कुछ छोटे सपनो के बदले,
बड़ी नींद का सौदा करने,
निकल पडे हैं पांव अभागे, जाने कौन डगर ठहरेंगे

वही प्यास के अनगढ़ मोती,
वही धूप की सुर्ख कहानी,
वही आंख में घुटकर मरती,
आंसू की खुद्दार जवानी,
हर मोहरे की मूक विवशता, चौसर के खाने क्या जाने
हार जीत तय करती है वे, आज कौन से घर ठहरेंगे
निकल पडे हैं पांव अभागे, जाने कौन डगर ठहरेंगे

कुछ पलकों में बंद चांदनी,
कुछ होठों में कैद तराने,
मंजिल के गुमनाम भरोसे,
सपनो के लाचार बहाने,
जिनकी जिद के आगे सूरज, मोरपंख से छाया मांगे,
उन के भी दुर्दम्य इरादे, वीणा के स्वर पर ठहरेंगे
निकल पडे हैं पांव अभागे, जाने कौन डगर ठहरेंगे

17 comments:

  1. नमस्कार कुमार जी ,
    बहोत खूब कविता लिखी है आपने बहोत ही बढिया भाव भरे है.. आपको ढेरो बधाई साहब...

    उत्तर देंहटाएं
  2. कुछ पलकों में बंद चांदनी,
    कुछ होठों में कैद तराने,
    मंजिल के गुमनाम भरोसे,
    सपनो के लाचार बहाने,
    जिनकी जिद के आगे सूरज, मोरपंख से छाया मांगे,
    उन के भी दुर्दम्य इरादे, वीणा के स्वर पर ठहरेंगे
    निकल पडे हैं पांव अभागे, जाने कौन डगर ठहरेंगे

    बेहद प्रभावी कविता। बधाई डॉ. विश्वास

    उत्तर देंहटाएं
  3. कुछ छोटे सपनो के बदले,
    बड़ी नींद का सौदा करने,
    निकल पडे हैं पांव अभागे, जाने कौन डगर ठहरेंगे

    गहरी रचना है। आपको इस मंच से सुनसे की भी तमन्ना है, गुजारिश पूरी करें।

    उत्तर देंहटाएं
  4. पंकज सक्सेना28 नवंबर 2008 को 4:43 pm

    "निकल पडे हैं पांव अभागे, जाने कौन डगर ठहरेंगे" आपको इस रंग में पहली बार देखा। आपको पढना, आपको सुनने जितना ही आनंददायक अनुभव रहा। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  5. One of the bestof Dr. Kumar Vishwas

    Alok Kataria

    उत्तर देंहटाएं
  6. डॉ. कुमार विश्वास जी,
    साहित्य शिल्पी पर आपको पढ कर प्रसन्नता हुई। कविता में प्रवाह और बिम्ब नितांत प्रभावी हैं। यह आपके अनुभवी कलम की सुन्दर बानगी है...मैं अनुरोध करूंगा कि डॉ. नंदन की गुजारिश भी पूरी करें।

    ***राजीव रंजन प्रसाद

    उत्तर देंहटाएं
  7. कुछ पलकों में बंद चांदनी,
    कुछ होठों में कैद तराने,
    मंजिल के गुमनाम भरोसे,
    सपनो के लाचार बहाने,
    जिनकी जिद के आगे सूरज, मोरपंख से छाया मांगे,
    उन के भी दुर्दम्य इरादे, वीणा के स्वर पर ठहरेंगे
    निकल पडे हैं पांव अभागे, जाने कौन डगर ठहरेंगे

    कविता की लय...तारत्म्यता....भाव...बेहद पसन्द आया....बधाई स्वीकारें

    उत्तर देंहटाएं
  8. namaskar kumar ji ,

    bahut sundar bhaav hai aaapki kavita mein .



    badhai

    vijay

    उत्तर देंहटाएं
  9. aapko maine you-tube mein suna tha . aap bahut accha bolte hai .

    vijay

    उत्तर देंहटाएं
  10. aapko maine you-tube mein suna tha . aap bahut accha bolte hai .

    vijay

    उत्तर देंहटाएं
  11. aapko maine you-tube mein suna tha . aap bahut accha bolte hai .

    vijay

    उत्तर देंहटाएं
  12. sahitya shilpi par apko padhkar bahut achcha laga. Kavita to sada ki tarah atyant sundar aur pravawshali hai

    उत्तर देंहटाएं
  13. प्रदेश पलायन का सुन्दर चित्रण व
    मन की चंचलता व विहलता का सटीक प्रसार करती रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  14. ise padhkar aisa lagtaa hai aapko pahlee baar padh rahaa hon.
    behad gambheer aur arthpoorn rachnaa.

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget