बाजरे के खेत की
बंजर यादों पर
पसरी धूल
और धूल-धुसरित
जिंदगी का दस्तरखान।

सच कहता हूँ-
एक वह दिन
मेरे कंठ में
तेरी जिह्वा का सगा
चिरपरिचित
जूठा
सरसो के साग का निवाला
जो बन बैठा-
मेंहदी का काँटा
या फिर मेंहदी का काटा
(मैने मेंहदी नहीं देखी
इसलिए क्या पता-
मेंहदी ने काँटे पाले हैं
या तेरी नियत ने बोया था उन्हें
मेंहदी के पत्तों पर)
तेरी हथेलियों की मेंहदी का!!
और एक आज का दिन
नहीं निगले जाते मुझसे
अपने हिस्से की पहचान के
हिज्जे भी।

अब तो काहे का सरसो,
काहे का बाजरा,
काहे का तेरे दीदार का दस्तरखान,
बस तेरी हथेलियों की मेंहदी-
मेरे गले का काँटा
और आँखों के कोटरों का मवाद।

आह! बहुत हुआ!!

मेरे मन!
शुभ नहीं
बेगैरत दाँतों में फँसे
पुराने चाँद के चिथड़ो को ढोना।
आज हीं उतार दे
आँखों का सारा गुरूर,
सारा आक्रोश
अपने द्वि-कपोलों के मध्य,
एक साँस अंदर-
एक साँस बाहर,
कर ले आचमन
और खींच ला अंतड़ियों मे चुभ रहे
आँखों के घाव को,
गले के काँटे को।
आज हीं.............

16 comments:

  1. सुंदर बिम्ब और बढ़िया भावाभिव्यक्ति ......... शुभकामना अविनाश जी

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत कठिन सी, परन्तु भावुक कविता। बार बार पढ़नी पड़ी।
    घुघूती बासूती

    उत्तर देंहटाएं
  3. सच कहता हूँ-
    एक वह दिन
    मेरे कंठ में
    तेरी जिह्वा का सगा
    चिरपरिचित
    जूठा
    सरसो के साग का निवाला
    जो बन बैठा-
    मेंहदी का काँटा
    या फिर मेंहदी का काटा
    (मैने मेंहदी नहीं देखी
    इसलिए क्या पता-
    मेंहदी ने काँटे पाले हैं
    bahut sundar bhav bhari kavita.

    उत्तर देंहटाएं
  4. सच कहता हूँ-
    एक वह दिन
    मेरे कंठ में
    तेरी जिह्वा का सगा
    चिरपरिचित
    जूठा
    सरसो के साग का निवाला
    जो बन बैठा-
    मेंहदी का काँटा
    या फिर मेंहदी का काटा
    (मैने मेंहदी नहीं देखी
    इसलिए क्या पता-
    मेंहदी ने काँटे पाले हैं
    bahut sundar bhav bhari kavita.

    उत्तर देंहटाएं
  5. कई बार पढा तब समझ सकी फिर कई बार पढा और वाह वाह कर उठी।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत ही अच्छी कविता है तनहा जी, बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  7. विश्वदीपक तनहा असाधारण कवि हैं। तनहा जी के बिम्ब गुलज़ार की याद दिलाते हैं और कथ्य की मौलिकता का सानी नहीं। कविता में शब्द प्रयोग, कथ्य का उतार चढाव और स्तर यह बताता है कि कलम की दक्षता क्या होती है। आपके बिम्ब पहली नजर में कविता को जटिल करते हैं लेकिन जैसे जैसे सुलझते हैं डुबोते जाते हैं।

    ***राजीव रंजन प्रसाद

    उत्तर देंहटाएं
  8. कई बार पढने पर कुछ-कुछ समझ आई आपकी कविता लेकिन फिर भी इसे बार-बार पढना अच्छा लग रहा है। उम्मीद है कि जल्द ही समझ जाऊँगा।


    दरअसल क्या है कि स्कूल में तो कभी ध्यान ही नहीं दिया कि टीचर क्या पढा रहे हैँ और क्या नहीं?

    उत्तर देंहटाएं
  9. भावुक कविता। जो समझ न आए वह छायावादी है :)

    उत्तर देंहटाएं
  10. Kalam ki bunawat is bar thodi jatil hai............poori tarah suljha nahin paya hoon abhi tak...........lekin aapki anya rachnaaon ki tarah kavita ka uljha hua roop hi iski khoobsoorti ban pada hai.

    Uljhe hue shabdon se suljhe hue bhav nichodne par badhai.

    उत्तर देंहटाएं
  11. ऱचना धीमे धीमे मानस मे उतरती है और फिर जड़ें जमा लेती है।
    अनूठे बिम्ब , विश्व दीपक जी की अपनी विशिष्ट शैली मे।

    प्रवीण पंडित

    उत्तर देंहटाएं
  12. कविता को पढने और पसंद करने के लिए सभी गुणिजनों का शुक्रिया।

    लगता है "कान्त" जी जल्दबाजी में टिप्पणी कर गए, तभी तो उन्होंने "शुभकामना अविनाश जी" लिख दिया है। वैसे कोई बात नहीं, उन्होंने कविता पढी तो।

    -विश्व दीपक

    उत्तर देंहटाएं
  13. achi kavita ke liye badhai ..

    aapka
    vijay
    http://poemsofvijay.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget