कैद बख्शी है हमें यों ज़िन्दगी के नाम पर
ज्यों अंधेरे का कत़ल हो रौशनी के नाम पर

और क्या करते भला हम आदमी के नाम पर
छल-कपट करते रहे हैं बन्दगी के नाम पर

भूख की सौगात बच्चों को मिलेगी भेंट में
युद्धरत संसार से नूतन सदी के नाम पर

बुतपरस्ती का जुनूं बढ़ता रहा तो एक दिन
घर जलेंगें मुफलिसों के आरती के नाम पर

स्पर्श कुण्ठित भावना गूंगी बधिर संवेदना
नीर नयनों में नहीं निश्छल हंसी के नाम पर

इन्द्र की आदत तपस्या भंग करने की रही
मेनका रंभा शची या उर्वशी के नाम पर
*****

23 comments:

  1. बुतपरस्ती का जुनूं बढ़ता रहा तो एक दिन,
    घर जलेंगें मुफ़लिसों के, आरती के नाम पर

    क्या ब्बात कह गए योगी बड्डे आप ! बहुत ख़ूब ! हमेशा की तरह. उपरोक्त शेर पुरवज़्न है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत खूब मौदगिल साहब। आपकी गजल से गजल लिखने वालों को यह सीख लेनी चाहिये कि कैसे गजल में जन को आवाज़ दी जाती है। बात है कि जिनकी दृष्टि में मध्यमवर्गीय कुंठा न होकर लोकजगत का धूसर-धूमिल होता दृश्य होता है और जिनका लेखकीय संस्कार लोक की व्यापक अनुभूतियों से पगा होता है वे तो रचना में जन-गण को स्वर देंगे ही। उनकी रचना में समय का द्वंद्व स्वयं स्वभावगत होकर परिलक्षित होती है और रचना का मूल्य बढ़ा देती है।मैं आपकी गजल का कायल हूँ। बधाई-बधाई-बधाई!!!-सुशील कुमार( मो. 09431310216 , sk.dumka@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं
  3. ग़ज़ल बहुत अच्छी है लेकिन एक सवाल पूछना चाहता हूँ कि क़त्ल को कतल लिखना कितना सही है? क्या सिर्फ़ वज़्न बराबर करने के लिए ऐसा लिखा गया? मै मौदगिल जी से गुज़ारिश करता हूँ कि वो इस पर रौशनी डालें.

    उत्तर देंहटाएं
  4. भूख की सौगात बच्चों को मिलेगी भेंट में
    युद्धरत संसार से नूतन सदी के नाम पर


    bahut sunder

    उत्तर देंहटाएं
  5. भूख की सौगात बच्चों को मिलेगी भेंट में
    युद्धरत संसार से नूतन सदी के नाम पर

    क्या खूब लिखा है आपनें।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत अच्छी गज़ल है। हर शेर उम्दा।

    उत्तर देंहटाएं
  7. स्पर्श कुण्ठित भावना गूंगी बधिर संवेदना
    नीर नयनों में नहीं निश्छल हंसी के नाम पर

    वाह्! क्या बात है.
    बहुत ही उम्दा गजल,जिसका हर शेर लाजवाब

    उत्तर देंहटाएं
  8. हरेक शेर एक एक रत्न के समान है,किसकी प्रशंशा करूँ और किसे छोड़ दूँ........बहुत बहुत सुंदर यथार्थपरक रचना.साधुवाद.

    माँ शारदा आप पर सदा सहाय रहें.

    उत्तर देंहटाएं
  9. एक आदमक़द ग़ज़ल और क्या कहूँ !
    शेर गहरे दिल मे उतरकर जगह बना लेते हैं … बधाइयाँ ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. कैद बख्शी है हमें यों ज़िन्दगी के नाम पर
    ज्यों अंधेरे का कत़ल हो रौशनी के नाम पर




    स्पर्श कुण्ठित भावना गूंगी बधिर संवेदना
    नीर नयनों में नहीं निश्छल हंसी के नाम पर

    वाह्....
    हर शेर उम्दा.....

    बहुत अच्छी गज़ल .....

    मौदगिल जी
    बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  11. सभी शेर सुँदर लिखे हैँ योगेन्द्र जी ने बहुत अच्छे !

    उत्तर देंहटाएं
  12. योगेन्द्र जी
    आपकी ग़ज़ल बहुत पसंद आई।

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत प्रभावशाली रचना

    http://www.ashokvichar.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  14. भूख की सौगात बच्चों को मिलेगी भेंट में
    युद्धरत संसार से नूतन सदी के नाम पर

    बहुत सच लिखा आपने .बहुत खूब ..

    उत्तर देंहटाएं
  15. पढ़ने मे बहुत अच्छी ग़ज़ल ।
    महसूस करने मे उससे भी ज़्यादा अच्छी।

    प्रवीण पंडित

    उत्तर देंहटाएं
  16. yogendra ji ,

    aapne itni jeeti jaagti gazal likhi hai ,ki , koi shabd hi nahi tareef karne ke liye ..
    mujhe ye lines bahut pasand aayi ..

    और क्या करते भला हम आदमी के नाम पर
    छल-कपट करते रहे हैं बन्दगी के नाम पर

    aapko bahut badhai ..

    vijay
    poemsofvijay.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  17. वाह साब वाह--
    क्या कहने।
    बहुत खूबसूरत ग़ज़ल

    प्रवीण पंडित

    उत्तर देंहटाएं
  18. सतपाल जी
    आप कतल पढ़ते ही क्यों हैं
    मरण पढ़ लीजिये
    आप भी राजी
    मैं राजी
    बस्स

    उत्तर देंहटाएं
  19. भूख की सौगात बच्चों को मिलेगी भेंट में
    युद्धरत संसार से नूतन सदी के नाम पर

    बहुत खूब मौदगिल साहब।

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget