खौफ़ से सहमी हुई है खून से लथपथ पड़ी
अब कोई मरहम करो घायल पड़ी है ज़िंदगी।

पुर्जा-पुर्जा उड़ गए कुछ लोग कल बारुद से
आज आई है खबर कि अब बढ़ी है चौकसी।

किस से अब उम्मीद रक्खें हम हिफ़ाजत की यहाँ
खेत की ही बाड़ सारा खेत देखो खा गई ।

यूँ तो हर मुद्दे पे संसद में बहस खासी हुई
हल नहीं निकला फ़कत हालात पर चर्चा हुई।

कौन अपना दोस्त है और कौन है दुश्मन यहाँ
बस ये उलझन थी जो सारी ज़िंदगी उलझी रही।

अपना ही घर लूटकर खुश हो रहें हैं वो ख्याल
आग घर के ही चरागों से है इस घर मे लगी।

*****

14 comments:

  1. पंकज सक्सेना3 दिसंबर 2008 को 1:15 pm

    खौफ़ से सहमी हुई है खून से लथपथ पड़ी
    अब कोई मरहम करो घायल पड़ी है ज़िंदगी।

    आज के हालात को बहुत अच्छी तरह बयां करती है आपकी ग़ज़ल।

    उत्तर देंहटाएं
  2. अपना ही घर लूटकर खुश हो रहें हैं वो ख्याल
    आग घर के ही चरागों से है इस घर मे लगी।
    I agree.

    Alok Kataria

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. पुर्जा-पुर्जा उड़ गए कुछ लोग कल बारुद से
    आज आई है खबर कि अब बढ़ी है चौकसी।

    हमारे सिस्टम के काम करने का यही तरीका है। अफसोस! बहुत अच्छी गज़ल।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत अच्छी ग़ज़ल, बधाई सतपाल जी।

    उत्तर देंहटाएं
  6. अपना ही घर लूटकर खुश हो रहें हैं वो ख्याल
    आग घर के ही चरागों से है इस घर मे लगी।
    अच्छी गज़ल। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  7. ghazal to achhi hai hi, lekin aapka saadiq jazba qaabile.ehtraam
    hai...salaam karta hooN.
    "martbaa ooncha rahe un`ka hamesha vishv meiN ,
    ab shaheedoN ke lahu ki laaj rakkheiN hum sabhi."
    ---MUFLIS---

    उत्तर देंहटाएं
  8. यूँ तो हर मुद्दे पे संसद में बहस खासी हुई
    हल नहीं निकला फ़कत हालात पर चर्चा हुई।
    -ना जाने कब चर्चा से आगे भी बात बढेगी kabhi?


    ग़ज़ल सामायिक है और अच्छी भी.

    उत्तर देंहटाएं
  9. सच को बयान करती एक अच्छी गज़ल!

    उत्तर देंहटाएं
  10. शाबाश.

    बहुत ख़ूब.

    यहाँ कुछ सिरफिरों ने हादिसों की धुंध बाँटी है
    नज़र में इसलिए दिलकश कोई मंज़र नहीं आता.

    द्विज

    उत्तर देंहटाएं
  11. bahot hi khub likha hai aapne satpal ji ... dhero badhai aapko.......

    उत्तर देंहटाएं
  12. सतपाल जी,

    बहुत अच्छी ग़ज़ल,

    बधाई |

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत सुंदर गजल है
    बधाई देता हूं

    उत्तर देंहटाएं
  14. Satpal ji ,

    aapki ye gazal bahut acchi laghi specially ye lines

    खेत की ही बाड़ सारा खेत देखो खा गई ।

    bahut hi satik aur sartak warnan hai ..

    badhai

    vijay

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget