इन दिनों दिखाई नहीं देते उसे
फूल के संग काँटे
इन दिनों जून के महीने मे भी
महसूस नहीं होती उसे
बदन पर धूप की चुभन
खीझती नहीं वह
उस पत्थर पर
जिससे राह चलते चलते
ठोकर लगी है उसे अभी
नाराज नही होती वह
अपने – परायों की शातिराना चालाकियों पर
इन दिनों
शिकायत भी नहीं रही उसे
अभावों और दु:खों की
इन दिनों
परवाह भी नही करती वह
वक़्त के कडे तेवरों की
इन दिनों
उमंग से भरी पुलक से भरी
उडती है हवा संग
महकती है फूल संग
लहराती है लहर संग
इन दिनों
प्रेम मे आकंठ डूबी है वह

6 comments:

  1. प्रेम में आकंठ डूब जाना अपने आप में एक वरदान की प्राप्ति जैसा है जो सभी को नही मिलता | और उस का ह्रदय से वर्णन करने की क्षमता का होना भी इसी श्रेणी में आता है | बड़ी ही चित्रात्मक और भावपूर्ण कविता | बधाई |कविता का प्रेरणा स्रोत के बारे में जानना चाहेंगे | :-)

    उत्तर देंहटाएं
  2. प्रेम शब्द स्वयं में इतना सुंदर है
    कि उससे जो भी जुड़ेगा सुंदर हो जायेगा......बहुत सुंदर....

    और शुभकमनाएँ....आप आकण्ठ उम्र भर प्रेम में डूबी रहें.....तथास्तु.....

    स-स्नेह

    गीता पंडित

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्रेमोद्गार देखते बनते है।
    गहरे पानी पैठे बिना वाणी कैसे अभिव्यक्त करे ?

    प्रवीण पंडित

    उत्तर देंहटाएं
  4. सशक्त रचना... प्रेम में यही शक्ति है कि उसके सामने कोई बाधा खडी नहीं रह सकती.

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget