कोलकाता. संध्या हिन्दी दैनिक राष्ट्रीय महानगर द्वारा भाषा और साहित्य के अनुरागियों के लिए स्थापित अपना मंच की प्रथम काव्य गोष्ठी शनिवार २९ नवम्बर को राष्ट्रीय महानगर सभा कक्ष में संपन्न हुई. गोष्ठी की अध्यक्षता वरिष्ठ रचनाकार और भारतीय वांग्मय पीठ के प्रणेता प्रो. श्यामलाल उपाध्याय ने की. कार्यक्रम का सफलतापूर्वक संयोजन प्रदीप कुमार धानुक ने किया, जबकि फर्स्ट न्यूज़ के संपादक संजय सनम ने अत्यन्त भावपूर्ण अंदाज में गोष्ठी का सञ्चालन किया. प्रारम्भ में राष्ट्रीय महानगर के संपादक प्रकाश चंडालिया ने गोष्ठी के आयोजन और अपना मंच के उद्देश्यों पर प्रकाश डालते हुए अपने विचार रखे. उन्होंने कहा कि अपना मंच का मुख्या उद्देश्य नवागत रचनाकारों को मंच प्रदान करना है. अपना मंच की और से हर गोष्ठी में एक अनुभवी और एक उदीयमान रचनाकार को गोष्ठी के श्रेष्ठ रचनाकार के रूप में सम्मानित किया जाएगा. गोष्ठी में ४५ रचनाकारों में काव्य पाठ किया. वरिष्ठ कवि योगेन्द्र शुक्ल "सुमन" और नन्दलाल 'रोशन' को इस काव्य गोष्ठी के श्रेष्ठ कवि के रूप में चुना गया. इस गोष्ठी में डॉक्टर लखबीर सिंह निर्दोष, मुश्ताक अहमद, कालीप्रसाद जैसवाल, डॉक्टर सेराज खान बातिश, गुलाब बैद, प्रसन्न चोपडा, मृदुला कोठारी, सुशीला चनानी, शम्भू जालान निराला, हरिराम अग्रवाल, सुरेंद्रदीप, विश्वजीत शर्मा विश्व, विजय दुगर, संजय निगानिया, जीतेंद्र जितांशु, सत्य मेधा, राधेश्याम पोद्दार, श्रीकृष्ण अग्रवाल मंगल, रामावतार सिंह, अनीता मिश्रा सरीखे कवि -रचनाकारों ने अपनी रचनाये सुनायीं. जनसत्ता के वरिष्ठ उपसंपादक एवं सुपरिचित लेखक विनय बिहारी सिंह भी गोष्ठी में उपस्थित थे. ज्यादातर कवियों ने मुंबई ब्लास्ट एवं आतंकवाद पर ताजातरीन रचनाएँ सुनायीं. आयोजन की व्यवस्था में गोपाल चक्रवर्ती और हरीश शर्मा का योगदान रहा।

गोष्ठी में पढ़ी गई कवि विश्वजीत शर्मा विश्व की कविता:

रोज रोज डर डर के मरना
रोज रोज मर मर के जीना
बहुत हो चुका लोकाडम्बर
अब लड़ जाओ तान के सीना

जीओ जब तक शान से जियो
मर-मर कर भी क्या है जीना?
निज गौरव का जहर भला है
बिन गौरव क्या अमृत पीना?

हे हिन्द देश के कर्णधारो,
जो कहते हो, करके दिखलाओ
पद-कुरसी हथियाने वालो
अब तो करकरे बन दिखलाओ

बन्द करो घडिय़ाली आंसू
मत राजनीति को बदनाम करो
पुन: चाहते गर विश्व से इज्जत
हो संगठित, सार्थक काम करो.

9 comments:

  1. हे हिन्द देश के कर्णधारो,
    जो कहते हो, करके दिखलाओ
    पद-कुरसी हथियाने वालो
    अब तो करकरे बन दिखलाओ
    बहुत खूब...आज के कर्ण धारों को सोचने पे विवश करती रचना...
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  2. Thanks for sahitya samachar. Nice poem of Vishvajeet.

    Alok Kataria

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस तरह के आयोजन साहित्य की न केवल सेवा करते हैं अपितु उसे समाज से भी जोडते हैं। प्रकाश जी को इस प्रस्तुतिकरण की हार्दिक बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  4. प्रकाश जी आभार इस साहित्य समाचार के लिये। महानगर प्रकाशन के कार्य की जितनी प्रशंसा की जाये कम है।

    ***राजीव रंजन प्रसाद

    उत्तर देंहटाएं
  5. मित्रों,
    आभार आप सभी सुधि जनों का. और विशेष रूप से साहित्य शिल्पी परिवार का, जिसने हमारे प्रयास को हजारों लोगों तक पहुँचाया. महानगर प्रकाशन आपकी प्रेरणादायी प्रतिक्रियाओं को सभी रचनाकारों तक पहुँचा रहा है. इनमे से कई जनों को यकीं तक नही हो रहा कि साहित्य शिल्पी के जरिये उनका यश इतना दूर तक फ़ैल रहा है.

    उत्तर देंहटाएं
  6. जानकारी के लिए शुक्रिया....
    ऐसे कार्यक्रम लगातार होने चाहिए

    उत्तर देंहटाएं
  7. धन्यवाद प्रकाश जी आपकी रिपोर्ट बहुत अच्छी है, एसे कार्यक्रम साहित्य सेवा हैं। कवि विश्वजीत शर्मा विश्व की कविता सामयिक है।

    उत्तर देंहटाएं
  8. बन्द करो घडिय़ाली आंसू
    मत राजनीति को बदनाम करो
    पुन: चाहते गर विश्व से इज्जत
    हो संगठित, सार्थक काम करो.

    अच्छी रिपोर्ट और अच्छी कविता। इस कविता में लिखे गये उपरोक्त शब्दों के माध्यम से मैं केरल के मुख्यमंत्री के उस बयान की निंदा करता हूँ जिसमें उसने कहा कि "उन्नीकृष्णन शहीद न होते तो कुत्ता भी उनके घर नहीं जाता"। क्या एसे राजनेता इस देश की किसमत लिखेंगे।

    उत्तर देंहटाएं
  9. साहित्य समाचार और कवितायें पढवाने के लिये प्रकाश जी को धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget