जब भी अपने आपसे ग़द्दार हो जाते हैं लोग
ज़िन्दगी के नाम पर धिक्कार हो जाते हैं लोग

सत्य और ईमान के हिस्से में हैं गुमनामियाँ
साज़िशें बुन कर मगर अवतार हो जाते हैं लोग

बेच देते हैं सरे—बाज़ार वो जिस्मो—ज़मीर
भूख से जब भी कभी लाचार हो जाते हैं लोग

रात भर मशगूल रहते हैं अँधेरों में कहीं
और अगली सुबह का अखबार हो जाते हैं लोग

फिर कबीलों का न जाने हश्र क्या होगा, जहाँ
नोंक पर बंदूक की सरदार हो जाते हैं लोग

मतलबों की भीड़ जब—जब कुलबुलाती है यहाँ
हमने देखा है बड़े मक़्क़ार हो जाते हैं लोग

साहिलों पर बैठ तन्हा 'द्विज' ! भला क्या इन्तज़ार
आज हैं इस पार कल उस पार हो जाते हैं लोग

24 comments:

  1. रात भर मशगूल रहते हैं अँधेरों में कहीं
    और अगली सुबह का अखबार हो जाते हैं लोग

    Vah, kya baat hai.

    Alok Kataria

    उत्तर देंहटाएं
  2. जब भी अपने आपसे ग़द्दार हो जाते हैं लोग
    ज़िन्दगी के नाम पर धिक्कार हो जाते हैं लोग

    रात भर मशगूल रहते हैं अँधेरों में कहीं
    और अगली सुबह का अखबार हो जाते हैं लोग

    मतलबों की भीड़ जब—जब कुलबुलाती है यहाँ
    हमने देखा है बड़े मक़्क़ार हो जाते हैं लोग


    द्विज जी बहुत अच्छी ग़ज़ल है। बहुत अच्छे शेर।

    उत्तर देंहटाएं
  3. साहिलों पर बैठ तन्हा 'द्विज' ! भला क्या इन्तज़ार
    आज हैं इस पार कल उस पार हो जाते हैं लोग
    द्विज साहब को साहित्य शिल्पी पर पढना अच्छा लगा।

    उत्तर देंहटाएं
  4. द्विजजी दिल को छू लेने वाली गजल है बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  5. रात भर मशगूल रहते हैं अँधेरों में कहीं
    और अगली सुबह का अखबार हो जाते हैं लोग


    साहिलों पर बैठ तन्हा 'द्विज' ! भला क्या इन्तज़ार
    आज हैं इस पार कल उस पार हो जाते हैं लोग


    बहुत अच्छे शेर...
    बहुत अच्छी ग़ज़ल.....


    द्विज जी !
    बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  6. आज के समयानुसार लिखी गई बढिया गज़ल....

    द्विज जी को बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  7. 'साज़िशें बुन कर मगर अवतार हो जाते हैं लोग।'
    बहुत ख़ूब! हर एक शे'र ही गहराई लिये हुए है।
    बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  8. रात भर मशगूल रहते हैं अँधेरों में कहीं
    और अगली सुबह का अखबार हो जाते हैं लोग
    कमाल की अभिव्यक्ति
    regards

    उत्तर देंहटाएं
  9. प्रभावित लिया आपकी ग़ज़ल नें।
    सत्य और ईमान के हिस्से में हैं गुमनामियाँ
    साज़िशें बुन कर मगर अवतार हो जाते हैं लोग

    उत्तर देंहटाएं
  10. हदों को पार करके भीतर तक छू जाने वाली ग़ज़ल ।
    और क्या कहूं।

    प्रवीण पंडित

    उत्तर देंहटाएं
  11. पंकज सक्सेना24 दिसंबर 2008 को 12:57 pm

    प्रभावशाली ग़ज़ल है। द्विजेन्द्र जी आज के समय के सशक्त हस्ताक्षर हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  12. जब भी अपने आपसे ग़द्दार हो जाते हैं लोग
    ज़िन्दगी के नाम पर धिक्कार हो जाते हैं लोग
    ग़ज़ल दमदार है। हर शेर पर वाह निकलती है।

    उत्तर देंहटाएं
  13. आपकी अन्य ग़ज़लों की तरह ही बेहतरीन है।

    उत्तर देंहटाएं
  14. बेच देते हैं सरे—बाज़ार वो जिस्मो—ज़मीर
    भूख से जब भी कभी लाचार हो जाते हैं लोग

    निस्संदेह अद्भुत कृति।

    उत्तर देंहटाएं
  15. हर शे’र अपने आप मे एक ग़ज़ल है.द्विज जी की ग़ज़ल को यहाँ पेश करने के लिए रंजन जी को धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  16. मन को छूती हुई और इस जहान की सच्चाई वयान करती एक गजल.. बहुत पसन्द आई..

    बेच देते हैं सरे—बाज़ार वो जिस्मो—ज़मीर
    भूख से जब भी कभी लाचार हो जाते हैं लोग
    साहिलों पर बैठ तन्हा 'द्विज' ! भला क्या इन्तज़ार
    आज हैं इस पार कल उस पार हो जाते हैं लोग

    उत्तर देंहटाएं
  17. कटु यथार्थ के रंगों को उधेरती लाजवाब ग़ज़ल,मन मुग्ध कर गई ..... बहुत बहुत सुंदर.

    उत्तर देंहटाएं
  18. Dwij Sahab ki ghazal padhwane ke liye shukriya. ghazal bahut acchi he aur aapka Sahitya Shilpi bhi. Ab aata hi rahoonga.

    Navneet Sharma

    उत्तर देंहटाएं
  19. "साहित्य शिल्पी" के माध्यम से मेरी ग़ज़ल के तमाम पाठकों का तथा "साहित्य शिल्पी" का हार्दिक अभारी हूँ.
    प्रोत्साहन की लिए धन्यवाद.

    सादर

    द्विजेन्द्र "
    द्विज"

    उत्तर देंहटाएं
  20. सामाजिक वैषम्य के आधार पर द्विज साहेब की यह अनुपम ग़ज़ल है जिस में भौतिक अभावों
    को, जनता के दैन्य और दारिद्रय को बड़े अच्छे ढ़ंग से दर्शाया है। यह युग की मांग पूरा करने
    वाले साहित्य से जुड़ी हुई जन-वादी धारा को प्रकट करती हुई उच्च कोटि की ग़ज़ल है। द्विज साहेब को बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  21. भाई जान अगर शेरों की तारीफ़ करने लगूं तो मुझे ये पूरी ग़ज़ल ही यहाँ उतरनी पड़ेगी क्यूनके शेर नहीं एक एक हरफ कमाल है...कमेन्ट करने में देरी के कारण अब कुछ नहीं लिख पाउँगा ...
    क्योंके .........
    "अब कलम हलकी पड़ेगी देखना ,
    शख्श इक भारी सा उतरा कार से."

    ऊंचाइयों को नमन

    उत्तर देंहटाएं
  22. bahut hi acchi gazal , specially ye lines bahut achai ban padi hai ..

    रात भर मशगूल रहते हैं अँधेरों में कहीं
    और अगली सुबह का अखबार हो जाते हैं लोग

    aapko bahut badhai ..


    vijay

    http://poemsofvijay.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  23. Buy [url=http://lowcostlinks.com]forum backlinks[/url] at LowCostLinks.com today!

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget