बर्मिंघम (यू.के.) से पधारे प्रतिष्ठित कवि एवं हिन्दी सेवी डॉ. कृष्ण कुमार के मुम्बई आगमन पर कवयित्री माया गोविन्द के आवास पर जीवंती संस्था की और से उनका सार्वजनिक अभिनन्दन किया गया | डॉ. कृष्ण कुमार का परिचय कराते हुए कवि-संचालक देवमणि पाण्डेय ने कहा कि कवि और लेखक होने के साथ ही डॉ. कृष्ण कुमार 'गीतांजलि बहुभाषीय साहित्यिक समुदाय' के ज़रिए पिछले 12 सालों से अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भारतीय संस्कृति के प्रचार-प्रसार और भाषायी समन्वय के अभियान में पूर्णरूप से समर्पित हैं | अपने सम्मान के उत्तर में डॉ. कृष्ण कुमार ने कहा कि वक़्त की चुनौतियों को देखते हुए आज यह ज़रूरी हो गया है कि हम अपनी मातृभाषा को जीवित मां समझें और अपनी भाषाओं के सम्मान में ज़रा भी शर्म महसूस करें | कार्यक्रम में सुप्रसिद्ध रंगकर्मी नादिरा बब्बर, प्रतिष्ठित फ़िल्म लेखिका डॉ. अचला नागर, कवि डॉ. बोधिसत्व, कथाकार अलका अग्रवाल और गायिका डॉ. रश्मि चौकसे जैसे कई गणमान्य व्यक्ति मौजूद थे | इस अवसर पर आयोजित काव्य गोष्ठी की अध्यक्षता वरिष्ठ साहित्यकार नंदलाल पाठक ने की | पाठक जी ने चुनिंदा शेर सुनाए-

मैं यूं तो डाल से टूटा हुआ सूखा सा पत्ता हूं
मुझे सर पे उठाए फिर रही हैं आंधियां कितनी
हमने ही सपने बोए थे तब तुम आज फ़सल तक पहुंचे
आँसू बहुत बहाए हमने तब तुम गंगाजल तक पहुंचे

माया गोविंद ने ब्रजभाषा के कुछ छंद तथा एक ग़ज़ल सुनाई-

सूनी आँखों में जलीं देखीं बत्तियां हमने
जैसे घाटी में छुपी देखीं बस्तियां हमने
अब भटकते हैं हम सहरा में प्यास लब पे लिए
हाय क्यूं बेच दीं सावन की बदलियां हमने

डॉ. कृष्ण कुमार ने सामयिक कविता पढ़ी-

परबतों से पत्थरों को काटकर लाना सरल
पत्थरों को काटकर मूरत बनाना भी सरल
किन्तु इनमें प्राण का लाना नहीं आसान है
चेतना को बेच अब सोया हुआ इंसान है

संचालक देवमणि पाण्डेय ने ग़ज़ल सुनाई-

इस जहां में प्यार महके ज़िंदगी बाक़ी रहे
ये दुआ मांगो दिलों में रोशनी बाक़ी रहे
आदमी पूरा हुआ तो देवता हो जाएगा
ये ज़रूरी है कि उसमें कुछ कमी बाक़ी रहे

नवभारत टाइम्स से जुड़े पत्रकार कैलाश सेंगर ने भी ग़ज़ल सुनाई-

गूंगी चीखें, बांझ भूख और उस बेबस सन्नाटे में
हमने अपनी ग़ज़लें खोजीं चूल्हे, चौके, आटे में


इनके अलावा गोष्ठी में कवितापाठ करने वाले मुम्बई महानगर के प्रमुख रचनाकार थे-डॉ. सुषमासेन गुप्ता, देवी नागरानी, कविता गुप्ता, रेखा रोशनी, राम गोविन्द. दिनेश थपलियाल, दीपक खेर, और अनंत श्रीमाली | 'जीवंती' के अध्यक्ष वेद रतन ने आभार व्यक्त किया |

7 comments:

  1. काश हम भी वहाँ होते :-(...

    खैर!...जानकारी के लिए शुक्रिया...

    उत्तर देंहटाएं
  2. साहिय समाचार के लिये धन्यवाद, एसी गतिविधियों की जानकारी मिलती रहनी चाहिये।

    उत्तर देंहटाएं
  3. डॉ. कृष्ण कुमार जी को अभिनन्दन के लिये बधाई और देवमणि पाण्डेय जी को यह जानकारी देने के लिये धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  4. डॉ. कृष्ण कुमार जी को
    अभिनन्दन के लिये..... बधाई

    जानकारी के लिए....
    आभार।

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget