मुझे तुम पर शर्म आ रही है अल्बर्ट। तुम इस लायक भी नहीं रह गये हो माय सन कि तुम्हें बेटा कहूं। पता नहीं यह पत्र पढ़ने के लिए तुम घर पर लौट कर आओगे भी या नहीं। मुझे पता होता कि यहां आने पर मुझे इस तरह से परेशान होना पड़ेगा तो मैं आता ही नहीं। चार दिन से बंबई आया हुआ हूं और तुम्हारा बंद दरवाजा ही देख रहा हूं। सुबह शाम तुम्हारे घर के चक्कर काट काट कर थक गया हूं। तुम्हारा पड़ोसी बता रहा था कि यह पहला मौका नहीं है कि तुम चार पांच दिन से घर नहीं लौटे हो। पहले भी कई बार ऐसा होता रहा है कि तुम कई कई दिन घर नहीं लौटते या घर पर होते हो तो दरवाजा नहीं खोलते। कहां रहते हो, क्या करते हो, किसी को कोई खबर नहीं। तुम्हारे ऑफिस के भी चक्कर काटता रहा हूं। वहां तुम पंद्रह दिन से नहीं गये हो। दरअसल तुम्हारे ऑफिस ने जब तुम्हारी खोज खबर लेने के लिए ये वाली रजिस्ट्री हमारे पास गोवा भेजी तो ही हमें पता चला कि तुम फिर अपनी पुरानी हरकतों पर उतर आये हो तो मुझे खुद आना पड़ा। अब मैं तुम्हें कैसे बताऊं कि मुझे यहां आने के लिए कितनी मुश्किलों से पैसों का जुगाड़ करना पड़ा है।

अल्बर्ट, क्यों तुम इस तरह से अपने आप से नाराज़ हो और खुद को शराब में खत्म कर रहे हो। कितने बरस हो गये तुम्हें इस तरह से एक बेतरतीब, बेकार और अर्थहीन जिंदगी जीते हुए। तुम महीना महीना ऑफिस नहीं जाते। जाते भी हो तो पीये रहते हो। तुम्हारे ऑफिस वाले बता रहे थे कि तुम काम में एक्सपर्ट होने के बावजूद काम नहीं कर पाते क्योंकि न तो तुममें काम में ध्यान देने की ताकत रह गयी है और न ही तुम्हारा शरीर ही इस बात की इजाज़त देता है। तुम्हारे ऑफिस वाले इन सबके बावजूद तुम्हें नौकरी से नहीं निकालते। तरह तरह से काउंसलिंग करके, जुर्माने लगा कर और वार्निंग दे कर तुम्हें सही राह पर लाने की कोशिश करते रहते हैं। सिर्फ इसलिए कि तुम फुटबॉल के बहुत अच्छे खिलाड़ी रहे हो। काम में बहुत माहिर माने जाते रहे हो और फिर तुम्हें ये नौकरी खिलाड़ी होने की वजह से ही तो मिली थी। उन्हें विश्वास है कि तुम ज़रूर यीशू मसीह की शरण में लौट आओगे और फिर से अच्छा आदमी बनने की कोशिश करोगे। पर कहां। तुम जो जिंदगी जी रहे हो, तुमने कभी सोचा है कि तुम खुद के साथ और अपने बूढ़े पेरेंट्स के साथ कितना गलत कर रहे हो। हमारी बात तो खैर जाने दो। बहुत जी लिये हैं। रही सही भी किसी तरह कट ही जायेगी। पर कभी अपनी भी तो सोचो। इस तरह से कब तक चलेगा।

याद करो बेटा, तुमने कितना शानदार कैरियर शुरू किया था। किसी भी फील्ड में तुम पीछे नहीं रहे थे। पढ़ाई में तो हमेशा फर्स्ट आते ही थे, सभी स्पोर्ट्स में खूब हिस्सा लेते थे तुम। स्कूल और कॉलेज की फुटबॉल की टीम के हमेशा कैप्टन रहे। फिर गोवा की तरफ से खेलते रहे। तुम्हारी पर्फार्मेंस बेहतर होती गयी थी। तब हम सब कितने खुश हुए थे जब कुआलाम्पुर जाने वाली नेशनल टीम में तुम चुने गये थे। उस रात हम देर तक नाचते गाते रहे थे।

तुम्हारी टीम जीत कर आयी थी। जीत का गोल तुमने दागा था। तुम्हारी वापसी पर एक बार फिर हमने सेलिब्रेट किया था। हमने मदर मैरी को थैन्क्स कहा था कि तुम्हारा लाइफ कितने शानदार तरीके से शुरू होने जा रहा था। तभी तुम्हें स्पोर्ट्स कोटा में ये नौकरी मिल गयी थी और तुम बंबई आ गये थे। बस, बेटे तभी से तुम शराब के हो कर रह गये हो। तुमने एक बार भी पीछे मुड़ कर नहीं देखा है। पहले तुम बंबई में आपनी शामों का अकेलापन काटने के लिए पीते रहे। हमने बुरा नहीं माना। हमारी पूरी कम्यूनिटी पीती है। सेलिब्रेट करती है। और फिर हम तुम्हें साथ बिठा कर पिलाते रहे हैं, लेकिन एक लिमिट तक। पर शायद हमारी ही गलती रही। तुम तो रोज़ ही पीने लग गये थे। दिन में नौकरी या थोड़ी बहुत फुटबॉल और शाम को तुम अकेले ही पीने बैठ जाते थे। जब हमें पता चला था तो हमने यही समझा था कि नया नया शौक है, तुम खुद संभल जाओगे, लेकिन नहीं। तुम नहीं संभले तो नहीं ही संभले। हमने तुम्हारी मैरिज करानी चाही तो तुम हमेशा ये कह कर ही टालते रहे कि खुद तो होटल की डोरमैटरी में पड़ा हूं, फैमिली कहां रखूंगा।

बस, तब से सब कुछ हाथ से छूटता चला गया है। कितने बरस हो गये तुमसे ढंग से बात किये हुए। गोवा तुम कभी आते नहीं। तुम्हारी ममा तुम्हारे लिए कितना तो रोती है। अब तो बेचारी ढंग से चल फिर भी नहीं सकती। बेटे का सुख न उसने देखा है न मैंने।

तुम यकीन नहीं करोगे अल्बर्ट, उस समय मैं कितना टूट गया था जब तुम्हारे ऑफिस के लोगों ने हमें बताया कि तुम्हारी गैर हाजरी के कारण तुम्हारी पगार हर साल बढ़ने के बजाये कम कर दी जाती है। कोई ऐसा एंडवास या लोन नहीं जो तुमने न ले रखा हो। ऑफिस का कोई ऐसा बंदा नहीं जिसके तुमने सौ पचास रुपये न देने हों। और कि तुम कहीं भी पार्क में, रेलवे प्लेटफार्म पर या ऑफिस की सीढियों में ही सो जाते हो। सामान के नाम पर तुम्हारे पास टूथ ब्रश और दो फटे पुराने कपड़ों के अलावा कुछ भी नहीं। एक जोड़ा जो तुमने पहना होता है और दूसरा, तुम्हें ये फ्लैट मिलने तक तुम्हारी ड्रावर में रखा रहता था।

तुम्हारे सैक्शन ऑफिसर बता रहे थे कि तुम ढंग से जी सको, और अपनी पूरी पगार एक ही दिन में पीने में न उड़ा दो, इसके लिए उन्होंने तुम्हारी पगार एक साथ न देकर तुम्हें कुछ रुपये रोज देना शुरू किया था लेकिन कितने दिन। तुम तब से ऑफिस ही नहीं गये हो।

माय सन, शायद हमें ये दिन भी देखने थे। इस बुढ़ापे में तुम्हारी मदद मिलना तो दूर, हर बार कोई ऐसी खबर जरूर मिल जाती है कि हम शर्म के मारे सिर न उठा सकें। तुम्हारा पड़ोसी बता रहा था कि जब ऑफिस से सीनियरटी के हिसाब से तुम्हें ये फ्लैट मिला तो तुम्हारे पास फ्लैट की सफाई के लिए झाड़ू खरीदने तक के पैसे नहीं थे। सामान के नाम पर तुम्हारी मेज की ड्रावर में जो सामान रखा था, वही तुम एक थैली में भर कर ले आये थे। तुम्‍हारी लत ने तुम्हें यहां तक मजबूर किया कि तुम फ्लैट के पंखे तक बेचने के लिए किसी इलैक्ट्रिशियन को बुला लाये थे।

बेटे, तुम छोड़ क्यों नहीं देते ये सब . . . नौकरी भी। गोवा में हमारे साथ ही रहो। जैसे तैसे हम चला रहे हैं, तुम्हारे लिए भी निकाल ही लेंगे। हर बार तुम वादा करते हो, कसम खाते हो, दस बीस दिन ढंग से रहते भी हो, फिर तुम वही होते हो और तुम्हारी शराब होती है।

तुम्हारे ऑफिस वालों ने तुम्हारी मेडिकल रिपोर्ट दिखायी थी मुझे। गॉड विल हैल्‍प यू माय सन। तुम जरूर अच्छे हो जाओगे। छोड़ दो बेटे ये सब। तुम्हारी ममा तुम्हारी सेवा करके तुम्हें अच्छा कर देगी।

पिछले एक बरस में मैं चौथी बार बंबई आया हूं। पिछली बार की तरह इस बार भी तुम मुझे नहीं मिले हो। तुम्हारी ममा ने इस बार यही कह कर मुझे भेजा था कि तुम्हें साथ ले ही आऊं। पर तुम्हें ढूंढूं कहां। पिछले चार दिन से तुम्हारे घर और ऑफिस के चक्कर काट काट कर थक गया हूं। तुम्हारी तलाश में कहां कहां नहीं भटका हूं। तुम कहीं भी तो नहीं मिले हो।

अल्बर्ट, मैं थक गया हूं। तुम्हें समझा कर भी और तुम्हें तलाश करके भी। फिर कब आ पाऊंगा कह नहीं सकता। इन चार दिनों में भी होटल में, खाने पीने में और आने में कितना तो खर्चा हो गया है। चाह कर भी एक दिन भी और नहीं रुक सकता। वापसी के लायक ही पैसे बचे हैं।

ये खत मैं तुम्हारे दरवाजे के नीचे सरका करक जा रहा हूं। कभी लौटो अपने घर और होश में होवो तो ये खत पढ़ लेना। मैं तो तुम्हें अब क्या समझाऊं। तुम्हें अब यीशू मसीह ही समझायेंगे और ..

गॉड ब्लेस यू माय सन..।

15 comments:

  1. विवश पिता की कचोट का सुन्दर प्रस्तुतिकरण है आपकी लघुकथा में।

    उत्तर देंहटाएं
  2. "ये खत मैं तुम्हारे दरवाजे के नीचे सरका करक जा रहा हूं। कभी लौटो अपने घर और होश में होवो तो ये खत पढ़ लेना। मैं तो तुम्हें अब क्या समझाऊं। तुम्हें अब यीशू मसीह ही समझायेंगे और ..

    गॉड ब्लेस यू माय सन..।

    PAINFUL..

    Alok Kataria

    उत्तर देंहटाएं
  3. एक आहत पिता के मन की बात आपने बखूबी अपनी रचना के माध्यम से प्रस्तुत कर दी..
    गाड ब्लेस यू... लिखते रहिये

    उत्तर देंहटाएं
  4. कहानी बहुत अच्छी लगी। विवशता में किये गये आखिती प्रयास को बखूबी दर्शाया है आपने।

    उत्तर देंहटाएं
  5. पंकज सक्सेना10 दिसंबर 2008 को 3:31 pm

    लगता नहीं है कि किसी लेखक की पहली कहानी हो, पूर्ण परिपक्व है। अच्छा लगा पढना, धन्यवाद सूरजप्रकाश जी इस प्रस्तुति के लिये।

    उत्तर देंहटाएं
  6. सूरजप्रकाश जी नें अपने फरीदाबाद प्रवास में कहानी पर चर्चा के दौरान कहा था कि देर से लेखन आरंभ करने का मुझे यह फायदा हुआ कि मैने कच्चा लेखन नहीं किया। आपकी यह कहानी आपकी बात सत्यापित करती है। प्रभावी कहानी।

    उत्तर देंहटाएं
  7. ये कहानी तो पुरी तरीके से चलती रही आँखों के सामने.. बहोत ही बढिया प्रस्तुति आपके द्वारा ..... बहोत खूब लिखा है आपने ... ढेरो बधाई आपको....

    अर्श

    उत्तर देंहटाएं
  8. आपकी कहानियाँ सदा ही बहुत अच्छी लगी हैं...
    यह भी उतनी ही प्रभावशाली हैं...
    बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  9. मार्मिक कहानी...

    जैसे पूत के पांव पालने में ही दिख जाते हैँ....वैसे ही सूरज जी की ये पहली कहानी पढने से ही उनके अन्दर छिपी लेखकीय प्रतिभा का पता चलता है।

    उत्तर देंहटाएं
  10. aapne bahut accha likha hai .

    main padhte padhte kahin kho gaya tha . zindagi ke apne rang hoten hai , is lagukatha ne aanken nam kar di.

    ye lines bahut acchi hai
    "ये खत मैं तुम्हारे दरवाजे के नीचे सरका करक जा रहा हूं। कभी लौटो अपने घर और होश में होवो तो ये खत पढ़ लेना। मैं तो तुम्हें अब क्या समझाऊं। तुम्हें अब यीशू मसीह ही समझायेंगे और ..

    bahut bahut badhai

    vijay
    http://poemsofvijay.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  11. इसको कहते कहानी, जो ह्र्दय पर बैठ जाये... बहुत उत्तम रचना... बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  12. surajprakash ki 1984 meiN likhi iis laghu katha ke baarey mein jo sabhee kee raay wahi meri bhee raay hai.

    marmikata liye huye ye kahani sach mein bahut acchi aur sateek hai.

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget