धरती के फूल
उग आए हैं इस बार....
राजनीति की आँधी,
और आतंक की बेमौसम
'मुंबई बरसात' से

होती हैं जड़ें बहुत गहरी
सुना है पाताल तक ...
धरती के फूल की
कंक्रीट के जंगल में
पांचसितारा संस्कृति में
परोसे जाने वाले व्यंजन ने
फैला दी है अपनी
खेत खलिहान ...
विलोपित जंगलों से लाई
खालिश देशज उर्जा
..और माटी की गंध सड़कों पर

धरती के फूल ......
यानी कुकुरमुत्ते की जाति...
उगते हैं उसी जगह
जहाँ करते हैं बहुधा 'कुत्ते'
टांग उठाने की राजनीति
गाँव की 'विलुप्त-बिजली के खम्भे' पर
प्रधान जी के 'स्कूलनुमा-बारातघर' में
अथवा 'भीड़तंत्री-गाड़ी' के
'अन्तुलाते' पहिये पर
वोटबैंक की तुच्छ बीमारी से लाचार.. ..
सत्तालोलुपता से दंशित राष्ट्र
पी सकेगा क्या ...?
इसबार ......
राष्ट्रीय स्वाभिमान का
उर्जावान पंचसितारा सूप
मिट्टी से पैदा धरती के फूल का

20 comments:

  1. गहरी सोच और चिंता को दर्शाती कविता.
    सामायिक है.और तीखे व्यंग्य का सहारा भी कविता को अर्थपूर्ण बना रहा है.
    वर्तमान राजनीती स्थिति पर एक तमाचा ही है.
    बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  2. धरती के फूल ......
    यानी कुकुरमुत्ते की जाति...
    उगते हैं उसी जगह
    जहाँ करते हैं बहुधा 'कुत्ते'
    टांग उठाने की राजनीति
    गाँव की 'विलुप्त-बिजली के खम्भे' पर
    प्रधान जी के 'स्कूलनुमा-बारातघर' में
    अथवा 'भीड़तंत्री-गाड़ी' के
    'अन्तुलाते' पहिये पर
    वोटबैंक की तुच्छ बीमारी से लाचार.. ..
    सत्तालोलुपता से दंशित राष्ट्र
    पी सकेगा क्या ...?इसबार ......
    राष्ट्रीय स्वाभिमान का
    उर्जावान पंचसितारा सूप
    मिट्टी से पैदा धरती के फूल का

    वाह! प्रभावशाली तरीके से कवि नें बात कही है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. ACHCHHEE KAVITA HAI.MEREE DAAD
    KABOOL KIJIYE,SHREEKANT JEE.

    उत्तर देंहटाएं
  4. धरती के फूल ......
    यानी कुकुरमुत्ते की जाति...
    उगते हैं उसी जगह
    जहाँ करते हैं बहुधा 'कुत्ते'
    टांग उठाने की राजनीति
    गाँव की 'विलुप्त-बिजली के खम्भे' पर
    प्रधान जी के 'स्कूलनुमा-बारातघर' में
    अथवा 'भीड़तंत्री-गाड़ी' के
    'अन्तुलाते' पहिये पर
    वोटबैंक की तुच्छ बीमारी से लाचार.. ..
    सत्तालोलुपता से दंशित राष्ट्र
    पी सकेगा क्या ...?

    इसबार ......
    राष्ट्रीय स्वाभिमान का
    उर्जावान पंचसितारा सूप
    मिट्टी से पैदा धरती के फूल का
    वाह .बहुत सुंदर प्रतीक लिए hain

    उत्तर देंहटाएं
  5. अथवा 'भीड़तंत्री-गाड़ी' के
    'अन्तुलाते' पहिये पर
    वोटबैंक की तुच्छ बीमारी से लाचार.. ..
    सत्तालोलुपता से दंशित राष्ट्र
    पी सकेगा क्या ...?इसबार .....

    कथन भी और प्रयोग भी, दोनो दृष्टि से कविता अच्छी है।

    उत्तर देंहटाएं
  6. bahut ghari soch aur chinta ko darshati hui kavita
    aaj ke samay ko sajeev karti kaviata
    bahut hi achhe shabdon ka chayan kiya hai

    bahut prabhavshali kavita rahi

    उत्तर देंहटाएं
  7. क्या बात कही है श्रीकांत जी! बहुत बढ़िया रचना है बधाई स्वीकार करे

    ज्योति

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत बढ़िया आजकल की राजनीती की सही व्याख्या है

    अमिता

    उत्तर देंहटाएं
  9. श्रीकांत जी

    इसबार ......
    राष्ट्रीय स्वाभिमान का
    उर्जावान पंचसितारा सूप
    मिट्टी से पैदा धरती के फूल.....

    इन पंन्क्तियो में अच्छा व्यग्य है तथा आजकल की परिस्थति छलकती है

    उत्तर देंहटाएं
  10. भावानुकूल शब्द-चयन और सुंदर प्रतीकों के साथ अर्थपूर्ण कविता है। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  11. श्रीकान्त जी

    जहाँ करते हैं बहुधा 'कुत्ते'
    टांग उठाने की राजनीति
    गाँव की 'विलुप्त-बिजली के खम्भे' पर
    प्रधान जी के 'स्कूलनुमा-बारातघर' में
    अथवा 'भीड़तंत्री-गाड़ी' के
    'अन्तुलाते' पहिये पर

    वाह क्या व्यंग्य है ...... फिर भी क्या इस राष्ट्र में किसी के कानो में जू तक रेंगेगी ?
    मेरी ओर से आगे की रचनाओ के लिए शुभकामनाएं !

    उत्तर देंहटाएं
  12. ..
    जहाँ करते हैं बहुधा 'कुत्ते'
    टांग उठाने की राजनीति
    गाँव की 'विलुप्त-बिजली के खम्भे' पर
    प्रधान जी के 'स्कूलनुमा-बारातघर' में
    अथवा 'भीड़तंत्री-गाड़ी' के
    'अन्तुलाते' पहिये पर

    वाह बहुत सुंदर ..........बधाई !!

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत बढ़िया रचना है श्रीकांत जी ऐसे ही लिखते रहिये !

    उत्तर देंहटाएं
  14. श्रीकांत जी
    अर्थपूरण भावभीनी रचना के लिए बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत अच्छी कविता है
    बधाई स्वीकार करें

    उत्तर देंहटाएं
  16. जहाँ करते हैं बहुधा 'कुत्ते'
    टांग उठाने की राजनीति
    गाँव की 'विलुप्त-बिजली के खम्भे' पर
    प्रधान जी के 'स्कूलनुमा-बारातघर' में
    अथवा 'भीड़तंत्री-गाड़ी' के
    'अन्तुलाते' पहिये पर

    सामयिक व्यंग्य....

    उत्तर देंहटाएं
  17. shrikaant ji ,

    bahut sundar aur maujuda haalat ko darshati hui kavita

    aapko badhai

    vijay

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget