ज़रा ये सोच मेरे दोस्त दुश्मनी क्या है
दिलों में फूट जो डाले वो दोस्ती क्या है

हज़ार बार ही उलझा हूँ इसके बारे में
कोई तो मुझको बताये कि जिंदगी क्या है

ये माना आदमी की जात है मगर तूने
कभी तो जाना ये होता कि आदमी क्या है

कभी तो बेबसी से टकराव तेरा होता
तुझे भी कुछ पता चलता कि बेबसी क्या है

खुदा की बंदगी करना चलो ज़रूरी सही
मगर इंसान की ऐ दोस्त बंदगी क्या है

किसी अमीर से पूछा तो तुमने क्या पूछा
किसी गरीब से पूछो कि जिंदगी क्या है

नज़र में आदमी अपनी नवाब जैसा सही
नज़र में दूसरे की "प्राण" आदमी क्या है

24 comments:

  1. प्राण शर्मा जी की ग़ज़लों का सिर्फ़ मुझे ही नहीं, बहुत से लोगों को इंतज़ार रहता है।
    इस बार भी ग़ज़ल के हर शे'र में गहरा फ़लसफ़ा है। कहने को तो सरल भाषा में आसानी से बात कह दी लेकिन जब ग़ौर से देखते हैं तो एक एक शेर का विस्तार सारी कायनात की तरह फैल जाता है। एक ही शे'र में न जाने कितनी घटनाएं
    समा जाती हैं।
    'किसी गरीब से पूछो कि जिंदगी क्या है'
    एक छोटा सा मिस्रा पढ़ते ही पड़तों पर पड़तें खुल जाती हैं। इस छोटे से मिस्रे को पढ़ते ही आंखों के आगे अखबारों में, फ़िल्मों में, निजी अनुभवों
    में देखी हुई विश्व भर के ग़रीबों की दर्द भरी दास्ताँ चलचित्र की रीलों की तरह ज़हन के आगे घूमने लगती है। एक सवाल से मस्तिष्क झनझनाने लगता हैः
    'किसी गरीब से पूछो कि जिंदगी क्या है?'
    गहराई तक पहुंचने के लिए पूरी ग़ज़ल पढ़ने के लिए काफ़ी वक़्त चाहिए।
    ग़ज़ल-शिल्प के तो प्राण जी एक जाने माने गुणी गुरू हैं।
    बधाई हो प्राण जी।
    महावीर शर्मा

    उत्तर देंहटाएं
  2. बढ़िया प्रस्तुति। बधाई। चलिए मेरी तरफ से भी इसी तर्ज पर तात्कालिक तुकबंदी की दो पँक्तियाँ-

    पहन खादी को तुम घूमे सदा उजले लिबासों में।
    किसी भी गाँव के आदम से पूछो सादगी क्या है?

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    मुश्किलों से भागने की अपनी फितरत है नहीं।
    कोशिशें गर दिल से हो तो जल उठेगी खुद शमां।।
    www.manoramsuman.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्राण साहब की ग़ज़ल के किस शेर का उल्लेख करूँ। हर शेर उम्दा।

    -मानोशी

    उत्तर देंहटाएं
  4. क्या बात है! खूबसूरत गज़ल। प्राण शर्मा जी धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  5. प्राण जी! आपकी गज़ल की तारीफ करना सूरज को दिया दिखाने जैसा ही लगता है. इसलिये प्रशंसा नहीं सिर्फ आभार व्यक्त करूँगा, एक खूबसूरत गज़ल पढ़ाने के लिये.
    एक बात और, "कभी तो बेबसी से टाकरा तेरा होता" ये मिसरा और "टाकरा" शब्द कुछ जमा नहीं.

    उत्तर देंहटाएं
  6. खरी बातें...बढिया गज़ल....उम्दा शेर

    उत्तर देंहटाएं
  7. Thanks for presenting Pran jees Gazal. It is experience reading it.

    Alok Kataria

    उत्तर देंहटाएं
  8. आदरणीय प्राण शर्मा जी और ग़ज़ल पर्याय हैं, आपकी न केवल शिल्प पर गहरी पकड है अपितु भावपक्ष आपकी ग़ज़लों का सबसे सशक्त पहलु है।

    हज़ार बार ही उलझा हूँ इसके बारे में
    कोई तो मुझको बताये कि जिंदगी क्या है

    खुदा की बंदगी करना चलो ज़रूरी सही
    मगर इंसान की ऐ दोस्त बंदगी क्या है

    नज़र में आदमी अपनी नवाब जैसा सही
    नज़र में दूसरे की "प्राण" आदमी क्या है

    ***राजीव रंजन प्रसाद

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत अच्छी और गहरी ग़ज़ल है। बहुत बधाई प्राण जी।

    उत्तर देंहटाएं
  10. शर्मा जी,

    बहुत ही खूबसूरत ख्याल "जिन्दगी क्या है" को आपने दिलकश गजल के रूप में ढाला है.

    किसी अमीर से पूछा तो तुमने क्या पूछा
    किसी गरीब से पूछो कि जिंदगी क्या है
    नज़र में आदमी अपनी नवाब जैसा सही
    नज़र में दूसरे की "प्राण" आदमी क्या है

    वाह वाह

    उत्तर देंहटाएं
  11. हरेक लफ्ज़ पे
    ठहर कर
    सोचने को मजबूर करे
    वही तो सच्चा लिखना होता है
    प्राण भाई साहब का यही कमाल फिर एक बार, हाज़िर है -
    स स्नेह सादर,
    - लावण्या

    उत्तर देंहटाएं
  12. ये माना आदमी की जात है मगर तूने
    कभी तो जाना ये होता कि आदमी क्या है

    क्या बात है!!!

    उत्तर देंहटाएं
  13. हज़ार बार ही उलझा हूँ इसके बारे में
    कोई तो मुझको बताये कि जिंदगी क्या है
    " बहुत भावभीनी प्रस्तुती, सच कहा जिन्दगी क्या है ये प्रश्न हमेशा ही अनुतरित ही रहा है .....ग़ज़ल बेहद पसंद आई "
    "Regards'

    उत्तर देंहटाएं
  14. हर शे’र काबिले-तारिफ़ है और हम तो बस आप से आशीर्वाद ही माँग सकते हैं कोई टिप्पणी नही कर सकते.बहुत अच्छा लगा कि ग़ज़ल इस मंच पर महकने लगी है.

    उत्तर देंहटाएं
  15. प्राण जी को पढने की मुझे प्रतीक्षा रहती है। अनुभव से पगी इस गज़ल को पढवाने का आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  16. पंकज सक्सेना10 दिसंबर 2008 को 12:15 pm

    किसी अमीर से पूछा तो तुमने क्या पूछा
    किसी गरीब से पूछो कि जिंदगी क्या है

    उम्दा ग़ज़ल। बधाई प्राण साहब।

    उत्तर देंहटाएं
  17. MERE GAZAL KE EK MISRE MEIN"TAAKRA"
    SHABD KAA PRAYOG BHAI AJAY YAADAV
    KO ACHCHHA NAHIN LAGAA HAI.KYA
    "SAAMNA"SHABD KAA PRAYOG CHALEGAA?
    AGAR AJAY JEE KO PASAND HO TO MAIN
    SHRI RAJIV JEE SE SHABD BADALNE KE
    LIYE VINTEE KARUNGAA.VAESE BHEE
    GALTI SE MISRE MEIN "TAKRAAV"SHABD
    ISTEMAAL HO GAYAA HAI.
    MAIN UNSAB KA AABHAAREE HOON
    JINHONE GAZAL KE BAARE MEIN BAHU-
    MOOLYA VICHAAR DIYEN HAIN.SABKO
    MERA NAMAN.

    उत्तर देंहटाएं
  18. "hazaar baar hi uljha hu isske baare meiN , koi to mujhko btaye k zindgi kya hai..."
    ek phalsephana andaaz,
    umdaa izhaar,
    badhaaee.....!
    ---MUFLIS---

    उत्तर देंहटाएं
  19. किसी अमीर से पूछा तो तुमने क्या पूछा
    किसी गरीब से पूछो कि जिंदगी क्या है
    बहुत अच्छी गजल। बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  20. "किसी अमीर से पूछा तो तुमने क्या पूछा
    किसी गरीब से पूछो कि जिंदगी क्या है"वाह . जिंदगी के सटीक मायने तय किए आपने. उत्तम रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  21. किसी अमीर से पूछा तो तुमने क्या पूछा
    किसी गरीब से पूछो कि जिंदगी क्या है
    गागर में सागर भरने का करिश्मा अगर देखना हो तो प्राण शर्मा साहेब की शायरी पढ़नी चाहिए...इतने सीधे सरल शब्दों में जिंदगी का निचोड़ बाँध देते हैं की पढ़ कर हैरानी होती है...उन्हें पढने के बाद लगता है ग़ज़ल लेखन किस कला का नाम है...धन्य हैं हम लोग जिन को उन्हें पढने का मौका मिला है...ऐसे कमाल के शायर और बेहतरीन इंसान सदियों में पैदा होते हैं...इश्वर उन्हें लम्बी उमर और सेहत अता फरमाए ताकि हम उनके हुनर के ढेरों और रंग देख सकें...
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  22. हज़ार बार ही उलझा हूँ इसके बारे में
    कोई तो मुझको बताये कि जिंदगी क्या है
    मैं ज्यादा ब्लॉगों पर जा ही नहीं पाया....काम की प्रकृति के कारण समय के अभाव से.....आज प्राण साहब को पढ़ा तो वाकई मज़ा आ गया.....
    अंधेरों में पलते लोगों से जानो रौशनी की ललक....
    चकाचौध में जीते लोग क्या जाने रौशनी क्या है....!!

    उत्तर देंहटाएं
  23. kya baat hai , gazal padhkar itna accha laga ki main teen baar pad dala .

    खुदा की बंदगी करना चलो ज़रूरी सही
    मगर इंसान की ऐ दोस्त बंदगी क्या है

    in lines ne bahut prabhavit kiya hai .. multi dimentions hai ..

    bahut bahut badhai

    vijay
    http://poemsofvijay.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  24. प्राण जी की गज़लें उल्लेखनीय हैं. प्राण जी की गज़लों में एक प्रकार जो ताजगी होती है वही उन्हें दूसरों से अलग करती है.

    रूपसिंह चन्देल

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget