हम दोनों ही
बड़ा बनना चाहते थे-
तुम्हें
उनकी नजरों में बड़ा दिखना था,
मुझे
मेरी नजरों में ।

-----

दोनों को ईश्वर नहीं मिला ,
तुम्हें वो नहीं मिला,
मुझे तुम ।

-----

जीवन भर ,
मैनें अपनी पहचान ढूँढी,
फ़िर -
मुझे तुम मिले ।

*****

17 comments:

  1. तीनों क्षणिकाएं बेहतरीन हैं। तीसरी वाली में ज्यादा नयापन नहीं है,लेकिन बाकी दो तो शुभान-अल्लाह!!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. दोनों को ईश्वर नहीं मिला ,
    तुम्हें वो नहीं मिला,
    मुझे तुम ।

    -----

    जीवन भर ,
    मैनें अपनी पहचान ढूँढी,
    फ़िर -
    मुझे तुम मिले ।
    वाह बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  3. दोनों को ईश्वर नहीं मिला ,
    तुम्हें वो नहीं मिला,
    मुझे तुम ।
    kyaa baat hai

    उत्तर देंहटाएं
  4. kavitaa to theekthak hai...lekin behtar hoga is mutual admiration committee se bachen jahan har kachraa vaah vaah hai.

    उत्तर देंहटाएं
  5. भाई हमें तो मज़ा नहीं आया :(

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत अच्छा लिखा है...लिखते रहें...
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  7. आलोक जी! आपकी काव्य-प्रतिभा से परिचित होने के नाते मुझे आपकी यह रचनायें (बल्कि कहना चाहिये कि रचना क्योंकि मेरे विचार से ये तीन स्वतंत्र क्षणिकायें न होकर एक कविता है) आपके स्तर के अनुरूप नहीं लगीं. आपसे इससे बहुत बेहतर की उम्मीद रहती है.
    आशा है कि आप इसे सकारात्मक लेंगे.

    उत्तर देंहटाएं
  8. आप की क्षणिकाएं बहुत अच्छी लगीं।

    दोनों को ईश्वर नहीं मिला ,
    तुम्हें वो नहीं मिला,
    मुझे तुम ।

    उत्तर देंहटाएं
  9. आपकी क्षणिका
    यानी
    चाँद शब्दों में
    भावों की पूरी मनिका
    बधाई स्वीकारें.

    उत्तर देंहटाएं
  10. दोनों को ईश्वर नहीं मिला ,
    तुम्हें वो नहीं मिला,
    मुझे तुम ।.....


    तीनों क्षणिकाएँ.....अच्छी हैँ....बढिया हैँ.....

    उत्तर देंहटाएं
  11. सुन्दर...

    कभी कभी हम जिसको सारे जहान में ढूंढते फ़िरते हैं वो अपने आस पास या अपने अन्दर ही मिल जाता है..गूढ दार्शनिक विचार है.

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत बढ़िया भाई ...

    शब्द जी उठे है आपकी कविता में ..

    मुझे ये पंक्तियाँ अच्छी लगी ..

    दोनों को ईश्वर नहीं मिला ,
    तुम्हें वो नहीं मिला,
    मुझे तुम ।

    यार दोनों का काबा काशी एक ही है .....
    मोहब्बत और ईश्वर दोनों को मेरा सलाम

    बहुत बहुत बधाई


    विजय

    उत्तर देंहटाएं
  13. दोनों को ईश्वर नहीं मिला ,
    तुम्हें वो नहीं मिला,
    मुझे तुम ।
    kavi ki sanikaye bahut kam shabdo main kafi gahri bate darsha rahi hain. ek vakya ke anek arth hain, apko likhne ka adhikar hain, meri shubhkamnaye
    A L Hanfee, Assistant Registrar, IPS Academy, Indore

    उत्तर देंहटाएं
  14. हम दोनों ही
    बड़ा बनना चाहते थे-
    तुम्हें
    उनकी नजरों में बड़ा दिखना था,
    मुझे
    मेरी नजरों में ।

    -----

    दोनों को ईश्वर नहीं मिला ,
    तुम्हें वो नहीं मिला,
    मुझे तुम ।


    chhu gaye sir sach

    उत्तर देंहटाएं
  15. you have a nice shanika. I would like to hear such beautiful lines ever. do email me like this, I would be happy if you write for Dharti ke liye, how to save dharti earth.
    congratulations

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget