अडचने तो आती हैं राह में
आगे बढ कर दिखलाओ
गलत राह पर अगर चलोगे
काँटे ही होंगे राहों में
फूल अगर तुमको पाना है
सच्चाई से राह बनाओ
अपनी ही तुम कलम उठाओ
और लिखो अपनी परिभाषा

भटक गये जो राह कभी तुम
नही संभल फिर पाओगे
दाग लगी चूनर को तुम
किस दरिया में धो आओगे
ख्वाब कब्र फिर बन जायेंगे
आँसू बन फिर बह जायेंगे

जीना क्या पोली उम्मीदें
आँखें खोलो भूलो नींदें
अंत हरईक मुश्किल का होगा
संदल बन कर तुम दिखलाओ
सफल हो कर तुम दिखलाओ...
**** 

20 comments:

  1. रितु जी,
    बहुत सुंदर संदेश दिया है आपने इस कविता में.

    उत्तर देंहटाएं
  2. जीना क्या पोली उम्मीदें
    आँखें खोलो भूलो नींदें
    अंत हरईक मुश्किल का होगा
    संदल बन कर तुम दिखलाओ
    सफल हो कर तुम दिखलाओ.

    आशावादी पंक्तिया हैं। अच्छी कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत अच्छी भाव की रचना है...
    प्रेरणा और अनुभव दोनों को साथ मिला कर अपनी राह बनाने का सुखद और सुंदर अहसास से भरी रचना के लिये रितु जी को बधाई..

    उत्तर देंहटाएं
  4. LIKHNA ZAAREE RAKHIYE,AAGE BADHENGEE AAP.

    उत्तर देंहटाएं
  5. प्रेरणा देती आपकी कविता पसन्द आई....

    उत्तर देंहटाएं
  6. वसंत पंचमी के दिन
    वसंत ऋतु के दिन
    सफलता ऋतु की कविता
    रितु ने गजब किया है
    सफल होकर दिखलाने के लिए
    नया जोश भर दिया है।

    उत्तर देंहटाएं
  7. दाग लगी चूनर को तुम
    किस दरिया में धो आओगे
    achchha hai...
    badhaai..

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुंदर
    बसंत पंचमी पर्व की हार्दिक शुभकामना

    उत्तर देंहटाएं
  9. रितु रंजन की कविता “सफल हो कर तु्म दिखलाओ” आत्मा के ओज और उर्जा से अनुस्यूत एक बेहतरीन कविता है जिसकी भाषा से संवेग और लय की दिप्ति प्रस्फुटित होती है जिसकी चमक से पाठक अभिभूत हुये बिना रह नहीं पाता। इस कविता में जीवन को जीने की खनक है, आगे बढ़ अपने मंजिल को पाने की लहक है। कहना होगा कि यह कविता राजीव रंजन की काव्यात्मकता को चुनौती देती हुई उसके आगे की कविता है। अगर कवयित्री का कवि-कर्म जारी रहा, तो मुझे भासित होता है कि सुभद्रा कुमारी चौहान की अग्रिम पीढियां की एक कड़ी बनने की संभावना यहाँ बीज रूप में विद्यमान है जिसे अनुकूल ऋतु चाहिये विकसित होने के लिये,बस! रितु, आप मेरी बधाई लें इस अच्छी कविता के लिये।- सुशील कुमार।

    उत्तर देंहटाएं
  10. Its very good inspirational poem.

    Keep writing Ritu Bhabhi


    -----------Anupama

    उत्तर देंहटाएं
  11. जीना क्या पोली उम्मीदें
    आँखें खोलो भूलो नींदें
    अंत हरईक मुश्किल का होगा
    संदल बन कर तुम दिखलाओ
    सफल हो कर तुम दिखलाओ...

    अच्छी कविता है रितु जी।

    उत्तर देंहटाएं
  12. सुंदर संदेश ...


    सुंदर रचना के लिये

    रितु जी !
    बधाई..

    उत्तर देंहटाएं
  13. एक आशावादी भाव लिये सुन्दर कविता के लिये बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  14. Ritu bhabhi ji ,
    namaskar aur deri se aane ke liye maafi chahunga [ internet problems ]

    Aapki kavita bahut hi prabhaavshaali hai .. jeevan ke sandesh se paripoorn hai ..

    सफल हो कर तुम दिखलाओ... in pankhiyon ne jaise praan phoonkne ka kaam kiya hai ,ham sabhi ke man men ..

    kitna sahi baat kahi hai...aapne , bhatak gaye jo raah kabhi tum , nahi sambhal phir paaonge..

    aapko dil se badhai ..
    wah ji wah ..

    उत्तर देंहटाएं
  15. आपकी रचना के माध्यम से आशाएं बलवती हुईं।

    प्रवीण पंडित

    उत्तर देंहटाएं
  16. रंग बदलती दुनियाँ में जीवन जीना आसान नही ।

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget