. मौदगिलजी ,
    आपकी गज़ल मेँ
    वास्तविकता अँगारोँ की लपट सी उजागर हुई है !
    जारी रखिये ...
    - लावण्या

    उत्तर देंहटाएं
  7. समसामयिक विष्यों को अपने में समेटे हुए आपकी गज़ल पसन्द

    उत्तर देंहटाएं
  8. जिन कूचों में खेल खेलते, बचपन छूट गया हमसे
    उन कूचों की, गलियारों की चर्चा जारी रहने दो
    वाह मौदगिल भाई..वाह...कसम से आप को गले लगाने को दिल चाहता है...आज के हालत को आप जिस खूबी से अपनी ग़ज़लों में उतारते हैं वो बेमिसाल है...जिंदाबाद भाई जिंदाबाद...
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  9. गंभीर मुद्दों को ग़ज़ल किस तरह प्रस्तुत कर सकती है आपकी यह रचना उदाहरण है।

    उत्तर देंहटाएं
  10. सुबह लान में बैठ चाय की प्याली में तूफान लिये
    पुन: ’मौदगिल’ अखबारों की चर्चा जारी रहने दो
    daad kabool kareN.
    bahut khoob!!

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुन्दर मन के उदगार... निश्चय ही यह जरूरी है कि सभी आभावों और दुर्भावनापूर्ण षडयंत्रों के खिलाफ़ जंग लडी जाये .. प्रेरणात्मक रचना के लिये आभार

    उत्तर देंहटाएं
  12. "मौदगिल" जी, आपकी गज़ल मुझे बेहद पसंद आई।नीरज जी की बात से मैं भी इत्तेफाक रखता हूँ कि समसामयिक विषयों पर आपकी लेखनी एक अलग हीं रंग में नज़र आती है।

    मौदगिल जी! गज़ल-विधा में रदीफ और काफिया की मुझे जानकारी है, लेकिन अभी बहर की जानकारी ले रहा हूँ,सीख रहा हूँ। इसलिए अच्छा होता कि आप गज़ल के अंत में लिख देते कि गज़ल किस बहर में है। उम्मीद करता हूँ कि आगे से आप इस बात का ध्यान रखेंगे।

    रचना के लिए पुनश्च बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  13. Dear Yogendra ji,

    aapne bahut accha likha hai , specially ye lines , aaj ke hindustan ke liye bahut jaroori hai .

    समता व सद्भाव-एकता और समन्वय की खातिर
    कंगूरों से मीनारों की चर्चा जारी रहने दो

    bahut bahut badhai.

    regards
    vijay
    B : http://poemsofvijay.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  14. वरना तुमको खा जायेंगे ये दहशत के सौदागर
    बात-बात में अंगारों की चर्चा जारी रहने दो
    kavi ne bahut hi saral tarike se vartaman samay main ho rahi ghatnao aur usse nipatne ka sandesh prastoot kiya hain. Mera sadhuvad.
    A.L. Hanfee, Assistant Registrar, IPS Academy, Indore

    उत्तर देंहटाएं
  15. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  16. आज और आज के सच को बेहद सधे अंदाज़ मे नाख़ूनों की हल्की मार के साथ प्रस्तुत किया ।
    बहुत अच्छा ।

    प्रवीण पंडित

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत खूब है गजल में छुपा जीवन का तानाबाना
    नई सुबह की नई गजल की चर्चा जारी रहने दो

    उत्तर देंहटाएं
  18. चर्चा जारी रहने दो क्या बात है

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget