यही है दर्द मेरा, लोग मुझको कब समझते हैं
मैं शातिर हूँ नहीं इतना कि, जितना सब समझते हैं

ज़माने को समझने में हमारी उम्र गुजरी है
मियां, हम आपकी हर बात का मतलब समझते हैं

जमूरा भूख् से जब पेट पकड़े छ्ट्पटाता है
अजब हैं लोग उसको भी महज करतब समझते हैं

तुम्हारी हर अदा जैसे कि मुझसे बात करती है
तुम्हारी आँख की बोली को मेरे लब समझते है

यकीं मानो न मानो तुमसे ही किस्मत हमारी है
खुदा भी जानता है हम तुम्हें ही रब समझते हैं
*****

17 comments:

  1. जमूरा भूख् से जब पेट पकड़े छ्ट्पटाता है
    अजब हैं लोग उसको भी महज करतब समझते हैं

    बहुत अच्छी गज़ल। अच्छे भाव।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत अच्छे दीपक जी, जमे रहिये। हर शेर अच्छा है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. जमूरा भूख् से जब पेट पकड़े छ्ट्पटाता है
    अजब हैं लोग उसको भी महज करतब समझते हैं


    aapki baat hi nirali hai
    aapki kya tarif ki jaaye
    aapka kahan aapka bolne ka andaaj aur aapki soch aapko visisth banati hai

    ye sher khas kar bhaut pasand aaya
    ismain duniya ki fitrat saaf dikhayi padti hai

    उत्तर देंहटाएं
  4. यही है दर्द मेरा, लोग मुझको कब समझते हैं
    मैं शातिर हूँ नहीं इतना कि, जितना सब समझते हैं

    जमूरा भूख् से जब पेट पकड़े छ्ट्पटाता है
    अजब हैं लोग उसको भी महज करतब समझते हैं

    अच्छी गज़ल।

    उत्तर देंहटाएं
  5. एक बहुत बढ़िया ग़ज़ल ! एक एक शे'र प्रभावित करता है। बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  6. तुम्हारी हर अदा जैसे कि मुझसे बात करती है
    तुम्हारी आँख की बोली को मेरे लब समझते है
    sundar ghazal.

    उत्तर देंहटाएं
  7. तुम्हारी हर अदा जैसे कि मुझसे बात करती है
    तुम्हारी आँख की बोली को मेरे लब समझते है
    "इस शेर ने कुछ ख़ास प्रभावित किया सुंदर..."

    Regards

    उत्तर देंहटाएं
  8. यकीं मानो न मानो तुमसे ही किस्मत हमारी है
    खुदा भी जानता है हम तुम्हें ही रब समझते हैं


    --वाह!! वाह! भव्य शेर कहा है जनाब!!

    उत्तर देंहटाएं
  9. जमूरा भूख् से जब पेट पकड़े छ्ट्पटाता है
    अजब हैं लोग उसको भी महज करतब समझते हैं

    यह शेर बढिया लगा।
    बधाई स्वीकारें।

    -विश्व दीपक

    उत्तर देंहटाएं
  10. कब नहीं कम कहें
    यही है दर्द मेरा कि लोग मुझे कम समझते हैं
    हा हा हा हा

    उत्तर देंहटाएं
  11. क्या बात है. बहुत उम्दा शेर.

    उत्तर देंहटाएं
  12. क्या बात है. बहुत उम्दा शेर.

    उत्तर देंहटाएं
  13. जमूरा भूख् से जब पेट पकड़े छ्ट्पटाता है
    अजब हैं लोग उसको भी महज करतब समझते हैं

    बढिया गज़ल....उम्दा शेर

    उत्तर देंहटाएं
  14. खूबसूरत ग़ज़ल ।
    जमूरे के करतब ने दिल छू लिया।

    प्रवीण पंडित

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget