सिर्फ एक खबर है
अंजान सफर है
दर्द का घर है
यह दुनिया

सुबह सवेरे बाग किनारे
इक मरियल नौकर
मोटे बाघिल कुत्ते को
बेमन से सैर कराता है
सर्दियों में आधी रात को
जब सोई होती है सारी दुनिया
नुक्कड के ढाबे का छोटू
ठंठे पानी ओर मिट्टी राख से
घिस घिस कर, अधभूखे पेट
ढेर से जुठे बर्तन चमकाता है
कोयले की बोरियां हैं
उसका बिस्तर और रज़ाई
और आस पास के
जूठन पर पलते
दो चार कुत्ते
साथ में सो कर उसके
देते हैं उसको गर्मायी
लेटे लेटे खुली आंख से
देखता है वो कितने सपने
दुनिया की इस भरी भीड में
ढूंढता है वो कुछ खोये अपने
तारों से भरे आकाश में
अपना सितारा ढूंढता है
गोल मोल सी
इस दुनिया में जाने क्यूं
एक किनारा ढूंढता है
दूर खूमारी होने से पहले
फिर उसको उठ जाना है
मालिक के आने से पहले
चुलहा उसे जलाना है
यूहीं प्यास को पीते पीते
अरमानों पर लगा पलीते
उसको जीते जाना है
हर दिन यही दोहराना है
रोज दोपहरी एक दरोगा
इसी ढाबे पर बिन पैसे दिये
दावत रोज उडाता है
क्या वो नही जानता
बाल रोज़गार का
क्या विधान है
और क्या कोई जानता है
रोजगार छुट जाने पर
इस बाल की रोटी का क्या
प्रावधान है
जटिल प्रश्न है
नही विज्ञान है
एक प्रयत्न है
केवल संज्ञान है

सिर्फ एक खबर है
अंजान सफर है
दर्द का घर है
यह दुनिया
*****

16 comments:

  1. सुन्दर रचना के लिए बधाई !!

    उत्तर देंहटाएं
  2. क्या वो नही जानता
    बाल रोज़गार का
    क्या विधान है
    और क्या कोई जानता है
    रोजगार छुट जाने पर
    इस बाल की रोटी का क्या
    प्रावधान है
    जटिल प्रश्न है
    नही विज्ञान है
    एक प्रयत्न है
    केवल संज्ञान है

    Bahut sahi kaha aapne.

    उत्तर देंहटाएं
  3. जन संदर्भों को आपकी कविता बहुत अच्छी तरह प्रस्तुत कर रही है।

    सिर्फ एक खबर है
    अंजान सफर है
    दर्द का घर है
    यह दुनिया

    आपने भीतर तक छुवा।

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुबह सवेरे बाग किनारे
    इक मरियल नौकर
    मोटे बाघिल कुत्ते को
    बेमन से सैर कराता है
    सर्दियों में आधी रात को
    जब सोई होती है सारी दुनिया
    नुक्कड के ढाबे का छोटू
    ठंठे पानी ओर मिट्टी राख से
    घिस घिस कर, अधभूखे पेट
    ढेर से जुठे बर्तन चमकाता है

    सजीव दृश्य है। जीवंत रचना है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. mohinder ji ,

    kavita bahut sundar ban padhi hai ...ek dum zindagi ka chehra ..

    hamaare aaspaas ghatit hoti hui baaten aur un baaton ko behtreen shabdo mein piroya hai aapne ..


    सिर्फ एक खबर है
    अंजान सफर है
    दर्द का घर है
    यह दुनिया

    these lines are great ultimate work ..

    shaanddar abhivyakhti

    badhai aapko
    vijay

    उत्तर देंहटाएं
  6. रोज दोपहरी एक दरोगा
    इसी ढाबे पर बिन पैसे दिये
    दावत रोज उडाता है
    क्या वो नही जानता
    बाल रोज़गार का
    क्या विधान है
    और क्या कोई जानता है
    रोजगार छुट जाने पर
    इस बाल की रोटी का क्या
    प्रावधान है
    जटिल प्रश्न है
    नही विज्ञान है
    एक प्रयत्न है
    केवल संज्ञान है

    महसूस करने वाली कविता है। इस पर टिप्पणी मुश्किल है।

    उत्तर देंहटाएं
  7. सिर्फ एक खबर है
    अंजान सफर है
    दर्द का घर है
    यह दुनिया
    ....Bahut khoob !!

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर यथार्थ का दर्शन कराती कविता लिखी है आपने। ये कुछ ऐसे दृश्य हैं जिन्हें हम देखकर भी नहीं देखते और जानकर भी नहीं जानते। हमारी संवेदनाओं को जगाने के लिए बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत अच्छी कविता है। छोटी छोटी नित्य नजरंदाज होने वाली बातों से मिल कर यह गंभीर हृदय स्पर्शी रचना बनी है।

    उत्तर देंहटाएं
  10. बडी ही सरल रफतार और अंदाज की कविता है बहुत सहज दिल में उतरने वाले भाव और भाव से उपजती पीडा का अंदाजेबयां गजब का है रचना के लिये आपको बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  11. सामाजिक सरोकार से प्रत्यक्ष करती हुयी दार्शनिक छांव ढूँढती बढ़िया रचना ......

    उत्तर देंहटाएं
  12. ये सब कुछ हम रोज़ देखते हैँ...देख कर आँखें मूंद लेते हैँ कि कौन पड़े बेगाने पचड़े में?....

    यतार्थ को दर्शाती जीवंत कविता

    उत्तर देंहटाएं
  13. मोहिन्दर जी


    नहीं विज्ञान है
    एक प्रयत्न है
    केवल संज्ञान है

    बहुत बधाई
    सुन्दर व सफल रचना के लिए.

    उत्तर देंहटाएं
  14. Mohinder jee,achchhee kavita ke liye aapko badhaaee.

    उत्तर देंहटाएं
  15. सिर्फ संज्ञान नहीं
    विज्ञान भी है कविता
    मोह लिया इन्‍द्र जी
    आपकी कविता ने।

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget