राष्ट्रकवि रामधारी सिंह ‘दिनकर‘ के जन्म शताब्दी वर्ष पर मेधाश्रम संस्था के तत्वाधान में ‘‘राष्ट्रकवि दिनकर की रचनाधर्मिता के विविध आयाम‘‘ पर 26 दिसम्बर 2008 को कानपुर में एक संगोष्ठी का आयोजन किया गया। कार्यक्रम को बतौर मुख्य वक्ता सम्बोधित करते हुए उत्तर प्रदेश हिन्दी साहित्य सम्मेलन के पूर्व अध्यक्ष डा0 बद्री नारायण तिवारी ने कहा कि दिनकर जी की कवितायें सुनने और पढ़ने- दोनों स्तरों पर प्रभावित करती हैं। वे स्वतंत्रता पूर्व विद्रोही कवि तो स्वतंत्रता पश्चात राष्ट्रकवि रूप में प्रतिष्ठित हुए। दिनकर जी की कविताआंे में राष्ट्रवादी, क्रान्तिकारी, माक्र्सवादी, प्रगतिवादी और रोमांटिक सभी भावनाओं की अनुपम अभिव्यक्ति है। जहाँ ‘रेणुका‘ में साम्यवादी स्वर है, वहीं ‘कुरूक्षेत्र‘ में उन्होंने चरित्र को ऊपर रखा। ‘रश्मिरथी‘ में माक्र्सवादी प्रभाव से निकलकर दिनकर गांँधीवादी मूल्यों के हिमायती बने तो ‘नीलकुसुम‘ में रोमांटिक कल्पना के दर्शन हुए।

बतौर मुख्य अतिथि संगोष्ठी को सम्बोधित करते हुए भारतीय डाक सेवा के अधिकारी एवं साहित्यकार श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि दिनकर जी हिन्दी के उत्तर छायावादी कवियों में पहले ऐसे कवि हैं जिनकी काव्यभाषा में सहजता व संप्रेषणीयता होने के कारण वे लोगोँ की जुबान पर खूब चढ़ीं। दिनकर जी की कविताओं में अगर राष्ट्र का स्वाभिमान था तो गरीब जनता का हाहाकार भी शामिल था। वर्तमान परिप्रेक्ष्य में दिनकर जी की कविताओं के सम्बन्ध में श्री यादव ने कहा कि दिनकर जी की कवितायें आज भी नव-औपनिवेशिक शक्तियों के विरोध में वैचारिक प्रतिरोध की व्यापक भावभूमि तैयार करती हैं। युवा कवयित्री एवं लेखिका श्रीमती आकांक्षा यादव ने संगोष्ठी को आगे बढ़ाते हुए कहा कि दिनकरजी का गद्य और पद्य पर समान रूप से अधिकार था। यही कारण है कि उनकी गद्य रचना ‘संस्कृति के चार अध्याय‘ पर साहित्य अकादमी पुरस्कार प्राप्त हुआ तो उनकी चर्चित पद्य कृति ’उर्वशी’ हेतु भारतीय साहित्य का सर्वोच्च ज्ञानपीठ पुरस्कार प्राप्त हुआ। डा0 जे0 एस0 चैहार ने राष्ट्रकवि दिनकर जी की रचनाओं में सहजता को व्याख्यायित करते हुए उन्हें क्रान्ति का उद्घोषक कवि कहा, जो बाद में गाँधीवाद के दर्शन से प्रभावित हुए। मेधाश्रम संस्था के सचिव श्री अनुराग ने संगोष्ठी का समापन करते हुए कहा कि दिनकर जी को हिन्दी के तथाकथित आधुनिक आलोचकों की मार भी झेलनी पड़ी, पर पाठकों और हिन्दी के शुभेच्छुओं के बीच उन्हें बेहद सम्मान और गौरव प्राप्त है। इसी कारण उन्हें इतिहास बदलने वाला कवि भी कहा जाता है। इस अवसर पर अपनी क्रान्तिकारी कविताओं से लोकप्रियता हासिल करने वाले राष्ट्रकवि दिनकर के तैल चित्र का संसद के केन्द्रीय कक्ष में अनावरण होने पर प्रसन्नता जाहिर की गयी।
कार्यक्रम का आरंभ मुख्य अतिथि श्री कृष्ण कुमार यादव व मुख्य वक्ता डा0 बद्री नारायण तिवारी द्वारा दीप प्रज्वलन से हुआ। संगोष्ठी का संचालन मेधाश्रम के सचिव श्री अनुराग ने और धन्यवाद ज्ञापन श्री विजय नारायण तिवारी ‘मुकुल‘ ने किया। इस अवसर पर सत्यकाम पहारिया, डा0 विवेक सिंह, अंजू जैन, एम0 एस0 यादव, डा0 विद्याभाष्कर बाजपेयी सहित तमाम साहित्यकार, पत्रकार व बुद्धिजीवी उपस्थित थे।

19 comments:

  1. Rashtrakavi Ramdharisingh dinkar
    kee janm shataabdi par Kanpur mein
    hue aayojan kaa vivran padhkar
    bahut achchha lagaa hai.Bdhaaee.

    उत्तर देंहटाएं
  2. पंकज सक्सेना27 दिसंबर 2008 को 10:14 pm

    अच्छी प्रस्तुति है। अनुराग जी बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  3. अनुराग जी का आभार जिन्होंने यह दिनकर जी की जन्मश्ताबदी पर हुए कार्यक्रम की रिपोर्ट इस लेख के मध्यम से हम सब तक पहुंचाई

    उत्तर देंहटाएं
  4. आयोजनकर्ताओं को साधुवाद। दिनकर को याद किया जाना अहम है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. जन्म शताब्दी वर्ष में राष्ट्रकवि दिनकर जी को याद करना सुखद लगा.

    उत्तर देंहटाएं
  6. श्रीकृष्ण कुमार यादव जी का कथन कि- ''दिनकर जी की कवितायें आज भी नव-औपनिवेशिक शक्तियों के विरोध में वैचारिक प्रतिरोध की व्यापक भावभूमि तैयार करती हैं।''...बड़ी सटीक बात है.

    उत्तर देंहटाएं
  7. दिनकर जी की कविताआंे में राष्ट्रवादी, क्रान्तिकारी, माक्र्सवादी, प्रगतिवादी और रोमांटिक सभी भावनाओं की अनुपम अभिव्यक्ति है। जहाँ ‘रेणुका‘ में साम्यवादी स्वर है, वहीं ‘कुरूक्षेत्र‘ में उन्होंने चरित्र को ऊपर रखा। ‘रश्मिरथी‘ में माक्र्सवादी प्रभाव से निकलकर दिनकर गांँधीवादी मूल्यों के हिमायती बने तो ‘नीलकुसुम‘ में रोमांटिक कल्पना के दर्शन हुए।....बेहद सारगर्भित विश्लेषण. इस आयोजन हेतु बधाई !!

    उत्तर देंहटाएं
  8. अपनी क्रान्तिकारी कविताओं से लोकप्रियता हासिल करने वाले राष्ट्रकवि दिनकर के तैल चित्र का संसद के केन्द्रीय कक्ष में अनावरण होने सम्बन्धी समाचार पाकर हर्ष हुआ. अनुराग जी को ऐसे आयोजन हेतु बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  9. ऐसे आयोजन समाज में साहित्य को जीवंत रखते हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  10. साहित्य शिल्पी देश के कोने-कोने में हो रहे साहित्यिक कार्यक्रमों को अपने पाठकों तक पहुंचकर जहाँ अपनी प्रतिबद्धता दर्शा रहा है, वहीँ लोगों के दिलों को भी छू रहा है...कोटिश: साधुवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  11. ....और लो हम भी आ गए नए साल की सौगातें लेकर...खूब लिखो-खूब पढो मेरे मित्रों !!

    उत्तर देंहटाएं
  12. युवा कवयित्री एवं लेखिका श्रीमती आकांक्षा यादव ने संगोष्ठी को आगे बढ़ाते हुए कहा कि दिनकरजी का गद्य और पद्य पर समान रूप से अधिकार था। यही कारण है कि उनकी गद्य रचना ‘संस्कृति के चार अध्याय‘ पर साहित्य अकादमी पुरस्कार प्राप्त हुआ तो उनकी चर्चित पद्य कृति ’उर्वशी’ हेतु भारतीय साहित्य का सर्वोच्च ज्ञानपीठ पुरस्कार प्राप्त हुआ।
    ==================================
    ऐसा बेजोड़ समन्वय होने के कारण ही दिनकर जी ''राष्ट्रकवि'' कहलाये.

    उत्तर देंहटाएं
  13. आयोजकों को बधाई। एसे आयोजन जरूरी हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  14. राष्ट्र -कवि विषयक सुरुचिपूर्ण जानकारी पढ़कर अच्छा लगा ।
    आभार ।

    प्रवीण पंडित

    उत्तर देंहटाएं
  15. Rashtrakavi Dinkar ji ko mera pranam . main unki ojhaswi kavitaon ko padhkar hamesha hi josh mein bhar jaata tha.

    sahityashilpi ,itne acche acche lekh le kar aa raha hai , aur mujhe is baat ka garv hai ki , main inse juda hoon ..

    bahut badhai.

    vijay
    http://poemsofvijay.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget