एक लम्हे पे रुका है
दिल मेरा ये मनचला है
ना तो मंज़िल ना रास्ता है
फिर कहाँ को बढ़ चला है
क्या जाने कब शब बुझी और
क्या जाने कब दिन ढला है...

ऑस बनकर जो गिरा था
धूप का जो इक सिरा था
दिलनशीं वो गुल सिताँ था
क्या कहें पर सब धुआँ था...
खाब के टूटे रेशे बुनता है ये पगला
औढ के फिर वो पैराहन
बादलों में जा बसा है
आँखों में एक आस सी और
दिल में डर का ज़लज़ला है...

वक़्त को तो गुज़रने दे
जी ले या फिर तू मरने दे
साँसों के गुंजल को खोलो
दिल की सारी बातें बोलो
दिन को भी रात में ही
क्यूँ गिनता है ये पगला
उंघति सी ज़िंदगी में
कोई तो इक वलवला हो
साथ कोई हमसफ़र हो
ना भी हो क्या खला है...

10 comments:

  1. sundar bahut pankhtiyaan...

    वक़्त को तो गुज़रने दे
    जी ले या फिर तू मरने दे

    ye lines apne aap mein bahut kuch kah jaati hai ..

    aapko bahut badhai ..

    vijay
    poemsofvijay.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर रचना....पढकर अच्‍छा लगा...बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत हे अच्छा लिखा है आपने..पढ़ कर अच्छा लगा...

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुंदर रचना. भावपूर्ण अभिव्यक्ति.

    उत्तर देंहटाएं
  5. ऑस बनकर जो गिरा था
    धूप का जो इक सिरा था
    दिलनशीं वो गुल सिताँ था
    क्या कहें पर सब धुआँ था...
    खाब के टूटे रेशे बुनता है ये पगला
    औढ के फिर वो पैराहन
    बादलों में जा बसा है
    आँखों में एक आस सी और
    दिल में डर का ज़लज़ला है...
    अच्छा लिखा है।

    उत्तर देंहटाएं
  6. क्या कहें पर सब धुआँ था...
    खाब के टूटे रेशे बुनता है ये पगला
    "beautiful expressions"

    regards

    उत्तर देंहटाएं
  7. रचना पसंद आई। अच्छे और अनूठे बिंबों की प्रस्तुति "दिल" को छू गई।
    बस
    "क्या जाने कब शब बुझी और
    क्या जाने कब दिन ढला है..."
    उपरोक्त पंक्तियाँ रक़ीब फिल्म के एक गाने
    "जाने कैसे शब ढली,
    जाने कैसे दिन खिला" की ओर ईशारा करती हुई प्रतीत हुई,जो दिल को थोड़ा सा खल गया।
    वैसे यह मेरा मन्तव्य है। हो सकता है कि यह समानता बस एक संयोग हो।

    -तन्हा

    उत्तर देंहटाएं
  8. औढ के फिर वो पैराहन
    बादलों में जा बसा है
    आँखों में एक आस सी और
    दिल में डर का ज़लज़ला है...



    अच्छा है....

    उत्तर देंहटाएं
  9. apne aisi rachna gadi ahin har pathak ki prashnasha ypgya
    babhut achi rachna lagi

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget