आज से दो प्रेमयोगी अब वियोगी ही रहेगें
आज के बिछुडे न जाने कब मिलेंगे ।

आयगा मधुमास फिर भी, आयगी श्यामल घटा घिर
आँख भर कर देख लो अब, मैं न आऊँगा कभी फिर
प्राण तन से बिछुड कर कैसे मिलेंगे
आज के बिछुडे न जाने कब मिलेंगे ।

अब न रोना, व्यर्थ होगा हर घडी आँसू बहाना
आज से अपने वियोगी हृदय को हँसना सिखाना
अब आज के बिछुडे न जाने कब मिलेंगे
न हँसने के लिए हम तुम मिलेंगे ।

आज से हम तुम गिनेंगे एक ही नभ के सितारे
दूर होंगे पर सदा को ज्यों नदी के दो किनारे
सिन्धु-तट पर भी न जो दो मिल सकेंगे
आज के बिछुडे न जाने कब मिलेंगे ।

तट नही के, भग्न उर के दो विभागों के सदृश हैं
चीर जिनको विश्व की गति बह रही है, वे विवश हैं
एक अथ-इति पर न पथ में मिल सकेंगे
आज के बिछुडे न जाने कब मिलेंगे ।

यदि मुझे उस पार के भी मिलन का विश्वास होता
सत्य कहता हूँ न में असहाय या निरूपाय होता
जानता हूँ अब न हम तुम मिल सकेंगे
आज के बिछुडे न जाने कब मिलेंगे ।

आज तक किसका हुआ सच स्वप्न, जिसने स्वप्न देखा
कल्पना के मृदृल कर से मिटी किसकी भाग्य रेखा
अब कहां संभव कि हम फिर मिल सकेंगे
आज के बिछुडे न जाने कब मिलेंगे ।

आह, अंतिम रात वह, बैठी रही तुम पास मेरे
शीश कन्धे पर धरे, घन-कुन्तली से गाते घेरे
क्षीण स्वर में कहा था, अब कब मिलेंगे
आज के बिछुडे न जाने कब मिलेंगे ।

कब मिलेंगे ?पूछता जब विस्व से मैं विरह-कातर
कब मिलेंग ?गूँजते प्रतिध्वनि-निनादित व्योम-सागर
कब मिलेंगे प्रश्न उत्तर कब मिलेंगे ?
आज के बिछुडे न जाने कब मिलेंगे ।
-----
[ सौजन्य - लावण्या शाह, रचना - पं. नरेन्द्र शर्मा]
-----

14 comments:

  1. अमर रचना है। बहुत अच्छा लगा इसे साहित्य शिल्पी पर पढना।

    उत्तर देंहटाएं
  2. पं नरेन्द्र शर्मा की मेरी पसंदीदा तथा कालजयी रचना को इस मंच पर पढवाने का धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  3. नरेन्द्र शर्मा जी को पढना अच्छा लगा। आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर....
    मन उद्वेलित हो उठा....

    नमन नरंद्र जी की लेखनी को.....
    और भी पढवाइये.....

    गीता पंडित

    उत्तर देंहटाएं
  5. Thanks Sahityashilpi for this presentation.

    Alok Kataria

    उत्तर देंहटाएं
  6. एसी कविताओं के प्रस्तुतिकरण से मंच का स्तर बढता है।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बिछोड भाव को उत्तम उदाहरणों के माध्यम से प्रेषित करती रचना... पढ कर अच्छा लगा

    उत्तर देंहटाएं
  8. साहित्य शिल्पी पर ऐसी रचनाओं को देख कर उत्साह बढ़ता है

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत अच्छी रचना है, स्तरीय रचना पढ कर दिल खुश हो गया... सारगर्भित रचना के लिये प्र्स्तोता को बधाई. बाकी रचना कार के तो क्या कहने क्या खूब लिखा है
    आह, अंतिम रात वह, बैठी रही तुम पास मेरे
    शीश कन्धे पर धरे, घन-कुन्तली से गाते घेरे
    क्षीण स्वर में कहा था, अब कब मिलेंगे
    आज के बिछुडे न जाने कब मिलेंगे ।

    कब मिलेंगे ?पूछता जब विस्व से मैं विरह-कातर
    कब मिलेंग ?गूँजते प्रतिध्वनि-निनादित व्योम-सागर
    कब मिलेंगे प्रश्न उत्तर कब मिलेंगे ?
    आज के बिछुडे न जाने कब मिलेंगे ।

    वाह वाह

    उत्तर देंहटाएं
  10. KAB MILENGE PRASHN-UTTAR
    KAB MILENGE
    AAJ KE BICHHUDE N JANE
    KAB MILENGE
    ISKO KAHTE HAIN KAVITA AUR ISKO
    KAHTE HAIN GEET.SARGAM KE SATON
    SWAR SAMAAYE HAIN MAHAKAVI NARENDRA
    SHARMA JEE KEE IS RACHNA MEIN.ROTI
    JIDHAR SE BHEE TOD KAR KHAAO UDHAR
    SE HEE MITHEE HAI.LAVANYA JEE,HINDI
    JAGAT AAPKA AABHAAREE HAI KI AAP
    PT.NARENDRA SHARMA KEE KALJAYEE
    RACHNAAON KO PADHVATEE HAIN.

    उत्तर देंहटाएं
  11. ये कविता मुझे भी अतयँत प्रिय है -
    अगर आप इस कविता का स -स्वर पाठ सुनना चाहेँ तब इसे यहाँ सुन पायेँगेँ
    सभी पाठकोँ का , सादर धन्यवाद,
    - लावण्या
    Please Click here : ~~
    http://podcast.hindyugm.com/2008/11/podcast-kavi-sammelan-november-2008.html

    उत्तर देंहटाएं
  12. इतिहास पर टिप्पणी नहीं की जाती, बस सुखद घटनाओं को याद कर आनंद लिया जाता है।
    यह रचना भी इतिहास की हीं तरह है,सुखद इतिहास!!!
    पं नरेन्द्र शर्मा जी को नमन!!!

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget