नींद की आंखो से देखा तो
तुम थीं

मुझसे मेरी नज्में मांग रही थीं
उन नज्मों को, जिन्हें संभाल रखा था, मैंने तुम्हारे लिए;
एक उम्र भर के लिए ...

आज कही खो गई थी, वक्त के धूल भरे रास्तों में ......
शायद उन्ही रास्तों में ..
जिन पर चल कर तुम यहाँ आई हो....

क्या किसी ने तुम्हे बताया नहीं कि
परायों के घर, भीगी आंखों से नहीं जाते.....

15 comments:

  1. bhigi aankho se to kisi ke yahan bhee nahi jana chahiye, chahe ghar apna ho ya paraya. narayan narayan

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही अच्छी कविता.. बधाई स्वीकारें।

    क्या किसी ने तुम्हे बताया नहीं कि
    परायों के घर, भीगी आंखों से नहीं जाते

    उत्तर देंहटाएं
  3. क्या किसी ने तुम्हे बताया नहीं कि
    परायों के घर, भीगी आंखों से नहीं जाते.....

    last lines are ultimate. Thanks.

    Alok Kataria

    उत्तर देंहटाएं
  4. नींद की आंखो से देखा तो
    तुम थी

    मन प्रसन्न हो गया कविता पढ कर। हर पंक्ति कविता है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. डूब कर लिखा है आपने।
    वाह वाह।

    उत्तर देंहटाएं
  6. पंकज सक्सेना2 जनवरी 2009 को 11:07 am

    शायद उन्ही रास्तों में ..
    जिन पर चल कर तुम यहाँ आई हो....

    क्या किसी ने तुम्हे बताया नहीं कि
    परायों के घर, भीगी आंखों से नहीं जाते.....

    जबरदस्त।

    उत्तर देंहटाएं
  7. क्या पता कोई अपना समझ कर ही भीगी आंखों से आया हो उन्हीं नज्मों को तलाशता जिन्हें आप खो बैठे हैं... :)
    सुन्दर भाव प्रदर्शन

    उत्तर देंहटाएं
  8. बेहतरीन कविता
    सबसे अच्‍छी जो मुझे लगी वैसे सारी कविता ही काबिलेतारीफ है
    आज कहीं खो गई थी, वक्‍त के धूल भरे रास्‍तों में

    शायद उन्‍हीं रास्‍तों में

    जिन पर चल कर तुम यहां आई हो

    क्‍या बात है सपत्ति साहब जी दिल खुश हो गया बहुत बहुत बधाई आपको

    उत्तर देंहटाएं
  9. VIJAY KUMAAR JEE,KAVABHIVYAKTI ATI
    SUNDER HAI.MEREE BADHAAEE SVEEKAAR
    KAREN.

    उत्तर देंहटाएं
  10. क्या किसी ने तुम्हे बताया नहीं कि
    परायों के घर, भीगी आंखों से नहीं जाते.....


    वाह।....

    बहुत सुन्दर भाव ....

    बधाई स्वीकारें...

    उत्तर देंहटाएं
  11. क्या किसी ने तुम्हे बताया नहीं कि
    परायों के घर, भीगी आंखों से नहीं जाते...

    अनिर्वचनीय पीड़ाजनित रोष की सशक्त अभिव्यक्ति ... उससे जो करक और जनक हो फ़िर भी उम्मीद ... अद्भुत अभिव्यक्ति .. बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  12. क्या किसी ने तुम्हे बताया नहीं कि
    परायों के घर, भीगी आंखों से नहीं जाते.....

    दिल को छू गई।

    उत्तर देंहटाएं
  13. क्या किसी ने तुम्हे बताया नहीं कि
    परायों के घर, भीगी आंखों से नहीं जाते.....

    पते की बात...

    उत्तर देंहटाएं
  14. main aap sab ke pyaar ke liye aapka dhanyawad deta hoon..

    aapka
    vijay
    http://poemsofvijay.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget