दुल्हन

अलसाये नयनों में निंदिया, भावों के झुरमुट मचलाए
घूंघट से मुख को जब खोला, आंखों का अंजन इतराए
फूल पर जैसे शबनम चमके, दुल्हन के माथे पर बिंदिया।
मुस्काए माथे पर बिंदिया।




मुजरा


तबले पर ता थइ ता थैया, पांव में घुंघरू यौवन छलके
मुजरे में नोटों की वर्षा, बार बार ही आंचल ढलके
माथे से पांव पर गिर कर, उलझ गई घुंघरू में बिंदिया
सिसक उठी छोटी सी बिंदिया



सीमा के रक्षक

दूर दूर तक हिम फैली थी, क्षोभ नहीं था किंचित मन में
गर्व से ‘जय भारत’ गुञ्जारा, गोली पार लगी थी तन में
सूनी हो गई मांग प्रिया की, बिछड़ गई माथे से बिंदिया।
छोड़ गई कुछ यादें बिंदिया।

19 comments:

  1. तीनों कवितायें अपने आप में पूर्ण और अलग अलग भावों का सुन्दर गुलदस्ता बन कर प्रस्तुत हुई हैं। महावीर जी को बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  2. पंकज सक्सेना20 नवंबर 2008 को 1:12 pm

    बिन्दिया मन भा गयी। हर दृष्टिकोण अनूठे तरीके से प्रस्तुत हुआ है। आखिती कविता रुलाने में सक्षम है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. सूनी हो गई मांग प्रिया की, बिछड़ गई माथे से बिंदिया।
    छोड़ गई कुछ यादें बिंदिया।

    Aaaaah....

    Alok Kataria

    उत्तर देंहटाएं
  4. फूल पर जैसे शबनम चमके, दुल्हन के माथे पर बिंदिया।
    मुस्काए माथे पर बिंदिया।
    ---
    माथे से पांव पर गिर कर, उलझ गई घुंघरू में बिंदिया
    सिसक उठी छोटी सी बिंदिया
    ---
    सूनी हो गई मांग प्रिया की, बिछड़ गई माथे से बिंदिया।
    छोड़ गई कुछ यादें बिंदिया।

    अध्भुत रचनायें हैं। मन को छूती हैं पंक्तियाँ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. एक ही विषय पर प्रस्तुत किये गये तीनों आयाम विविध है साथ ही साथ भावनाओं का तिरंगा प्रस्तुत कर रहे हैं।

    दूर दूर तक हिम फैली थी, क्षोभ नहीं था किंचित मन में
    गर्व से ‘जय भारत’ गुञ्जारा, गोली पार लगी थी तन में
    सूनी हो गई मांग प्रिया की, बिछड़ गई माथे से बिंदिया।
    छोड़ गई कुछ यादें बिंदिया।

    बहुत खूब। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत अच्छी कवितायें हैं, बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  7. teen alag alag projections of life with a single similarity


    wah ji wah ..

    badhai

    sochta hoon main bhi kuch aisa hi proyog karun ..

    good

    regards

    vijay

    उत्तर देंहटाएं
  8. Kavivar Shri Mahavir kee kavita
    "Bindia"ke teen rang bahut achchhe
    lage hain.

    उत्तर देंहटाएं
  9. आदरणीय महावीर जी,

    एक ही विषय पर लिखी गयी इन कविताओं में रंगों और संवेदनाओं की इतनी विविधता किसी अनुभवी कलम से ही संभव थी। रंग और रस की विविधता भरी इन क्षणिकाओं से बेहद अभिभूत हुआ ।

    ***राजीव रंजन प्रसाद

    उत्तर देंहटाएं
  10. तीनों रचनाएँ अलग-अलग भावों को प्रगट करने में पूर्णत्या सफल रही हैँ....बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  11. माथे से पांव पर गिर कर, उलझ गई घुंघरू में बिंदिया
    सिसक उठी छोटी सी बिंदिया
    ---
    सूनी हो गई मांग प्रिया की, बिछड़ गई माथे से बिंदिया।
    छोड़ गई कुछ यादें बिंदिया।



    एक विषय....विविध आयाम...

    बहुत सुन्दर....

    महावीर जी,
    बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  12. ३ - क्षणिकाएँ और ३ द्रश्य , अपने आप मेँ पूर्ण यही तो सिध्ध हस्त कवि की लेखनी का
    कमाल है जो मनोभावोँ को जोडने मेँ सक्षम है !
    आदरणीय महावीरजी को पढना एक सुखद अनुभव है
    - लावण्या

    उत्तर देंहटाएं
  13. परम आदरणीय महावीर जी..ऐसी विलक्षण रचना पढ़ कर क्या कहूँ? शब्द हीन हूँ...मेरी क्षमता नहीं की शब्दों में आनंद को बयां करूँ...इश्वर की कृपा है जो आप जैसे विलक्षण कवि को हमें पढने का मौका दे रहा है...नमन आप को मेरा बार बार नमन...
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  14. वाह री बिन्दिया, ओह री बिन्दिया.. आह री बिन्दिया

    उत्तर देंहटाएं
  15. जनाबे महावीर साहिब का नया अंदाज़
    काबिले तारीफ है बेहद पसंद आया
    हम आपकी ग़ज़ल के तो सचमुच कायल हैं
    लेकिन बिंदिया में जो बांकपन और हुस्ने तकरार
    आपने पैदा किया है ला जवाब है
    में अपनी ग़ज़ल का एक शेयर आपकी नज़र करता हूँ

    तमाम शहर में वीरानिया हैं मातम है
    के मुर्दा माथों पर बिंदिया चमकती है

    चाँद शुक्ला हदियाबादी
    डेनमार्क

    उत्तर देंहटाएं
  16. बिंदिया बहुत ही मन भावन ।
    हर रंग मे शोभित और अपेक्षित र्रोप से प्रभावी।

    प्रवीण पंडित

    उत्तर देंहटाएं
  17. बिंदिया बहुत ही मन भावन ।
    हर रंग मे शोभित और अपेक्षित र्रोप से प्रभावी।

    प्रवीण पंडित

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget