किसी शांतिदूत की सुरक्षित हथेलियों में
उन्मुक्त आकाश की अनंत ऊँचाइयों
की निस्सीम उडान को आतुर
शरारती बच्चों से चहचहाते
धवल कपोत नही हैं ये

न किसी दमयंती का संदेशा लिए
नल की तलाश में भटकते धूसर प्रेमपाखी
किसी उदास भग्नावशेष के अन्तःपुर की
शमशानी शान्ति में जीवन बिखेरते पखेरू भी नही
न किसी बुजुर्ग गिर्हथिन के
स्नेहिल दाने चुगते चुरगुन
मंदिरों के शिखरों से मस्जिदों के कंगूरों तक
उड़ते निशंक
शायरों की आंखों के तारे
बेमज़हब परिंदे भी नही ये

भयाकुल शहर के घायल चिकित्सागृह की
मृत्युशैया सी दग्ध हरीतिमा पर
निःशक्त परों के सहारे पड़े निःशब्द
विदीर्ण ह्रदय के डूबते स्पंदनों में
अँधेरी आंखों से ताकते आसमान
गाते कोई खामोश शोकगीत
बारूद की भभकती गंध में लिपटे
ये काले कपोत !

कहाँ -कहाँ से पहुंचे थे यहाँ बचते बचाते
बल्लीमारन की छतों से
बामियान के बुद्ध का सहारा छिन जाने के बाद
गोधरा की उस अभागी आग से निकल
बडौदा की बेस्ट बेकरी की छतों से हो बेघर
एहसान जाफरी के आँगन से झुलसे हुए पंखों से
उस हस्पताल के प्रांगन में
ढूँढते एक सुरक्षित सहारा

शिकारी आएगा - जाल बिछायेगा - नहीं फंसेंगे
का अरण्यरोदन करते
तलाश रहें हो ज्यों प्रलय में नीरू की डोंगी
पर किसी डोंगी में नहीं बची जगह उनके लिए
या शायद डोंगी ही नहीं बची कोई

उड़ते - चुगते- चहचहाते - जीवन बिखेरते
उजाले प्रतीकों का समय नहीं है यह
हर तरफ बस
निःशब्द- निष्पंद- निराश
काले कपोत !

*****

19 comments:

  1. आज हर कोई आतंक के साए में जी रहा है...कब कोई दुर्घटना घट जाए...कुछ पता नहीं...


    आपकी कविता अच्छी लगी लेकिन कहीं-कहीं कठिन शब्दों का प्रयोग अखरा भी...अच्छा होता यदि आप कठिन शब्दों के अर्थ भी साथ में देते जिससे आम पाठकों को कविता के मर्म को समझने में आसानी होती...

    उत्तर देंहटाएं
  2. शिकारी आएगा - जाल बिछायेगा - नहीं फंसेंगे
    का अरण्यरोदन करते
    तलाश रहें हो ज्यों प्रलय में नीरू की डोंगी
    पर किसी डोंगी में नहीं बची जगह उनके लिए
    या शायद डोंगी ही नहीं बची कोई

    सशक्त अभिव्यक्ति है। बहुत अच्छा प्रतीक चुना है आपने अपनी बाल कहने के लिये।

    उत्तर देंहटाएं
  3. उड़ते - चुगते- चहचहाते - जीवन बिखेरते
    उजाले प्रतीकों का समय नहीं है यह
    हर तरफ बस
    निःशब्द- निष्पंद- निराश
    काले कपोत !

    सच्ची बात। बहुत प्रभावशाली रचना। आज के समय के बिलकुल अनुकूल।

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुन्दर भावभरी सार्थक संदेश देती कविता

    उत्तर देंहटाएं
  5. धवल- सफ़ेद
    भग्नावशेष- खँडहर
    दग्ध- जली हुई
    विदीर्ण - टूटे हुए

    राजीव जी आपके आदेश पर हमने अर्थ दे दिए.
    (यह कविता अहमदाबाद विस्फोट के बाद लिखी गयी थी. )

    उत्तर देंहटाएं
  6. रचना मन में गहरी सोच उत्पन्न करती है। हर समय यह सामयिक है..यह दौर एसा ही है।

    उत्तर देंहटाएं
  7. “काले कपोत” अशोक कुमार पाण्डेय की बेहतरीन कविता है जिसमें प्रगतिशीलता के तत्व सुगमता से लक्षित किये जा सकते हैं। मैं राजीव तनेजा जी की इस बात से सहमत नहीं कि कविताओं को सदैव सरल ही होना चाहिये। यथार्थ की गहराई से टटोल के कारण कविता कहीं-कहीं क्लिष्ट भी हो सकती है और उनके भाव संश्लिष्ट भी। मुक्तिबोध और निराला की कवितायें ऐसी ही हैं। मुक्तिबोध की कविता “चाँद का मुँह टेढ़ा है” और “अँधेरे में” जटिल कवितायें ही हैं पर यथार्थ की पड़ताल के कारण ये कवितायें हिंदी की मानक कवितायें बन पड़ी हैं और इन्हें व्यापक स्वीकृति मिली है जिससे आज भी शिद्दत से पढ़ी जाती है।
    डर के साये में जी रहे आदमी का बयान है “काले कपोत” कविता जिसमें बिम्ब चित्रात्मकता को व्यक्त करने में सफल हुये हैं। कविता की भाषिक संरचना भी अन्यतम हैं। ‘गिर्हथिन’,‘चुरगुन’,‘डोंगी’ जैसे देशज शब्दों का प्रयोग कविता में भाव के अनुरूप हुआ है जो उसे चेतस और भावप्रवण बनाते हैं। जिन कविताओं को कवि की व्यक्तिगत अनुभूति के स्तर पर जटिल और दुर्बोध बना दिये जाते हैं वह (कठिनता) कवि के रूपवादी आग्रहों की वज़ह से मोह के वशीभूत हो जाने से प्रत्युत्पन्न होता है। इनमें जन की आवाज़ कुंद हो जाती है और ये सिर्फ़ मध्यम-वर्ग के मानसिक तृप्ति का साधनमात्र बनकर रह जाते हैं। यहां अशोक कुमार पाण्डेय ने कविता में संश्लिष्टता का जो प्रमाण दिया है,उसमें जनवाद की महक़ है,फिर भी कवि का ध्यान हमेशा यह होना चाहिये कि कविता इन्द्रिय-बोध के स्तर से लिखी जाय और अंतर्वस्तु के प्रकटीकरण में ज्ञानेन्द्रियाँ भी संलग्न हो बजाय सिर्फ़ मन के। यह सावधानी किसी कविता को अमूर्तन होने से बचाती है। अशोक कुमार पाण्डेय जी को अन्यत्र भी पढ़ता रहा हूँ,अच्छा लिखते हैं।-सुशील कुमार। मोबाईल- 0 94313 10216

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत अच्छी कविता है अशोक जी, गहरी और सोचने को बाध्य करती हुई। आपकी रचना में एक कसावट है और भाषा तथा शब्दों का भावों की संप्रेषणीयता के लिये प्रयोग भी बखूबी से हुआ है।

    ***राजीव रंजन प्रसाद

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत अच्छी कविता के लिये बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  10. उड़ते - चुगते- चहचहाते - जीवन बिखेरते
    उजाले प्रतीकों का समय नहीं है यह
    हर तरफ बस
    निःशब्द- निष्पंद- निराश
    काले कपोत !
    बहुत सुन्दर रचना है। सामयिक रचना। बहुत-बहुत बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  11. कविता पर कवि की गहरी पकड प्रतीत होती है। शब्दों का चयन कविता को उठा रहा है। आज के हालात पर चोट करती संवेदनशील कविता है।

    उत्तर देंहटाएं
  12. पंकज सक्सेना2 दिसंबर 2008 को 5:56 pm

    सशक्त अभिव्यक्ति के लिउए बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  13. हर तरफ बस
    निःशब्द- निष्पंद- निराश
    काले कपोत !


    सामयिक सुन्दर रचना....


    बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  14. कहाँ -कहाँ से पहुंचे थे यहाँ बचते बचाते
    बल्लीमारन की छतों से
    बामियान के बुद्ध का सहारा छिन जाने के बाद
    गोधरा की उस अभागी आग से निकल
    बडौदा की बेस्ट बेकरी की छतों से हो बेघर
    एहसान जाफरी के आँगन से झुलसे हुए पंखों से
    उस हस्पताल के प्रांगन में
    ढूँढते एक सुरक्षित सहारा
    संवेदनशील सामयिक रचना|

    उत्तर देंहटाएं
  15. बेहद उम्दा रचना।
    रोष और भावावेष के दौर में भी ऎसी कविता रची जा सकती है, यह दिखाता है कि कवि में कितनी संभावनाएँ हैं, नहीं तो लोग बस गुस्से को कागज़ पर उतार देते हैं और कविता का ठप्पा जड़ देते है।

    बधाई स्वीकारें।

    उत्तर देंहटाएं
  16. सभी मित्रों का शुक्रिया. यह मेरे आत्मविश्वास और जनवाद के प्रति आस्था को और संबल देगा.

    मेरा विश्वास कि लिखित शब्द आज भी दुनिया बदलने में सहायक हो सकते हैं और मज़बूत हुआ है.

    अशोक कुमार पाण्डेय
    09425797930

    उत्तर देंहटाएं
  17. bahut acchi kavita ,

    poori tarah se apne aap mein ek mahagaatha.

    badhai

    vijay

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget