किसी तपते सफ़र को भीगती सी शाम दे जाऊं
किसी आधी -अधूरी बात को अंजाम दे जाऊं

मेरी तस्वीर भी रख ले वो अपनी शामो- सुबहों मे
किसी अपने को, घर बैठे,ज़रा सा काम दे जाऊं

बहुत मुमकिन है वो शायद अभी तक रास्ता देखे
किसी राहगीर के हाथों उसे पैग़ाम दे जाऊं


समंदर के किनारे हमने अक्सर प्यास देखी है
किसी के सूखे होंठों को खुशी का जाम दे जाऊं

रहा हो ग़म कोई भी पर सदा हंसती रहीं आंखें
मैं उसकी इस हुनरमंदी पे कुछ ईनाम दे जाऊं

न खो जाये कहीं कल वो यहाँ अपनी ही गलियों में
गली के मोड़ पर अपना कहीं भी नाम दे जाऊं

19 comments:

  1. समंदर के किनारे हमने अक्सर प्यास देखी है
    किसी के सूखे होंठों को खुशी का जाम दे जाऊं

    रहा हो ग़म कोई भी पर सदा हंसती रहीं आंखें
    मैं उसकी इस हुनरमंदी पे कुछ ईनाम दे जाऊं

    बहुत अच्छी ग़ज़ल है। बधाई प्रवीण जी।

    उत्तर देंहटाएं
  2. किसी तपते सफ़र को भीगती सी शाम दे जाऊं
    किसी आधी -अधूरी बात को अंजाम दे जाऊं

    Nice Gazal.

    Alok Kataria

    उत्तर देंहटाएं
  3. न खो जाये कहीं कल वो यहाँ अपनी ही गलियों में
    गली के मोड़ पर अपना कहीं भी नाम दे जाऊं
    वाह वाह..

    उत्तर देंहटाएं
  4. GAZAL KE SABHEE ASHAAR ACHCHHE BAN
    PADE HAIN.SHER KAHNE KAA ACHCHHA
    SHAOOR HAI PRAVEEN JEE KO.

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहोत खूब लिखा है आपने ढेरो बधाई .................


    अर्श

    उत्तर देंहटाएं
  6. न खो जाये कहीं कल वो यहाँ अपनी ही गलियों में
    गली के मोड़ पर अपना कहीं भी नाम दे जाऊं
    बहुत सुन्दर लिखा है।

    उत्तर देंहटाएं
  7. पंकज सक्सेना29 दिसंबर 2008 को 8:30 am

    बहुत अच्छी ग़ज़ल है।

    उत्तर देंहटाएं
  8. मत्अला बहुत अछ्छा है
    बधाइ

    कवि दीपक गुप्ता
    www.kavideepakgupta.com

    उत्तर देंहटाएं
  9. प्रवीण जी

    बहुत ही संतुलन के साथ ...... एक एक मोती पिरोया है .... सुखद लगा आपको इस रूप में पढ़ना

    सप्रेम शुभकामना

    उत्तर देंहटाएं
  10. समंदर के किनारे हमने अक्सर प्यास देखी है
    किसी के सूखे होंठों को खुशी का जाम दे जाऊं


    न खो जाये कहीं कल वो यहाँ अपनी ही गलियों में
    गली के मोड़ पर अपना कहीं भी नाम दे जाऊं



    वाह वाह.....


    बहुत अच्छी ग़ज़ल...
    बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  11. praveen ji , bahut hi sundar gazal , maine abhi ise do baar padha hai , mazaa aa gaya

    समंदर के किनारे हमने अक्सर प्यास देखी है
    किसी के सूखे होंठों को खुशी का जाम दे जाऊं

    ye lines bahut kuch kah jaati hai ..man ko chooti hui ...

    aapko dil se badhai ..

    vijay
    http://poemsofvijay.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  12. "rahaa ho gham koi bhi
    pr sda hansti rhi aankhein ,
    main uski iss hunar.mndi pe
    kuchh inaam de jaaoon"

    waah !
    ek nihaayat hi khoobsurat
    ghazal pr mubaarakbaad qubool farmaaein .

    ---MUFLIS---

    उत्तर देंहटाएं
  13. यह रचना किसी और नाम से यहाँ छापी गयी है ...
    http://premkephool.blogspot.in/2013/09/blog-post_5358.html

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. satish ji, hum bhi apna wirodh darz kar aaye hain... us blog par sabhi rachnaayein doosron ki hi hain... janaab waah waahi bator rahe hain...

      हटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget